DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मांझे से मौत : रक्षाबंधन पर बहनों से बिछड़ा इकलौता भाई, 200 पक्षी भी मरे

1 / 3मानव शर्मा (फाइल फोटो)

2 / 3टीकाराम, डिलीवरी ब्वॉय

3 / 3चांदनी चौक के पक्षी अस्पताल में घायल कबूतर का इलाज करते डॉक्टर। हिन्दुस्तान

PreviousNext

दिल्ली के पश्चिम विहार ईस्ट इलाके में गुरुवार दोपहर चाईनीज मांझे की चपेट में आने से स्कूटी सवार सिविल इंजीनियर मानव शर्मा (22) की मौत हो गई। पुलिस लापरवाही से मौत का मामला दर्ज कर घटना की जांच कर रही है। 

पुलिस के अनुसार, मानव बुध विहार में रहता था। गुरुवार को वह अपनी दोनों बहनों मोनिका और स्नेहा से राखी बंधवाने के बाद हरिनगर स्थित अपनी मौसेरी बहनों से राखी बंधवाने स्कूटी से जा रहा था। जिद करने पर उसने अपनी बहन मोनिका और स्नेहा को भी साथ ले लिया। दोपहर 1 बजे मानव स्कूटी से पश्चिम विहार स्थित एलीवेटेड फ्लाईओवर पर पहुंचा, तभी एक उड़ती हुई पतंग के मांझे ने उसका गला चीर दिया। इससे उसके गले से खून का फव्वारा फूट पड़ा, लेकिन वह रफ्तार कम करते हुए स्कूटी सड़क किनारे खड़ी करने लगा, तभी स्कूटी गिर गई। भाई की हालत देखकर मोनिका ने राहगीरों की मदद से उसे बालाजी एक्शन अस्पताल पहुंचाया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

घर का एकमात्र सहारा था

मानव दो बहनों का इकलौता भाई था। रक्षाबंधन के दिन जिन बहनों ने भाई की लंबी उम्र की दुआ मांगी थी, उसी दिन उसकी मौत हो गई। इसके चलते उसकी बहनों और मां का रो-रोकर बुरा हाल है। परिजनों के मुताबिक, मानव के पिता अशोक शर्मा की भी कुछ समय पहले मौत हो चुकी है। पिता की मौत के बाद से परिवार की जिम्मेदारी मानव ही उठा रहा था। मगर पतंग की एक डोर ने उसकी जिंदगी ही छीन ली। इसके बाद परिवार के सामने जीवन यापन का संकट आ खड़ा हुआ है।

डिलीवरी ब्वॉय का गला कटा, 20 टांके लगे

चिराग दिल्ली इलाके में गुरुवार को मांझे की चपेट में आने से एप आधारित ऑनलाइन फूड डिलीवरी कंपनी जोमैटो के बाइक सवार डिलीवरी ब्वॉय का गला कट गया। उसके मुंह पर भी चोट आई है। इससे वह बीच सड़क बेहोश हो गया। उसे तत्काल अस्पताल ले जाया गया, जहां उसके मुंह और गले पर 20 टांके आए हैं। घटना उस वक्त हुई जब पीड़ित ऑर्डर लेकर डिलीवरी करने जा रहा था। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

जान जाते-जाते बची

पीड़ित डिलीवरी ब्वॉय टीकाराम ने बताया कि वह उत्तर प्रदेश के अयोध्या का रहना वाला है और यहां दक्षिणी दिल्ली के ही राजपुर इलाके में रहता है। वह रक्षाबंधन पर किसी के घर खाना पहुंचाने जा रहा था। चिराग दिल्ली के पास अचानक एक पतंग का मांझा उसके गले में फंस गया और वह सड़क पर गिर गया। उसने कहा कि अच्छा हुआ कि पीछे से कोई वाहन नहीं आ रहा था, वरना उसकी जान भी जा सकती थी।

