ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRशराब घोटाले से जुड़े करप्शन केस में जमानत की आस, के कविता की HC से गुहार

शराब घोटाले से जुड़े करप्शन केस में जमानत की आस, के कविता की HC से गुहार

BRS नेता प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई दोनों ही केस में न्यायिक हिरासत में हैं। ईडी से जुड़े केस  में के कविता की बेल याचिका हाई कोर्ट में पेंडिंग है। 6 मई को ट्रायल कोर्ट ने भ्रष्टाचार से जुड़े केस

शराब घोटाले से जुड़े करप्शन केस में जमानत की आस, के कविता की HC से गुहार
Nishant Nandanपीटीईआई,नई दिल्लीWed, 15 May 2024 09:16 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के कथित शराब घोटाले में फंसी बीआरएस नेता के कविता  के लिए मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। अब के कविता ने शराब घोटाले में CBI से जुड़े भ्रष्टाचार के केस में जमानत हासिल करने के लिए दिल्ली हाई कोर्ट का रुख किया है। जस्टिस स्वर्णा कांता शर्मा  गुरुवार को इस मामलें सुनवाई करेंगी। बीआरएस नेता प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई दोनों ही केस में न्यायिक हिरासत में हैं। ईडी से जुड़े केस  में के कविता की बेल याचिका हाई कोर्ट में पेंडिंग है। 6 मई को ट्रायल कोर्ट ने भ्रष्टाचार से जुड़े केस में के कविता की जमानत याचिका खारिज कर दी थी। 

कथित घोटाले के संबंध में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और सीबीआई द्वारा दर्ज दोनों मामलों में कविता न्यायिक हिरासत में हैं।नईडी मामले में उनकी जमानत याचिका उच्च न्यायालय में लंबित है। अधीनस्थ अदालत ने छह मई को भ्रष्टाचार के मामले के साथ-साथ उस मामले में भी कविता की जमानत याचिका खारिज कर दी थी जिसमें ईडी धन शोधन से जुड़े मामले की जांच कर रही है। यह घोटाला 2021-22 के लिए दिल्ली सरकार की शराब नीति को तैयार और क्रियान्वित करने में कथित भ्रष्टाचार और धन शोधन से संबंधित है। इस नीति को बाद में रद्द कर दिया गया था। ईडी ने 15 मार्च को कविता (46) को हैदराबाद में बंजारा हिल्स स्थित उनके आवास से गिरफ्तार किया था।

उच्च न्यायालय ने 10 मई को धन शोधन मामले में जमानत के लिए कविता की याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिए ईडी को समय दिया और आगे की सुनवाई के खातिर मामले को 24 मई के लिए सूचीबद्ध किया था। बीआरएस नेता ने उच्च न्यायालय में दायर अपनी जमानत याचिका में कहा है कि उनका आबकारी नीति से कोई लेना-देना नहीं है और उनके खिलाफ केंद्र में सत्तारूढ़ दल ने प्रवर्तन निदेशालय की सक्रिय मिलीभगत से आपराधिक साजिश रची है।