ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCRप्रियंका और राहुल संग कांग्रेस नेताओं ने दिल्ली में निकाली 'आजादी गौरव यात्रा', सोनिया का सरकार पर निशाना

प्रियंका और राहुल संग कांग्रेस नेताओं ने दिल्ली में निकाली 'आजादी गौरव यात्रा', सोनिया का सरकार पर निशाना

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आरोप लगाया कि एक 'आत्म-मुग्ध' सरकार स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान को तुच्छ साबित करने पर तुली हुई है और कांग्रेस राजनीतिक लाभ के लिए ऐसे प्रयासों का विरोध करेगी।

प्रियंका और राहुल संग कांग्रेस नेताओं ने दिल्ली में निकाली 'आजादी गौरव यात्रा', सोनिया का सरकार पर निशाना
Praveen Sharmaनई दिल्ली | पीटीआईMon, 15 Aug 2022 04:35 PM
ऐप पर पढ़ें

आजादी के 75 साल पूरे होने पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और कई अन्य वरिष्ठ नेताओं ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सोमवार को पार्टी मुख्यालय से 'गांधी स्मृति' तक 'आजादी गौरव यात्री' (Azadi Gaurav Yatra) निकाली। इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आरोप लगाया कि एक "आत्म-मुग्ध" सरकार स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान को तुच्छ साबित करने पर तुली हुई है और कांग्रेस राजनीतिक लाभ के लिए किए गए ऐसे प्रयासों का कड़ा विरोध करेगी।

कांग्रेस नेताओं ने 30 जनवरी मार्ग स्थित 'गांधी स्मृति' पहुंचकर बापू को श्रद्धांजलि अर्पित की। यह वही स्थान है जहां 30 जनवरी, 1948 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की गोली मारकर हत्या की गई थी। कांग्रेस नेताओं ने देश की एकता के लिए काम करने का संकल्प भी लिया। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के कोरोना वायरस से संक्रमित होने के कारण, सोमवार को पार्टी की वरिष्ठ नेता अंबिका सोनी ने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के मुख्यालय में ध्वजारोहण किया।

सोनिया गांधी ने एक बयान जारी कर देशवासियों को शुभकामनाएं दीं और केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि देश ने आजादी के बाद 75 वर्षों में अनेक उपलब्धियां हासिल कीं, लेकिन आज की 'आत्ममुग्ध सरकार' स्वतंत्रता सेनानियों के महान बलिदानों और देश की गौरवशाली उपलब्धियों को तुच्छ साबित करने पर तुली हुई है।

सोनिया ने कहा कि पिछले 75 साल में देश ने अपने प्रतिभाशाली लोगों की कड़ी मेहनत के बल पर विज्ञान, शिक्षा, स्वास्थ्य और सूचना प्रौद्योगिकी सहित सभी क्षेत्रों में अंतरराष्ट्रीय पटल पर एक अमिट छाप छोड़ी है। भारत ने अपने दूरदर्शी नेताओं के नेतृत्व में एक ओर जहां स्वतंत्र, निष्पक्ष और पारदर्शी चुनाव व्यवस्था स्थापित की, वहीं प्रजातंत्र और संवैधानिक संस्थाओं को मजबूत बनाया। इसके साथ-साथ भारत ने भाषा-धर्म-संप्रदाय की बहुलतावादी कसौटी पर सदैव खरा उतरने वाले एक अग्रणी देश के रूप में अपनी गौरवपूर्ण पहचान बनाई है।

देश की गौरवशाली उपलब्धियों को तुच्छ साबित करने पर तुली सरकार : सोनिया

उन्होंने कहा, ''हमने बीते 75 वर्षों में अनेक उपलब्धियां हासिल कीं, लेकिन आज की आत्ममुग्ध सरकार हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के महान बलिदानों और देश की गौरवशाली उपलब्धियों को तुच्छ साबित करने पर तुली हुई है, जिसे कदापि स्वीकार नहीं किया जा सकता है। राजनीतिक लाभ के लिए ऐतिहासिक तथ्यों पर कोई भी गलतबयानी तथा गांधी-नेहरू-पटेल-आजाद जी जैसे महान राष्ट्रीय नेताओं को असत्यता के आधार पर कटघरे में खड़े करने के हर प्रयास का भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पुरजोर विरोध करेगी।''

कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित ध्वजारोहण कार्यक्रम में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के बगल में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और आनंद शर्मा खड़े थे। उनके अलावा प्रियंका गांधी, केसी वेणुगोपाल, जयराम रमेश मोहसिना किदवई और कई अन्य नेता भी मौजूद थे।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ''आजादी के 75 साल पूरे होने पर आज कांग्रेस मुख्यालय में ध्वजारोहण समारोह में शामिल हुआ, यह एक ऐतिहासिक और यादगार पल है। आज हम आजादी के 76वें वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं, हमें मिलकर एक नई ऊर्जा का संचार कर, देशहित के कार्यों को नई दिशा और गति देनी होगी। जय हिंद।''

प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा, ''बलिदानों, विचारों, भारत की विशाल प्राचीन संस्कृति, संविधान के मूल्यों, विकास की पींगें बढ़ाने के सामूहिक प्रयासों ने देश की मजबूत नींव रखी। आजाद भारत का 75 साल का सफर इस मजबूत नींव का गवाह है। स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।''

उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि हमें उन शहीदों को याद करना चाहिए जो देश की आजादी के लिए लड़े। हम यह निर्णय लें कि देश के लिए और देश को आगे बढ़ाने के लिए काम करेंगे। प्रियंका गांधी भी पिछले दिनों कोविड से संक्रमित हो गई थीं। पार्टी के कई अन्य नेता इन दिनों कोरोना वायरस से संक्रमित हैं। 

epaper