नहीं मिली मदद

टीकाराम ने बताया कि गला कटते ही उसे चक्कर आ गए और वह बेहोश होकर सड़क पर गिर गया। काफी देर बाद उसे होश आया। इस दौरान लोग सड़क से गुजरते रहे, लेकिन किसी ने उसकी मदद नहीं की। स्वतंत्रता दिवस के चलते सड़क पर पुलिस वाले भी मौजूद थे, लेकिन उन्होंने भी कोई मदद नहीं की। टीकाराम ने फोन करके अपने भाई को बुलाया, जो उसे मालवीय नगर के सरकारी अस्पताल ले गया।

बेजुबानों पर भी कहर 

नई दिल्ली (व. सं.) | स्वतंत्रता दिवस के दिन बीते चार दिनों में चाईनीज मांझे की चपेट में आने से करीब 200 पक्षियों की मौत हो गई और 550 से अधिक घायल हो गए। घायल पक्षियों का चांदनी चौक स्थित दिगंबर जैन लाल मंदिर के चैरिटी बर्ड्स अस्पताल में इलाज किया जा रहा है। अस्पताल के चिकित्सकों का कहना है कि घायल पक्षियों में लगभग 200 ऐसे हैं, जो बुरी तरह जख्मी हैं और वे अब कभी उड़ नहीं सकेंगे। 

कबूतर सबसे अधिक : मांझे की चपेट में आकर घायल हुए पक्षियों में से लगभग आधे कबूतर हैं। वहीं, चैरिटी बर्ड्स अस्पताल में एक जख्मी सारस का भी इलाज चल रहा है। अस्पताल के मैनेजर सुनील जैन का कहना है कि 15 अगस्त को उनके यहां सर्वाधिक 270 घायल पक्षी पहुंचे हैं। कुछ पक्षी ऐसे भी हैं, जिनके चाइनीज मांझे के कारण पंख अलग हो गए हैं। बीते 12 अगस्त से 16 अगस्त तक 550 से ज्यादा घायल पक्षी अस्पताल पहुंचे।

17 एफआईआर दर्ज

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि बाहरी दिल्ली में पुलिस ने चीनी मांझे की बिक्री को रोकने के लिए गुरुवार को अभियान भी चलाया गया। प्रतिबंधित मांझे की बिक्री करते हुए पाए जाने पर 17 एफआईआर दर्ज की गईं और छह लोगों को गिरफ्तार किया गया।

प्रतिबंध के बाद बिक्री कैसे

दिल्ली में प्रतिबंध के बाद भी चाइनीज मांझा बिक रहा है। दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश पर अगस्त, 2016 में सरकार ने चाइनीज मांझे की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया था। साथ ही पुलिस को निर्देश दिया था कि चाइनीज मांझे को बेचने वालों पर नजर रखें और कार्रवाई करें। इसके बावजूद इसकी बिक्री धड़ल्ले से जारी है। 

चीनी मांझे के कारण पहले भी हुए हादसे

2 अप्रैल, 2019 तिमारपुर में मांझे की चपेट में आने से बाइक सवार युवक का गला कटा। अस्पताल में मौत

19 जुलाई, 2018 सोनिया विहार में पतंग उड़ाने के दौरान हाईटेंशन तार की चपेट में आने से नाबालिग सहित दो लोग झुलसे

18 जुलाई, 2018 लक्ष्मी नगर में मैनेजमेंट के एक छात्र का गला मांझा फंसने के कारण कट गया, घायल ने किसी तरह गले से मांझे को निकाला

17 अगस्त, 2016 रानीबाग इलाके में तीन साल की बच्ची की पतंग का मांझा लगने से मौत। बच्ची परिवार के साथ घर जा रही थी, रास्ते में हादसा हुआ

17 अगस्त, 2016 पुरानी दिल्ली में बाइक सवार युवक की गर्दन मांझे में फंस गई। अस्पताल में मौत

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Civil Engineer and 200 birds died due to Chinese Manjha in delhi on Independence Day