ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRकेजरीवाल के दावे पर भाजपा बोली- वे शराब घोटाले के प्लबैक सिंगर, आवाज किसी और की सामने कोई और है

केजरीवाल के दावे पर भाजपा बोली- वे शराब घोटाले के प्लबैक सिंगर, आवाज किसी और की सामने कोई और है

केजरीवाल ने कहा था, 'पीएम मोदी ने ये कबूल किया कि शराब घोटाले में उनके पास कोई सबूत नहीं है। किसी तरह का कोई एक नया पैसा भी रिकवर नहीं हुआ है। इसका मतलब आपकी CBI और आपके ED के अधिकारी निकम्मे हैं।'

केजरीवाल के दावे पर भाजपा बोली- वे शराब घोटाले के प्लबैक सिंगर, आवाज किसी और की सामने कोई और है
Sourabh JainANI,नई दिल्लीFri, 24 May 2024 08:29 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी के एक इंटरव्यू में दिए बयान को लेकर शुक्रवार को दावा किया कि आखिरकार प्रधानमंत्री ने भी मान ही लिया कि तथाकथित शराब घोटाला पूरी तरह से फर्जी है और ईडी और CBI के पास कोई सबूत नहीं है। जिसके जवाब में भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता और सांसद सुधांशु त्रिवेदी ने केजरीवाल को शराब घोटाले का प्लेबैक सिंगर बताया। त्रिवेदी ने कहा कि ये उस प्रकार के चोर हैं, जैसे फिल्मों में प्लेबैक सिंगर होता है। चेहरा किसी और का दिखता है, मगर गाना कोई और गा रहा होता है।

समाचार एजेंसी से बात करते हुए सुधांशु त्रिवेदी ने कहा, 'भ्रष्टाचार के मामले में जेल जाने वाले मुख्यमंत्रियों की श्रृंखला जो लालू प्रसाद यादव ने शुरू की थी, उसकी लेटेस्ट कड़ी अरविंद केजरीवाल हैं, जो कि भारत के इतिहास के इकलौते मुख्यमंत्री हैं, जिन्होंने जेल जाने के बाद भी इस्तीफा नहीं दिया। यद्यपि न्यायालय ने उन्हें केवल विशेष शर्तों के साथ केवल चुनाव प्रचार तक के लिए छोड़ा था, जिसमें यह भी था कि वे अपने केस पर टिप्पणी नहीं करेंगे। मगर इसके बावजूद वो अपने केस के बारे में निरर्थक, अनर्गल और भ्रामक प्रचार कर रहे हैं।'

त्रिवेदी बोले- पैसे का ट्रेल देखा जाता है

भाजपा के राज्यसभा सांसद ने कहा, ' एक बात बहुत स्पष्ट हो जाती है कि यदि कोई व्यक्ति जो IRS ऑफिसर और IIT का ग्रेजुएट रहा हो, वो कहे कि फिजिकली पैसा दिखना चाहिए, तो ये बहुत बचकाना है या शातिराना है। महोदय पैसे का ट्रेल दिखता है, कि किस कंपनी को आपने अपनी नीतियों के जरिए फायदा पहुंचाया है और फिर वह ट्रेल तो न्यायालय ने, उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय ने कई मौकों पर माना है, तभी तो आप जेल में हैं। गोवा में आपके तमाम प्रत्याशियों ने स्वीकार किया है कि उन्हें कैश में पैसा आया है, और संदिग्ध रूप से उन्हीं स्रोतों से आया है, जिन स्रोतों को इसका लाभार्थी माना जा रहा था। जिस तरह का प्रचार वो कर रहे हैं, इसके लिए हिंदी में दो कहावते हैं चोर मचाए शोर और उल्टा चोर कोतवाल को डांटे, वह इन पर सही लागू होती है।'

आगे त्रिवेदी ने कहा, 'हाल ही में अभी जो मनीष सिसोदिया जी का केस हुआ है, उसमें बहुत साफ-साफ कोर्ट ने कहा है कि निर्णय लेने की प्रक्रिया कॉम्प्रोमाइज थी और जो लाभार्थी थे, उनके द्वारा सुझाव दिए गए, सुझाव बगैर कानूनी प्रक्रिया पूरी किए हुए, यानी कैबिनेट के अप्रूवल के बगैर इनकॉर्पोरेट किए गए। अब इसके बाद तो कुछ नहीं बचता है।'

सुधांशु बोले- पीएम ने गलत नहीं कहा

प्रधानमंत्री के केजरीवाल को अनुभवी चोर बताए जाने का जिक्र करते हुए त्रिवेदी ने कहा, 'यदि माननीय प्रधानमंत्रीजी ने कहा है कि ये बहुत अनुभवी चोर हैं, तो गलत नहीं कहा है। क्योंकि ये इतने अनुभवी हैं कि पासवर्ड भी भूल गए और अनेक मोबाइल फोन और लैपटॉप भी गायब कर दिए। ये इतने अनुभवी हैं कि पढ़ाई-लिखाई की बात करते हैं, लेकिन सिर्फ पढ़ते थे, लिखते नहीं थे। यानी सारे निर्णय इनके यहां होते थे और ये लिखवाते सिर्फ संबंधित मंत्री से थे। यानी जानते हैं ये कुछ-कुछ क्या हैं, ये उस प्रकार के चोर हैं, जैसे फिल्मों में प्लेबैक सिंगर होते हैं। आवाज तो उसकी होती है, शब्द लिखने वाले के होते हैं, चेहरा सामने किसी और का होता है। तो इस शराब घोटाले के भ्रष्टाचार केस के वो प्लेबैक सिंगर हैं, वो पीछे से सबकुछ तय कर रहे हैं, मगर उन्हें ये याद रखना चाहिए कि चोर कितना भी सयाना हो, एक न एक दिन उसे कानून के हाथ के नीचे आना ही होता है। 

इससे पहले शुक्रवार को केजरीवाल ने कहा था, 'पीएम मोदी ने ये कबूल किया कि शराब घोटाले में उनके पास कोई सबूत नहीं है। किसी तरह का कोई एक नया पैसा भी रिकवर नहीं हुआ है। उसे छिपाने के लिए वह कहते हैं कि केजरीवाल अनुभवी चोर है। इसका मतलब आपकी सारी सीबीआई और उसके अफसर निकम्मे हैं। आपके ईडी के अधिकारी निकम्मे हैं।'