ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRप्रदूषण से फूला 'दिल्ली का दम', 21 इलाकों में गंभीर हालात; सिर्फ इन दो जगह की हवा सांस लेने लायक

प्रदूषण से फूला 'दिल्ली का दम', 21 इलाकों में गंभीर हालात; सिर्फ इन दो जगह की हवा सांस लेने लायक

दिल्ली में लोग गंभीर श्रेणी वाली हवा में सांस ले रहे हैं। 21 इलाकों में हालात बेहद गंभीर हैं। मंगलवार को पूरे एनसीआर में सिर्फ खुर्जा और मेवात की हवा अभी सांस लेने लायक बनी हुई है।

प्रदूषण से फूला 'दिल्ली का दम', 21 इलाकों में गंभीर हालात; सिर्फ इन दो जगह की हवा सांस लेने लायक
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 15 Nov 2023 05:50 AM
ऐप पर पढ़ें

राजधानी में इक्कीस इलाकों के लोग प्रदूषण की गंभीर श्रेणी वाली हवा में सांस ले रहे हैं। इन इलाकों का वायु गुणवत्ता सूचकांक 400 से ऊपर चला गया है। यहां की हवा लोगों का दम घोंट रही है। मंगलवार को पूरे एनसीआर में सिर्फ खुर्जा और मेवात की हवा अभी सांस लेने लायक बनी हुई है। दिल्ली में इस बार मार्च से सितंबर तक वायु गुणवत्ता के लिहाज से बेहद साफ-सुथरा रहा था। इस दौरान ज्यादातर समय में वायु गुणवत्ता का स्तर 200 से नीचे रहा था। 

अक्तूबर में मानसून की वापसी के बाद से ही स्थिति एकदम से उलट गई। उत्तर पश्चिमी दिशा से आने वाली हवा और पराली का सीजन शुरू होने के साथ ही दिल्ली की हवा में प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ने लगा है। 20 अक्तूबर को दिल्ली के लोगों ने आखिरी बार साफ-सुथरी हवा में सांस ली थी। इसके बाद से लगातार ही वायु गुणवत्ता सूचकांक खराब, बेहद खराब, गंभीर और अत्यंत गंभीर श्रेणी में रहा है। 

पश्चिमी विक्षोभ के चलते 10 नवंबर को हुई बारिश से प्रदूषण का स्तर थोड़ा कम तो हुआ था, लेकिन हवा खराब श्रेणी में ही रही थी। जबकि, दीवाली के बाद से हवा फिर से बेहद खराब श्रेणी में पहुंच गई है। मंगलवार को दिल्ली के 21 इलाकों का सूचकांक 400 से ऊपर यानी गंभीर श्रेणी में रहा। दिल्ली के नेहरू नगर इलाके के लोग सबसे ज्यादा जहरीली हवा में सांस ले रहे हैं। मंगलवार की शाम छह बजे यहां का सूचकांक 445 के अंक पर रहा था।

केवल खुर्जा और मेवात की हवा सांस लेने लायक 

केंद्रीय वायु गुणवत्ता आयोग दिल्ली-एनसीआर की वायु गुणवत्ता पर निगाह रखता है। आयोग की ओर से भी दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान के शहरों का वायु गुणवत्ता बुलेटिन जारी किया जाता है।

यहां हालात गंभीर

शादीपुर 402
एनएसआईटी द्वारका 416
आईटीओ 426
मंदिर मार्ग 401
आरके पुरम 420
पंजाबी बाग 421
आईजीआई एयरपोर्ट 421
नेहरू नगर 445
द्वारका-8 434
पटपड़गंज 422
कर्णी सिंह शूटिंग रेंज 417
सोनिया विहार 414
जहांगीरपुरी 426
रोहिणी 420
ओखला 407
वजीरपुर 419
बवाना 418
पूसा 409
मुंडका 430
आनंद विहार 435
न्यू मोती बाग 420

सर्वर खराब, नहीं मिला हवा का अपडेट

सर्वर में आई खराबी के चलते दिल्लीवालों को मंगलवार को प्रदूषण के स्तर का सही अपडेट नहीं मिल पाया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मोबाइल ऐप पर 40 में से केवल नौ स्थानों का ही प्रदूषण डाटा दिखाया गया। दमघोंटू हवा के चलते आम लोगों में भी वायु गुणवत्ता सूचकांक के बारे में रियल टाइम अपडेट जानने की इच्छा पैदा हुई है, लेकिन मंगलवार को लोगों को सीपीसीबी के मोबाइल एप समीर से निराशा ही हाथ लगी। 

सुबह से ही समीर ऐप पर ज्यादातर निगरानी केद्रों की रीडिंग नहीं दिखाई गई। इन जगहों की रीडिंग की जगह पर एनए (नॉट अवलेबल) दिखाई देता रहा। हालांकि, मंगलवार शाम तक इसे ठीक कर लिया गया। दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति के एक अधिकारी ने बताया कि सर्वर में आई कुछ तकनीकी समस्या के चलते सीपीसीबी ऐप पर रीयल टाइम में डाटा अपडेट नहीं हो रहा था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें