DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस प्रवक्ता विकास चौधरी हत्याकांड : SIT को मिली एक और बड़ी सफलता

 

कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता विकास चौधरी हत्याकांड में अपराध जांच शाखा की दो टीमों ने अलग-अलग स्थानों पर छापेमारी कर सात बदमाशों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों पर विकास चौधरी की रेकी करने और हत्यारोपियों को शरण देने का आरोप है। पुलिस कल इनको अदालत में पेश करेगी और सुनील की रिमांड भी डालेगी। इनमें चार ने रेकी की और तीन ने शरण दी थी।

गिरफ्तार आरोपियों की पहचान रोहतक के कबूलपुर गांव निवासी धर्मजीत उर्फ काला, नवीन उर्फ लंबू, मूल रूप से करनाल हाल सोनीपत निवासी अमरदीप उर्फ हन्नी, भिवानी के अंतर्गत वासकुहाड़ निवासी सुनील उर्फ मोनू, बहादुरगढ़ के जटवाड़ा मौहल्ला निवासी सूरज के रूप में हुई है। 

आरोपियों को सूरजकुंड इलाके से गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा नहरपार के फरीदपुर गांव निवासी सौरभ और अतुल को भी गिरफ्तार किया गया है। फरीदपुर गांव निवासी दोनों आरोपियों को तिगांव के नजदीक से कार के साथ गिरफ्तार किया गया है। 

आरोपियों के कब्जे से एक पिस्टल, छह कारतूस और कट्टा मिला है। फरीदपुर निवासी दोनों आरोपियों ने गुरुग्राम और राजस्थान में आठ-10 कार लूट की वारदात कबूल किया है।

तीन गाड़ियों में सवार थे नौ बदमाश : पुलिस आयुक्त संजय कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया कि विकास चौधरी की हत्या के वक्त घटनास्थल पर तीन गाड़ियों में कुल नौ बदमाश मौजूद थे। इनमें से एक गाड़ी को गुरुग्राम से लूटा गया था। एसएक्सफॉर गाड़ी में पांच बदमाश सवार थे। इस गाड़ी में से दो शूटर ने उतरकर विकास चौधरी पर गोलियां बरसाई थीं। इस गाड़ी को सचिन चला रहा था। 

वहीं एक अन्य गाड़ी में घटनास्थल से दूर अतुल, सौरभ और सुनील अन्य कार में सवार थे। वे दूर खड़े होकर विकास चौधरी पर गोली चलाने वाले अपने साथियों की हिफाजत के लिए खड़े थे] ताकि विकास चौधरी के बाउंसर मौके पर आएं तो उनसे निपट सकें। इस मामले में गिरफ्तार आरोपी नवीन उर्फ लंबू और धर्मजीत उर्फ काला और सूरज ने वारदात में शामिल आरोपियों को शरण दी थी। गिरफ्तार आरोपियों में से एक अतुल, सौरभ, सुनील और अमरदीप उर्फ हन्नी घटना के वक्त मौके पर मौजूद थे।

कौशल ने सचिन को सौंपा था हत्या का जिम्मा

गैंगस्टर कौशल को विकास चौधरी हत्याकांड को अंजाम देने के लिए फरीदाबाद के लोकल बदमाश की जरूरत थी। इसके लिए उसने खेड़ी निवासी सचिन को जिम्मा सौंप दिया था। सचिन ने विकास चौधरी की रेकी करने का जिम्मा फरीदपुर निवासी सौरभ और अतुल को सौंप दिया था। आरोपियों ने हत्याकांड से पहले विकास चौधरी के जिम और घर पर आने-जाने की रेकी की थी।

सज्जन उर्फ भोलू है कौशल का दाहिना हाथ

गैंगस्टर कौशल के गिरोह में शामिल झज्जर के विशान गांव निवासी सज्जन उर्फ भोलू की पुलिस को सरगर्मी से तलाश है। आरोपी कौशल का दाहिना हाथ माना जाता है। उस पर हत्या के मामले हैं। एसीपी क्राइम अनिल यादव ने बताया कि इस बदमाश ने कौशल के विरोधी गैंग छेलू का सफाया करने में मुख्य भूमिका निभाई थी। कौशल के प्रत्येक बड़े काम को भोलू ही अंजाम देता है।

गौरतलब है कि 27 जून 2019 की सुबह कार सवार बदमाशों ने सेक्टर-9 हुडा मार्केट स्थित जिम के बाहर कांग्रेस प्रवक्ता विकास चौधरी की ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर हत्या कर दी थी। हमलावरों ने करीब 20 राउंड गोलियां चलाई थीं। गोलियां विकास की गर्दन, छाती व शरीर के अन्य हिस्सों में लगी थीं। पुलिस ने मौके से 16 राउंड चलीं गोलियों के खोल बरामद किए थे। 

घटना के बाद पुलिस आयुक्त संजय कुमार ने इस हत्याकांड की गुत्थी को सुलझाने के लिए पांच टीमें बनाई थीं। मामले की जांच कर रही क्राइम ब्रांच ने इस हत्याकांड की गुत्थी सुलझाते हुए गैंगस्टर कौशल की पत्नी रोशनी व उसके नौकर नरेश उर्फ चांद को गुरुग्राम से गिरफ्तार कर लिया था। 

विकास चौधरी पर यूपी समेत फरीदाबाद के थानों में दर्ज थे 13 मामले

विकास चौधरी हत्याकांड में गैंगस्टर कौशल की पत्नी और नौकर गिरफ्तार

फरीदाबाद में बदमाशों ने कांग्रेस प्रवक्‍ता विकास चौधरी को गोलियों से भूना

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Congress spokesman Vikas Chaudhary Murder Case: SIT arrested seven Criminals