ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRदिल्ली जल बोर्ड में गड़बड़ी के आरोपों पर उबाल, भाजपा का जल बोर्ड मुख्यालय पर हल्ला बोल

दिल्ली जल बोर्ड में गड़बड़ी के आरोपों पर उबाल, भाजपा का जल बोर्ड मुख्यालय पर हल्ला बोल

Delhi Jal Board Scam: दिल्ली जल बोर्ड में गड़बड़ी के आरोपों पर गुरुवार को उबाल देखा गया। भाजपा नेताओं ने एसटीपी में घोटाले का आरोप लगाते हुए झंड़ेवालान स्थित जल बोर्ड मुख्यालय पर विरोध प्रदर्शन किया।

दिल्ली जल बोर्ड में गड़बड़ी के आरोपों पर उबाल, भाजपा का जल बोर्ड मुख्यालय पर हल्ला बोल
Krishna Singhहिंदुस्तान,नई दिल्लीThu, 30 Nov 2023 10:36 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली भाजपा के वरिष्ठ नेताओं और कार्यकर्ताओं ने गुरुवार को झंड़ेवालान स्थित जल बोर्ड मुख्यालय पर विरोध प्रदर्शन किया। भाजपा नेताओं ने एसटीपी में घोटाले का आरोप लगाते हुए दिल्ली सरकार को घेरा। उधर, आम आदमी पार्टी ने सभी आरोपों को राजनीतिक नौटंकी बताया। भाजपा नेताओं ने आरोप लगाया कि अलग-अलग विभागों में आप सरकार लगातार घोटाले कर रही है। प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा ने बताया कि हमने 15 दिन पहले जल बोर्ड में घोटाले का दस्तावेजों के आधार पर आरोप लगाया था। 

सीएम को पत्र
भाजपा नेताओं ने आरोप लगाया कि जल बोर्ड के टेंडर में शर्तों का उल्लंघन कर कंपनी को लाभ दिया गया। दिल्ली में नौ साल से सीवार लाइन डाली जा रही है, बार-बार भुगतान किया जा रहा है, लेकिन काम नहीं हो रहा। नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कहा कि एक समय में दिल्ली जल बोर्ड 700 करोड़ रुपये के मुनाफे में था, लेकिन आज 70 हजार करोड़ रुपये के घाटे में है। कई बार जांच के लिए वह सीएम को पत्र लिख चुके हैं। 

घोटाला नहीं छिप सकता
बार-बार जल बोर्ड के मंत्रियों के विभाग बदलने पर भी घोटाला नहीं छिप सकता। उन्होंने कहा कि पूरे मामले की जांच होनी चाहिए और दोषियों को सजा मिलनी चाहिए। प्रदर्शन में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता, विधायक मोहन सिंह बिष्ट, ओम प्रकाश शर्मा, अजय महावर, अभय वर्मा और अनिल बाजपेई, प्रदेश महामंत्री हर्ष मल्होत्रा एवं योगेन्द्र चंदोलिया मौजूद थे।

आरोप राजनीतिक नाटक के अलावा कुछ नहीं : आप
वहीं आम आदमी पार्टी ने जल बोर्ड में घोटाले के आरोपों को लेकर भाजपा के प्रदर्शन को राजनीतिक नाटक बताया है। आप ने कहा कि हर कोई जानता है कि दिल्ली की नौकरशाही भाजपा शासित केंद्र सरकार को रिपोर्ट करती है। केंद्र के पास किसी भी अधिकारी के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की सभी शक्तियां हैं। अगर भाजपा को पता है कि अधिकारी जल बोर्ड में गड़बड़ी कर रहे हैं तो कार्रवाई क्यों नहीं हो रही है। आप का कहना है कि यह कार्रवाई इसलिए नहीं हो रही है, क्योंकि भाजपा ने मुख्य सचिव सहित दिल्ली सरकार के भ्रष्ट अधिकारियों को बचाने का विकल्प चुना है।

निविदा प्रक्रिया में मंत्रियों की कोई भूमिका नहीं
आप के मुताबिक, भाजपा आरोप लगा रही है कि जल बोर्ड के कुछ अधिकारियों ने निविदा जारी करने के दिशा-निर्देशों का उल्लघन किया है। दिल्ली सरकार ने स्वयं जल बोर्ड और वित्त विभाग से अब तक प्राप्त शिकायतों के आधार पर दोषी अधिकारियों की पहचान करने का निर्देश दिया है, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। निविदा प्रक्रिया में मंत्रियों की कोई भूमिका नहीं होती है। संबंधित अधिकारी ही इसमें शामिल होते है। इसलिए इसमें जो भी दोषी है उनपर कार्रवाई होनी चाहिए। आप का कहना है कि दिल्ली की निर्वाचित सरकार के पास कार्रवाई का कोई अधिकारी नहीं है फिर भी कोई गलत काम हुआ है तो हम एलजी से आग्रह करते है कि उनपर कड़ी कार्रवाई की जाए। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें