ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCRशराब घोटाले पर भाजपा का AAP मुख्यालय के बाहर हल्ला बोल, मांगा केजरीवाल का इस्तीफा

शराब घोटाले पर भाजपा का AAP मुख्यालय के बाहर हल्ला बोल, मांगा केजरीवाल का इस्तीफा

दिल्ली आबकारी मामले में ईडी की ओर से दिल्ली BJP नेताओं और कार्यकर्ताओं ने शनिवार को आप कार्यालय के सामने धरना प्रदर्शन किया। BJP ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के इस्तीफे की मांग की।

शराब घोटाले पर भाजपा का AAP मुख्यालय के बाहर हल्ला बोल, मांगा केजरीवाल का इस्तीफा
Krishna Singhवरिष्ठ संवाददाता,नई दिल्लीSat, 04 Feb 2023 09:27 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

भाजपा के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष वीरेन्द्र सचदेवा और नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी के नेतृत्व में भाजपा कार्यकर्ताओं ने शनिवार को आम आदमी पार्टी (आप) मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। इस दौरान भाजपा पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने अपनी गिरफ्तारी दी। सचदेवा ने कहा, भाजपा शुरू से कहती रही है कि कथित शराब घोटालों के पीछे आप नेताओं का हाथ है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा चार्जशीट में नाम आने के बाद इस बात पर मुहर लग गई। ईडी ने जिन आरोपियों को पकड़ा है, उन्होंने कबूल किया है कि आम आदमी पार्टी के नेता के घर पर बैठकर शराब की नीतियां तय होती थी।

कई लोगों के नाम आ रहे सामने 
नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कहा कि शराब घोटाले में आम आदमी पार्टी के बड़े नेताओं का संरक्षण प्राप्त है। इस आरोप की ईडी ने पुष्टि की है। बिधूड़ी ने कहा, उन्होंने विधानसभा में संकल्प लिया था कि दिल्ली सरकार की शराब घोटाले में भूमिका को जनता के बीच उजागर करेंगे, वरना इस्तीफा दे दूंगा। मुझे खुशी है कि भाजपा के संघर्ष के बाद ना सिर्फ दिल्ली सरकार नई शराब नीति वापस लेने को मजबूर हुई, बल्कि इस घोटाले में अब आप नेताओं सहित एक के बाद एक उनके कई लोगों के नाम सामने आ रहे हैं।

बड़े नेताओं के दखल की जांच हो : कांग्रेस
दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने आरोप लगाया कि कट्टर ईमानदारी का दावा करने वाले आप नेता भ्रष्टाचारी निकले। अगर दिल्ली सरकार जनलोकपाल का गठन कर देती तो पार्टी के कई नेता जेल में होते। उन्होंने मांग की है कि आप के बड़े नेताओं को गिरफ्तार कर उनकी भूमिका की जांच की जाए। उन्होंने कहा कि ईडी द्वारा दाखिल आरोपपत्र में भ्रष्टाचार की पुष्टि हो गई है।