ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRअब भी जहरीली है दिल्ली की हवा, दोबारा लागू हो सकती हैं ग्रैप तीन की पाबंदियां

अब भी जहरीली है दिल्ली की हवा, दोबारा लागू हो सकती हैं ग्रैप तीन की पाबंदियां

बैठक में कहा गया कि मौसम विभाग और आईआईटीएम पुणे के पूर्वानुमान के अनुसार शुक्रवार से प्रदूषण के स्तर में थोड़ा सुधार होने की उम्मीद है। इसे देखते हुए अभी ग्रैप तीन के प्रतिबंधों को दोबारा लगाने का

अब भी जहरीली है दिल्ली की हवा, दोबारा लागू हो सकती हैं ग्रैप तीन की पाबंदियां
Swati Kumariहिंदुस्तान,नई दिल्लीThu, 30 Nov 2023 07:26 PM
ऐप पर पढ़ें

प्रदूषण का स्तर बना रहा तो राजधानी और एनसीआर क्षेत्र में ग्रैप तीन के प्रतिबंधों की फिर से वापसी हो सकती है। केन्द्रीय वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग ने फिलहाल स्थिति पर पूरी निगरानी रखने की बात कही है। दिल्ली में प्रदूषण के स्तर में गुरुवार को बेहद तेजी से इजाफा हुआ है। इसे देखते हुए केन्द्रीय वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग की ग्रैप उप समिति की बैठक का आयोजन किया गया। इसमें प्रदूषण की स्थिति और आगे के पूर्वानुमान पर चर्चा की गई।

बैठक में कहा गया कि मौसम विभाग और आईआईटीएम पुणे के पूर्वानुमान के अनुसार शुक्रवार से प्रदूषण के स्तर में थोड़ा सुधार होने की उम्मीद है। इसे देखते हुए अभी ग्रैप तीन के प्रतिबंधों को दोबारा लगाने का फैसला नहीं किया गया। 

हालांकि, बैठक में स्थिति पर पूरी तत्परता से निगरानी करने को कहा गया है। गुरुवार जैसी स्थिति एक-दो दिन और बनी रहती है तो ग्रैप तीन की वापसी हो सकती है। बता दें कि वायु गुणवत्ता की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए दो नवंबर को ग्रैप तीन के प्रतिबंध लगाए गए थे, लेकिन बारिश के बाद प्रदूषण स्तर थोड़ा सुधरने पर 28 नवंबर को इन्हें वापस ले लिया गया था।

विपरीत मौसम के चलते ऐसे हालात बने
हालांकि, इस बार नवंबर में बीते बारह साल की तुलना में सबसे ज्यादा बारिश दर्ज हुई है। इसके चलते प्रदूषण के स्तर में हल्की कमी भी आई, लेकिन यह राहत बस थोड़े दिन मिली। महीने में हवा की औसत रफ्तार चार किलोमीटर प्रति घंटे तक की रही। इसके चलते प्रदूषक कणों का विसर्जन बेहद धीमा रहा। केन्द्रीय वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग के अनुसार, विपरीत मौसम के इन्हीं कारकों की वजह से इस बार नवंबर पहले से ज्यादा प्रदूषित रहा है। हालांकि, जनवरी से नवंबर का समग्र तौर पर अगर प्रदूषण देखें तो अभी भी यह साल पिछले छह सालों की तुलना में कम प्रदूषित रहा है।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें