DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  सत्येंद्र जैन बोले- केन्द्र ही अंतरराष्ट्रीय बाजार से कोविड-19 वैक्सीन खरीदे, राज्यों के खरीदने से देश की बदनामी होगी

एनसीआरसत्येंद्र जैन बोले- केन्द्र ही अंतरराष्ट्रीय बाजार से कोविड-19 वैक्सीन खरीदे, राज्यों के खरीदने से देश की बदनामी होगी

नई दिल्ली। भाषाPublished By: Praveen Sharma
Thu, 13 May 2021 06:56 PM
सत्येंद्र जैन बोले- केन्द्र ही अंतरराष्ट्रीय बाजार से कोविड-19 वैक्सीन खरीदे, राज्यों के खरीदने से देश की बदनामी होगी

दिल्ली की आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने केन्द्र सरकार से अनुरोध किया है कि राज्यों के बजाय वह ही अंतर्राष्ट्रीय बाजार से टीके खरीदे। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने गुरुवार को यह बात कही। जैन ने कहा कि उन्होंने केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन के साथ हुई वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान विभिन्न मुद्दों पर बात की।

उन्होंने कहा कि केन्द्र को टीके के दाम तय करने चाहिए। कंपनियों को संकट के दौरान भारी मुनाफा कमाने की छूट नहीं दी जा सकती। मंत्री ने कहा कि उन्होंने डॉ. हर्षवर्धन से अनुरोध किया कि टीकों का उत्पादन बढ़ाने के लिए इनका फॉर्मूला अन्य कंपनियों के साथ साझा किया जाना चाहिए। जैन ने कहा कि हमें टीकों का ग्लोबल टेंडर आमंत्रित नहीं करनी चाहिए। राज्य अलग से निविदा आमंत्रित क्यों करें? इससे देश की बदनामी होगी।

दिल्ली में 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए टीकों का 2-3 दिन का स्टॉक

वहीं, 'आप' नेता आतिशी ने गुरुवार को कहा कि दिल्ली में 45 साल से अधिक आयु के लोगों और प्रमुख कर्मियों के लिए कोरोना वैक्सीन का दो-तीन दिन का ही स्टॉक बचा है। उन्होंने कहा कि 18 से 44 साल के लोगों के लिए राजधानी में कोविडशील्ड टीकों की आठ दिन की डोज उपलब्ध है। आतिशी ने कहा कि दिल्ली में 45 साल से अधिक उम्र के लोगों, स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए कोवैक्सीन टीकों का तीन दिन और कोविशील्ड टीकों का दो दिन का स्टॉक बचा है। हम इस श्रेणी के लोगों के लिए सरकार से और अधिक डोज उपलब्ध कराने का अनुरोध करते हैं।

आतिशी ने कहा कि दिल्ली को 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों, स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स के कर्मियों के लिए अब तक 43.20 लाख डोज मिली हैं। इनमें से 40.29 लाख डोज का इस्तेमाल किया जा चुका है।

दिल्ली में 18 साल से अधिक उम्र के लिए कोवैक्सीन टीकों का भंडार पहले ही खत्म हो चुका है। लिहाजा भारत बायोटेक द्वारा बनाया गया यह टीका लगा रहे अधिकतर टीकाकरण केन्द्र अगले आदेश तक अस्थायी रूप से बंद हैं। आतिशी ने कहा कि दिल्ली में बुधवार को 74,448 लोगों को टीके लगाए गए। उन्होंने कहा कि अस्पतालों में बुधवार और शुक्रवार को बच्चों का नियमित टीकाकरण किया जाता है। लिहाजा 12 मई को टीकाकरण केन्द्रों की संख्या कम थी। बुलेटिन के अनुसार, 16 जनवरी को टीकाकरण अभियान शुरू होने के बाद से दिल्ली में विभिन्न श्रेणियों के 41.64 लाख लाभार्थियों को टीके लगाए जा चुके हैं। 

दिल्ली में कोरोना से 308 लोगों की मौत, 10489 नए केस

दिल्ली में गुरुवार को कोविड-19 के 10,489 नए मामले आए तथा संक्रमण से 308 और लोगों की मौत हो गई। राजधानी में संक्रमण दर 14.24 प्रतिशत है, जो पिछले एक महीने में सबसे कम है। स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि संक्रमण के नए मामले 10 अप्रैल के बाद से सबसे कम हैं। उस वक्त 7,897 लोग संक्रमित पाए गए थे। वहीं, 13 अप्रैल के बाद से संक्रमण दर सबसे कम है। दिल्ली में 13 अप्रैल को संक्रमण दर 13.1 प्रतिशत थी।

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली में बुधवार को 300 से अधिक लोगों की मौत हुई और संक्रमण के 13,287 मामले आए, जबकि संक्रमण दर 17 प्रतिशत रही। आंकड़ों के मुताबिक, 22 अप्रैल को संक्रमण दर सर्वाधिक 36.2 प्रतिशत रही। वहीं, तीन मई को सबसे ज्यादा 448 लोगों की मौत हुई। 

संबंधित खबरें