अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गाजियाबाद : राशन घोटाले में 195 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

ration shop

आधार नंबरों में हेराफेरी कर राशन घोटाला करने के आरोप में मंगलवार को आपूर्ति विभाग ने 195 लोगों के खिलाफ आठ थानों में मुकदमा दर्ज करा दिया। इनमें 102 राशन डीलर के अलावा घोटाले के मास्टरमाइंड रोहित-जीतू, पांच ऑपरेटर और आधार कार्ड से राशन लेने वाले लोग शामिल हैं। जीतू और रोहित ने गौतमबुद्ध नगर के दादरी से प्रदेश के 43 जिलों में राशन घोटाले को अंजाम दिया। पुलिस उनकी तलाश में जुट गई है।

राशन दुकानों को आधार कार्ड से जोड़ने के बाद शहरी क्षेत्र में ई-पोस मशीन के जरिये राशन वितरण किया जा रहा है। इसके बावजूद सरकारी राशन की कालाबाजारी नहीं रुक रही। 

खाद्य आयुक्त आलोक कुमार को शिकायत मिली तो उन्होंने मामले की जांच की। जांच में यह खुलासा हुआ कि कालाबाजारी रोकने को अपनाई गई नई तकनीक में भी हैकरों ने सेंध लगा दी है। आधार नंबर में संशोधन कर दूसरे नंबर फीड किए गए। ऑपरेटरों की मदद से सॉफ्टवेयर में छेड़छाड़ की गई। 

गाजियाबाद में 3300 क्विंटल राशन लिया : हैकरों ने 69 आधार कार्ड पर 16,500 बार राशन लिया। 1300 क्विंटल चावल और 2000 क्विंटल गेहूं फर्जी तरीके से दुकानों से उठाया गया। बाजार रेट पर 3300 क्विंटल राशन की कीमत 50 लाख आंकी गई है। आपूर्ति विभाग के अधिकारियों का दावा है कि केवल जुलाई माह का राशन दुकानों से उठाया गया था।

दूसरी दुकानों से राशन मिलेगा : जिन राशन डीलरों पर मुकदमा दर्ज कराया गया उनके लाइसेंस सस्पेंड कर दिए गए। ऐसे में लोग आसपास की दुकानों से राशन ले सकेंगे। उन्हें राशन लेने में कोई परेशानी नहीं होगी। जिला आपूर्ति अधिकारी ने बताया कि कार्ड धारकों को नियमित रूप से राशन मिलता रहेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Case registered against 195 people in Ration scam at Ghaziabad