ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRदिल्ली में नियमों को ताक पर रखकर चल रहे 150 अस्पताल, आग से बचाव के इंतजाम नाकाफी; क्या कहती है ग्राउंड रिपोर्ट

दिल्ली में नियमों को ताक पर रखकर चल रहे 150 अस्पताल, आग से बचाव के इंतजाम नाकाफी; क्या कहती है ग्राउंड रिपोर्ट

Delhi Hospital Fire: दिल्ली की संकरी गलियों में करीब 150 अस्पताल नियमों को ताक पर रखकर चल रहे हैं। कई नर्सिंग होम अनधिकृत और रिहायशी इलाकों में चल रहे हैं, जिनके पास फायर की एनओसी नहीं है।

दिल्ली में नियमों को ताक पर रखकर चल रहे 150 अस्पताल, आग से बचाव के इंतजाम नाकाफी; क्या कहती है ग्राउंड रिपोर्ट
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 28 May 2024 06:07 AM
ऐप पर पढ़ें

राजधानी की संकरी गलियों में तमाम अस्पताल नियमों को ताक पर रखकर चल रहे हैं। करीब डेढ़ सौ नर्सिंग होम अनधिकृत और रिहायशी इलाकों में चल रहे हैं, जिनके पास फायर की एनओसी नहीं है। इनमें से कई अस्पतालों में आग से बचाव के सुरक्षा इंतजाम नाकाफी हैं। हिन्दुस्तान की टीम ने सोमवार को कई अस्पतालों का दौरा किया। इस दौरान पता चला कि यह संकरी गलियों में मौजूद हैं, जहां अस्पताल के ऊपर बिजली के तार के जाल लटके हुए हैं। कुछ अस्पताल तो ऐसी गलियों में हैं जहां दमकल या बचाव की गाड़ियों का पहुंचना भी आसान नहीं होगा।

अग्निशमन यंत्रों पर जमी थी धूल

दिल्ली के कई नर्सिंग होम में अग्निशामक यंत्र दीवार पर लटके हुए थे। फायर अलार्म और वाटर हाइड्रेंट के लिए इस्तेमाल में आने वाले पाइप भी बक्से में नजर आए, लेकिन उन पर धूल जमा होने की वजह से ऐसा लगा रहा था कि इनका काफी समय से प्रयोग नहीं हुआ है। कई अस्पताल में तो आग बुझाने के सिलेंडर भी नहीं दिखाई दिए। कुछ जगह सिलिंडर और स्प्रिंकलर जैसे उपकरण तो लगे हैं पर उनकी ठीक से देखभाल नहीं की जा रही है। ऐसे में जरूरत पड़ने पर उपकरण ठीक से काम नहीं करते।

हॉस्पिटलों में इसलिए हो सकती है अनहोनी

1. रिहायशी इलाकों में चल रहे अस्पताल घरों से सटे हुए हैं। अगर यहां आग जैसी घटनाएं होती हैं तो बड़ा जानमाल का नुकसान हो सकता है।
2. संकरी गलियों में दमकल विभाग की गाड़ियों को पहुंचने में भी दिक्कत होती है। इसलिए बचाव कार्य में देरी हो जाती है।
3. ज्यादातर रिहायशी इलाकों में चल रहे अस्पताल नियमों को ताक पर रखते हैं। संकरे रास्ते होने के कारण अस्पताल से बाहर निकलने में दिक्कत आती है।

तीन दिन की पुलिस रिमांड पर भेजे गए आरोपी

कड़कड़डूमा कोर्ट ने सोमवार को विवेक विहार स्थित बेबी केयर न्यू बॉर्न चाइल्ड अस्पताल में आग के मामले में आरोपी दो डॉक्टरों को तीन दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। पुलिस ने अदालत से तीन दिन हिरासत में लेकर पूछताछ की मांग को लेकर आवेदन दाखिल किया था, जिसे मुख्य महानगर दंडाधिकारी विधि गुप्ता आनंद ने स्वीकार कर लिया।