ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRईडी के छठे समन पर सियासत; कब तक जांच से भागेंगे? BJP का केजरीवाल से सवाल- VIDEO

ईडी के छठे समन पर सियासत; कब तक जांच से भागेंगे? BJP का केजरीवाल से सवाल- VIDEO

दिल्ली के कथित शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले को लेकर राष्ट्रीय राजधानी की सियासत एकबार फिर गरमा गई है। केजरीवाल के नए समन पर भाजपा ने AAP पर तगड़ा निशाना साधा है। पढ़ें यह रिपोर्ट...

ईडी के छठे समन पर सियासत; कब तक जांच से भागेंगे? BJP का केजरीवाल से सवाल- VIDEO
Krishna Singhलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 14 Feb 2024 08:02 PM
ऐप पर पढ़ें

ईडी ने दिल्ली के कथित शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल छठा समन जारी किया है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि एजेंसी ने केजरीवाल को 19 फरवरी को पूछताछ के लिए पेश होने के लिए कहा है। इस मामले को लेकर सियासत गर्म है। दिल्ली भाजपा ने आम आदमी पार्टी पर हमला बोलते हुए कहा कि केजरीवाल कब तक जांच एजेंसी से भागते रहेंगे। दिल्ली की जनता को पता चलना चाहिए कि शराब घोटाले में कितनी दलाली खाई गई है। 

अरविंद केजरीवाल को ईडी के ताजा समन पर भाजपा दिल्ली अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा ने कहा- मुझे लगता है कि एजेंसी की ओर से छठा समन जारी किए जाने के बाद अरविंद केजरीवाल को अब जांच का सामना करना चाहिए। वह इससे कब तक भागेंगे? मैं केजरीवाल को सलाह दूंगा कि वह जांच का सामना करें। अब तो अदालत भी उन्हें पेश होने के लिए कह चुकी है। यदि अब भी वह जांच एजेंसी का सामना नहीं करते हैं तो मुझे लगता है कि वह अदालत की अवमानना कर रहे हैं। 

वीरेंद्र सचदेवा ने कहा कि दिल्ली की जनता को शराब घोटाले का सच पता है। एकबार दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए तो पता चल जाएगा कि शराब घोटाले में आम आदमी पार्टी, केजरीवाल और उनके साथियों ने कितनी कमीशन खाई है। केजरीवाल ने कितनी दलाली ली है, वह सच सबके सामने आना चाहिए। 

उल्लेखनीय है कि हाल ही में दिल्ली की एक अदालत ने ईडी की एक शिकायत पर सुनवाई की थी। इसमें केजरीवाल पर समन की अवज्ञा करने के आरोप लगाए गए थे। अदालत ने ईडी की शिकायत पर सुनवाई करते हुए केजरीवाल को 17 फरवरी को पेश के लिए कहा था। अदालत ने साफ कहा था कि प्रथमदृष्टया केजरीवाल ईडी के समन का अनुपालन करने के लिए कानूनी रूप से बाध्य हैं। बता दें कि ईडी की ओर से भेजा गया यह छठा समन है। वहीं केजरीवाल हमेशा इन नोटिस को अवैध करार देते आए हैं। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें