case registered in court on the pretext of potholes on roads in delhi pollution accident and traffic jam are included as factors - सड़कों के गड्ढों को लेकर कोर्ट में केस, जाम-हादसों और प्रदूषण को बनाया मुद्दा DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सड़कों के गड्ढों को लेकर कोर्ट में केस, जाम-हादसों और प्रदूषण को बनाया मुद्दा  

potholes on road

देश की राजधानी दिल्ली के द्वारका और पालम में दो अलग-अलग सड़कों पर पड़े गड्डों ने इलाके के लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। इन गड्डों की वजह से हो रही दुर्घटनाओं और सरकारी महकमों की उदासीनता से परेशान लोगों ने अदालत का दरवाजा खटखटाया है। अदालत 2 फरवरी को मामले में सुनवाई करेगी।

द्वारका स्थित सीनियर सिविल जज न्याय बिंदु की अदालत में अधिवक्ता राजेश कौशिक ने याचिका दायर की है। सड़क पर पड़े इन गड्डों से हो रही दिक्कतों का जिक्र करते हुए याचिका में कहा गया है कि इलाके के लोग इससे इस कदर तंग आ चुके हैं कि अब वह खुद के पैसे से इन गड्डों को भरने की तैयारी कर रहे हैं। याचिका मेंआरोप लगाया गया है कि प्रशासन को लगातार दो साल से इस बारे में शिकायत की जा रही है। लेकिन, किसी के कान पर जूं नहीं रेंग रही।.

सात से आठ इंच गहरे 

याचिका में कहा गया है कि पालम मेट्रो स्टेशन से रेलवे लाइन की तरफ जाने वाली सड़क पर सात सौ से आठ सौ मीटर की दूरी पर जगह-जगह गड्डे हैं। इन गड्डों की गहराई सात से आठ इंच है। यही हाल पालम गांव से द्वारका की तरफ जाने वाली सड़क का है। यहां भी दो-दो कदम की दूरी पर गहरे-गहरे गड्डे हो रखे हैं।.

 

Republic Day: सुरक्षा कारणों से सफर में हो सकती है मुश्किल

प्रदूषण 

याचिका में गड्ढों की वजह से प्रदूषण की समस्या भी उठाई गई है। एक तरफ जहां दिल्ली में प्रदूषण का स्तर खतरनाक स्थिति में है, वहीं यहां उड़ रही धूल-मिट्टी इसे और जानलेवा बना रही है।.

जाम 

दुर्घटना व गड्डों से संभलकर चलने के कारण इन दोनों सड़कों पर सुबह व शाम कई-कई घंटों का जाम लग जाता है। उन्होंने इसके लिए खुद की समस्या का जिक्र भी किया। ऐसा ही हाल अन्य लोगों का है।.

हादसे  

याचिकाकर्ता राजेश कौशिक ने कहा है कि इन गड्डों की वजह से रोजाना छह से आठ छोटी-मोटी सड़क दुर्घटनाएं होती हैं। खासतौर पर दुपहिया वाहन चालक इसका शिकार बनते हैं।

एक्वा लाइन मेट्रो का उद्घाटन आज, सीएम योगी करेंगे शुभारंभ

इन्हें पक्षकार बवाया 

सड़क पर पड़े इन गड्ढों के प्रति प्रशासन के इस रवैये पर आपत्ति जताते हुए याचिका में दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए), दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) व लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) को पक्षकार बनाया गया है।.

यातायात की रफ्तार बेहद धीमी 

पश्चिमी दिल्ली की हरि नगर विधानसभा में जेल रोड इलाके की सड़क का बुरा हाल है। बारिश के बाद यहां गड्ढों में पानी भरा हुआ है, जिससे सड़क पर यातायात की गति बेहद धीमी है। महज दो दिन हुई बारिश ने सड़क पर बड़े-बड़े गड्ढे बना दिए हैं। स्थानीय आरडब्ल्यूए अध्यक्ष दिनेश जैन का कहना है कि इतनी तो बारिश हुई भी नहीं, लेकिन सड़क की हालत ऐसी हो गई है, जैसे मानों कई वर्षों से टूटी पड़ी हो।.

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:case registered in court on the pretext of potholes on roads in delhi pollution accident and traffic jam are included as factors