DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  खुशखबरी : दिल्ली में तीन जगहों पर छोटे फ्लैट और मकान बनाएगा डीडीए, जल्द जारी होंगे टेंडर

एनसीआरखुशखबरी : दिल्ली में तीन जगहों पर छोटे फ्लैट और मकान बनाएगा डीडीए, जल्द जारी होंगे टेंडर

नई दिल्ली। वरिष्ठ संवाददाताPublished By: Praveen Sharma
Fri, 11 Jun 2021 10:47 AM
खुशखबरी : दिल्ली में तीन जगहों पर छोटे फ्लैट और मकान बनाएगा डीडीए, जल्द जारी होंगे टेंडर

दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) छोटे परिवारों के लिए राजधानी में तीन स्थानों पर छोटे और सस्ते फ्लैट-मकान बनाएगा। ये फ्लैट 60-60 वर्ग मीटर के होंगे। डीडीए ने ई-नीलामी के जरिये फ्री होल्ड आधार पर आवासों के निर्माण के लिए कुछ ग्रुप रेजिडेंशियल प्लॉटों के निपटान की अनुमति दी है। अधिकारियों के मुताबिक, पहले चरण में दिलशाद गार्डन, जहांगीरपुरी और द्वारका में फ्लैट बनेंगे। इस योजना का अध्ययन कराकर जल्द टेंडर जारी किए जाएंगे।

इनके लिए योजना : यह छोटे और एकल परिवार, केवल वृद्ध दंपति निवासों की वजह से उत्पन्न हुए 40-60 वर्गमीटर किफायती आवासों की मांग को पूरा करेगा। यह आवास नेशनल हाउसिंग पॉलिसी के अनुरूप हैं।

दुकानों पर 55% तक छूट : डीडीए ने दुकानों के मूल्य निर्धारण नीति में बदलावों को भी मंजूरी दी है। नई नीति के तहत इन बिल्ट-अप यूनिट्स का रिजर्व प्राइस करीब 30से 55% तक घटा दिया गया है। संशोधित दरों वाली निर्मित दुकानें अगस्त 2021 में निर्धारित ई-नीलामी का हिस्सा होंगी।

दिल्ली मास्टर प्लान में आपदा के समय प्रभावी कार्रवाई के लिए डीडीआरएफ गठित करने का प्रस्ताव

वर्ष 2041 के लिए दिल्ली मास्टर प्लान के मसौदे में प्रस्ताव रखा गया है कि दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) अप्रत्याशित समय में या आपदा के दौरान प्रभावी कार्रवाई करने के लिए अत्याधुनिक दिल्ली आपदा कार्रवाई बल (डीडीआरएफ) का गठन कर सकता है।

दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) द्वारा तैयार किया गया मसौदा अब आम लोगों से आपत्तियों तथा सुझावों के लिए सार्वजनिक है। इस मसौदे में सुझाव दिया गया है कि दिल्ली के लिए एक आपदा प्रतिक्रिया प्रोटोकॉल विकसित किया जाएगा, जिसमें विभिन्न प्रकार की आपदाओं के दौरान अपनाई जाने वाली प्रक्रिया को रेखांकित किया जाएगा।

इसमें कहा गया है कि सभी सेवा प्रदान करने वाली एजेंसियां यह सुनिश्चित करने के लिए आपातकालीन प्रतिक्रिया योजनाएं और दिशानिर्देश तैयार करेंगी कि आपदा के समय इन आवश्यक सेवाओं पर न्यूनतम प्रभाव पड़े। 

संबंधित खबरें