DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  दिल्ली : कोविड से मरने वाले 66.6% बुजुर्ग या पहले से बीमार लोग

एनसीआरदिल्ली : कोविड से मरने वाले 66.6% बुजुर्ग या पहले से बीमार लोग

बृजेश सिंह, नई दिल्लीPublished By: Shivendra Singh
Sun, 11 Oct 2020 07:00 AM
दिल्ली : कोविड से मरने वाले 66.6% बुजुर्ग या पहले से बीमार लोग

दिल्ली में कोरोना से मरने वालों में 66.6 फीसदी बुजुर्ग या पहले से बीमार लोग हैं। डेथ ऑडिट रिपोर्ट के इन आंकड़ों पर विशेषज्ञ समिति ने चिंता जाहिर करते हुए सरकार को इसे कम करने के लिए बुजुर्गों के लिए होम आइसोलेशन खत्म करने के साथ कंटेनमेंट जोन में हाई रिस्क समूह में इनकी जांच को जरूरी बताया है। डेथ रिपोर्ट के मुताबिक कोविड से मरने वालों में 16 से 44 साल की उम्र वाले 17 फीसदी तो 15 साल से कम उम्र वाले 1.5 फीसदी लोग है।

डॉ. वी के पॉल के अध्यक्षता वाली समिति की ओर से तैयार रिपोर्ट में कहा है कि 15 सितंबर के बाद से मरने वालों की संख्या बढ़ी है। उनके मुताबिक 15 सितंबर के बाद रोजोना 30 से 40 के बीच में लोग मर रहे है। अगर बीते दस दिन के आंकड़ों पर ही नजर डाले तो 331 लोगों की मौत हो चुकी है। समिति ने कहा है कि दिल्ली में कोविड की मृत्यु दर 1.9 फीसदी है जो कि देश के राष्ट्रीय औसत मृत्यु दर 1.5 फीसदी से ज्यादा है।

समिति ने मौत व कोविड संक्रमण की दर को कम करने के लिए कई सिफारिश की है। समिति ने कंटेनमेंट जोन में रहने वाले सभी हाई रिस्क समूह वाले जैसे बुजुर्ग, श्वास की बीमारी से ग्रसित लोग, क्रोनिक (हार्ट, किडनी) बीमारी वालों को जांच कराने को कहा है। साथ ही बुजुर्गों को होम क्वारंटाइन के बजाएं कोविड केयर सेंटर या लक्षण होने पर अस्पताल में भर्ती कराने को कहा है। एंबुलेंस की रिएक्शन टाइम कम करने से लेकर मौत के कारणों की ऑडिट करने को भी कहा है।

बीते 10 दिन में 331 की कोविड से मौत
विशेषज्ञ समिति ने कोविड से मौत को लेकर कहा है कि दिल्ली में 15 सितंबर के बाद से मौत की संख्या बढ़ी है। रोजाना 30 से 40 के बीच लोगों की मौत हो रही है। अगर बीते 10 दिन का आंकड़े पर ही नजर डाले तो कुल 331 लोगों की मौत हो चुकी है, यानि औसतन रोजाना 33 लोगों की मौत हो रही है। दिल्ली में अभी मृ्त्यु दर 1.9 फीसदी है जो कि राष्ट्रीय औसत 1.5 फीसदी से ज्यादा है।

बीमार लोगों पर निगरानी, जांच के साथ स्थ्य कर्मियों प्रशिक्षित करने की सिफारिश
दिल्ली में कोविड से मौत के बढ़ते आंकड़े को देखते विशेषज्ञ समिति ने मौत के आंकड़ों की समीक्षा के बाद चिंता जाहिर की है। साथ ही सरकार को मौत के आंकड़े को कम करने के लिए कुछ सिफारिश की है। जिससे संक्रमण की दर को कम करने के साथ मौत के आंकड़ों को भी कम किया जा सके। आने वाले दिनों में ठंड को देखते हुए मरीजों के बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। ऐसे में विशेषज्ञ समिति ने मौत व संक्रमण कम करने के लिए कुछ सिफारिश की है।

  • सरकार को हाई रिस्क समूह वाले और बीमार लोगों पर निगरानी बढ़ाने और स्वास्थ्य एसेसमेंट को बढ़ाने को कहा है।
  • बुजुर्ग या जिसे पहले कोई बीमारी है उन्हें होम क्वारंटाइन में ना रखें, लक्षण चिनन्हित करके उन्हें तुरंत हालात के हिसाब से हेल्थ सेंटर पर भर्ती कराया जाएं।
  • कंटेनमेंट जोन में रहने वाले सभी पहले से बीमार, बुजुर्ग, श्वांस संबंधी बीमारी से ग्रसित लोगों को तुरंत जांच कराई जाएं। उनके स्वास्थ्य पर निगरानी रखी जाए
  • अस्पतालों में काम करने वाले स्वास्थ्यकर्मियों का समय-समय पर प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाएं। एंबुलेंस रिएक्शन टाइम बेहतर किया जाएं।
  • समय-समय पर होने वाली मौत का ऑडिट किया जाएं जिससे मौत के कारणों को चिन्हित करके कमियों को दूर किया जा सके। अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में ऑक्सीजन, आईसीयू बेड की व्यवस्था हो।

संबंधित खबरें