DA Image
8 अप्रैल, 2020|6:46|IST

अगली स्टोरी

स्वरूप नगर से एक माह पहले लापता हुए बच्चे का शव मिला, आरोपी को गिरफ्तार

missing child

1 / 2missing child

बच्चे कअगवा कर हत्या करने वाले गिरफ्तार आरोपी

2 / 2बच्चे कअगवा कर हत्या करने वाले गिरफ्तार आरोपी

PreviousNext

राजधानी के स्वरूप नगर इलाके से एक माह पहले लापता हुए बच्चे का शव मिला। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। डीसीपी के अनुसार आरोपी ने 20 लाख की फिरौती के लिए बच्चे का अपहरण किया था। इस संबंध मे हत्या का मामला दर्ज कर जांच आरंभ कर दी गई है। 

उत्तर पश्चिमी जिले की डीसीपी असलम खान के अनुसार आरोपी की पहचान अवधेश (28) के रूप में हुई है। फिलहाल पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है। जानकारी के अनुसार करण सिंह (33) परिवार के साथ नत्थुपुरा स्थित हरिजन बस्ती में रहते है। करण का अपना निजी कारोबार है। करण का बेटा आशिष उर्फ आशु गत सात जनवरी को घर से लापता हो गया। परिवार वालों ने पहले उसे इधर-उधर काफी खोजा। नहीं मिलने पर मामले की सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने मामला दर्ज कर बच्चे की तलाश शुरू की।  

पुलिस से बचने के लिए एक माह तक रखा घर में शव
पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार आरोपी अवधेश ने पूछताछ में बताया कि उसने गत सात जनवरी की शाम करीब सवा पांच बजे बच्चे को अगवा किया और अपने कमरे में ले आया। कमरे में लाते ही उसने बच्चे की हत्या कर दी  और शव को प्लास्टिक की पन्नी में डालकर उसे अटैची में डाल दिया। 

हत्या करने के बाद 20 लाख की फिरौती मांगने वाला था
पुलिस के अनुसार आरोपी अवधेश मूलत: ऐटा का रहने वाला है। वहीं पीड़ित परिवार मैनपुरी के रहने वाले है। गांव की रिश्तेदारी होने के कारण वह करण के पिता को चाचा बुलाता था। वह दिल्ली आठ साल पहले आया था। कुछ वर्ष तक वह करण के घर में रहा।  बाद में उसने करण के पड़ोस में किराए का मकान लिया और रहने लगा। वहीं पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह हत्या करने के बाद पीड़ित परिवार से 20 लाख रुपए मांगने वाला था। उसे पता था कि इतनी रकम पीड़ित परिवार आराम से दे देंगे। क्योकि करण की तीन दुकाने भी थी।  

बहनों की करना चाहता था शादी 
पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसकी तीन बहने है। वह तीनों बहनों की शादी करना चाहता था। लेकिन वह काफी समय से बेरोजगार था। इसलिए उसने इस वारदात को अंजाम दिया। रुपए मिलने के बाद वह अपनी बहनों की शादी करता। 

खुदकों बताया था सीबीआई में 
पुलिस जांच में पता चला कि आरोपी अवैधश ने करण के परिवार वालों को बताया था कि वह सीबीआई में कार्यरत है। वह सुबह ही घर से निकल जाता था और रात को घर आता था। पूरी कॉलोनी वाले उसे सीबीआई का अफसर मनाते थे। 

सीसीटीवी के कारण नहीं फेंक सका बच्चे का शव 
पुलिस के अनुसार कुछ माह पहले ही भलस्वा डेयरी से भी एक बच्चा गायब हुआ था। जिसे खोजने के लिए पुलिस ने इलाके में लगे सीसीटीवी की मदद ली थी। पुलिस ने उक्त सीसीटीवी की फुटेज से बच्चे को खोज भी निकला था। आरोपी  जिस कॉलोनी में रहता है। वहां काफी सारे सीसीटीवी लगे हुए थे। आरोपी को डर था कि वह अगर शव को लेकर बाहर जायेगा तो वह सीसीटीवी फुटेज में कैद हो जायेगा और पुलिस उससे भी पूछताछ करेगी। इस डर से उसने बच्चे के शव को घर में ही रखा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:dead body found of Missing child