DA Image
18 अक्तूबर, 2020|6:53|IST

अगली स्टोरी

कोविड-19: रामलीला स्थलों पर पसरा सन्नाटा, टीवी पर होगा पिछले साल के आयोजन का प्रसारण

ramleela

त्यौहारों का समय आ चुका है लेकिन कोरोना के कहर के बीच इस साल बहुत कुछ बदला हुआ है। दिल्ली के तीन बड़े और जाने माने रामलीला कार्यक्रम रद्द होने की वजह से शनिवार को नवरात्र के पहले दिन भी राजधानी में इन कार्यक्रम स्थलों पर सन्नाटा पसरा रहा।
जबकि पिछले वर्षों तक लोग लाल किला लॉन में मेला, झूलों और भोजन का आनंद ले रहे थे।

खाली मैदानों की ओर इशारा करते हुए, संतोष कुमार नाम के एक हॉकर, जो तीन दशकों से क्षेत्र में अपने माल बेच रहे हैं, ने कहा, “नवरात्रि समारोह के दौरान, हजारों लोग रामलीला के प्रदर्शन को देखने के लिए आते रहे हैं, जिससे अच्छी आमदनी होती थी। चूंकि इस वर्ष कोविड -19 के कारण उत्सव रद्द कर दिया गया है, हम जो कुछ कमाते थे, उससे आधे से भी कम कमाएंगे।

दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (डीडीएमए) ने 11 अक्टूबर को एक आदेश जारी किया था, जिसमें शहर में कोरोना नियमों का पालन करते हुए नवरात्री और दुर्गा पूजा के समारोहों की अनुमति दी गई थी। उपस्थित होने वाले लोगों को सीमित, और मेलों और जुलूसों को प्रतिबंधित किया गया था।

दिल्ली में अब तक 327,718 कोविड -19 मामले आए हैं, जिनमें से 298,853 ठीक हो चुके हैं और 5,981 लोगों की मौत हुई है। शनिवार को यहां 22,884 सक्रिय मामले थे। कई प्रमुख समितियों ने कहा कि इस साल कोई रामलीला नहीं होगी। दूसरों ने कहा कि उनके पास मेहमानों की संख्या सीमित है और वे बुजुर्ग नागरिकों और बच्चों को नहीं आने के लिए कहेंगे।

शनिवार को, कई जगहों पर प्रतीकात्मक समारोह हुए। लाल किला मैदान में रामलीला का आयोजन करने वाली धर्मिक लीला समिति के महासचिव धीरज धर ​​गुप्ता ने कहा, “हम 1923 से रामलीला का आयोजन कर रहे हैं - एकमात्र अपवाद 1965 में भारत-पाक युद्ध के कारण हुआ था। हमने शनिवार को सीमित संख्या में उपस्थित लोगों के साथ एक गणेश पूजा की। ” गुप्ता ने कहा, वे 18 से 26 अक्टूबर तक रात 8.30 बजे टेलीविजन पर पिछले साल की रामलीला के प्रदर्शन का प्रसारण करेंगे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:covid 19 Silent silence at Ramlila sites last year s event will be broadcast on TV