ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRमरीजों की बढ़ेगी परेशानी, कैंसर अस्पताल ने लिस्ट से हटाईं कई जरूरी दवाएं; क्या बताया कारण

मरीजों की बढ़ेगी परेशानी, कैंसर अस्पताल ने लिस्ट से हटाईं कई जरूरी दवाएं; क्या बताया कारण

दिल्ली राज्य कैंसर संस्थान ने मरीजों के लिए निर्धारित जरूरी दवाओं की लिस्ट से 166 दवाएं कम कर दी हैं। अस्पताल की लिस्ट में पहले 450 दवाएं शामिल थीं। अब यह संख्या 284 रह गई है।

मरीजों की बढ़ेगी परेशानी, कैंसर अस्पताल ने लिस्ट से हटाईं कई जरूरी दवाएं; क्या बताया कारण
Sneha Baluniहेमवती नंदन राजौरा,नई दिल्लीWed, 24 Apr 2024 06:19 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली राज्य कैंसर संस्थान ने मरीजों के लिए निर्धारित की गई आवश्यक दवाओं की सूची में से 166 कम कर दी हैं। अस्पताल ने बदलाव का कारण सूची में कई दवाओं का अलग-अलग नाम से शामिल होना बताया है। सूची में पहले 450 दवाएं शामिल थीं। अब यह संख्या 284 रह गई है।

कैंसर अस्पताल में कई जरूरी दवाएं उपलब्ध नहीं हैं। इसको लेकर मरीजों ने अस्पताल के निदेशक को पत्र लिखकर शिकायत की। उन्होंने लिखा कि इलाज में इस्तेमाल होने वाली आधुनिक दवाएं उन्हें बाहर से लानी पड़ती हैं। पहले निमोटूजुमोब इंजेक्शन मौजूद था, लेकिन अब यह अस्पताल में उपलब्ध नहीं हैं। इससे पहले हिन्दुस्तान ने भी अपनी पड़ताल में लिखा था कि अस्पताल में लगभग 45 फीसदी बेहद जरूरी दवाओं की कमी है। इससे मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ा रहा है।

मेमोग्राफ मशीन बंद होने से स्तन कैंसर की जांच नहीं हो रही 

अस्पताल में मेमोग्राफ मशीन बंद है। इसकी मदद से महिलाओं के स्तन कैंसर की जांच की जाती है। रामवीर ने बताया कि उनकी पत्नी को बाहर जाकर जांच करानी पड़ी। अस्पताल में लंबे समय से मशीन खराब होने से समय पर जांच नहीं होती है। इसकी वजह से मरीज की बीमारी बढ़ जाती है और उसकी जान तक पर बन आती है।

सीटी स्कैन सहित कई मशीनें खराब पड़ी

कैंसर के मरीजों के लिए अस्पताल में मौजूद सीटी स्कैन की मशीन खराब है। पैट स्कैन की मशीन ठीक है तो स्टाफ की कमी से जांच नहीं हो पा रही है। ट्यूमर पर सटीक रेडियेशन देने में इस्तेमाल होने वाली लिनियर एक्सेलरेटर मशीन के खराब होने से भी मरीज परेशान हैं।

नकली दवाओं के लेकर ईडी ने दिल्ली एनसीआर में की थी रेड

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने एक महीने पहले 18 मार्च को कैंसर की नकली दवाओं के उत्पादन और बिक्री करने वाले गिरोह से जुड़े मनी लॉउन्ड्रिंग मामले की जांच के तहत दिल्ली-एनसीआर में 10 स्थानों पर छापेमारी की और 65 लाख रुपये नकद बरामद किए थे। अवैध दवा के व्यापार के सिलसिले में पुलिस ने आईआईटी-बीएचयू से ग्रेजुएशन करने वाले एक व्यक्ति और एक प्रतिष्ठित निजी अस्पताल के पूर्व कर्मी समेत 12 लोगों को गिरफ्तार किया था।