ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR'भाजपा पानी के बिल से राहत देने वाली योजना के खिलाफ', CM केजरीवाल का हमला

'भाजपा पानी के बिल से राहत देने वाली योजना के खिलाफ', CM केजरीवाल का हमला

बैठक में अरविंद केजरीवाल ने कहा कि भाजपा का बैठक में शामिल न होना यह दिखाता है कि वह इस योजना के खिलाफ है, जबकि इसे लागू होने से 90 फीसद पानी उपभोक्ताओं का बिल माफ हो जाएगा। 

'भाजपा पानी के बिल से राहत देने वाली योजना के खिलाफ', CM केजरीवाल का हमला
Swati Kumariहिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 22 Feb 2024 09:44 PM
ऐप पर पढ़ें

पानी के बढ़े बिलों से राहत देने वाली वन टाइम सेटलमेंट योजना को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को अपने आवास पर सर्वदलीय बैठक बुलाई। भाजपा ने इस बैठक का बहिष्कार किया। कांग्रेस की तरफ से प्रदेशध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली और हारून युसूफ मौजूद रहे। कांग्रेस ने इस योजना का समर्थन करते हुए इसे जल्द लागू करने की मांग भी की।

बैठक में जल मंत्री आतिशी के अलावा शहरी विकास विभाग मंत्री सौरभ भारद्वाज और जल बोर्ड उपाध्यक्ष सौरभ भारद्वाज भी मौजूद रहे। बैठक में अरविंद केजरीवाल ने कहा कि भाजपा का बैठक में शामिल न होना यह दिखाता है कि वह इस योजना के खिलाफ है, जबकि इसे लागू होने से 90 फीसद पानी उपभोक्ताओं का बिल माफ हो जाएगा। 

सर्वदलीय बैठक के बाद शहरी विकास मंत्री सौरभ भारद्वाज और दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली ने संयुक्त रूप से पत्रकारों से बात की। सौरभ भारद्वाज ने कहा कि दिल्ली जल बोर्ड पानी के बिलों के लिए दिल्ली सरकार एक योजना लाना चाहती है। भाजपा अधिकारियों के जरिए उस वन टाइम सेटलमेंट योजना को रोकने की कोशिश कर रही है। योजना को लेकर एलजी से बात करने के साथ विधानसभा में भी चर्चा की गई, इसके बावजूद योजना कैबिनेट में नहीं आ पाई है। चूकि दिल्ली से जुड़ा मामला था, इसलिए यह सर्वदलीय बैठक बुलाकर चर्चा की गई है। नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी को बैठक में बुलाया गया था लेकिन वह नहीं आए। 

कांग्रेस प्रदेशध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली ने कहा कि दिल्ली के पानी के बिलों को लेकर मुख्यमंत्री की तरफ से हमें सर्वदलीय बैठक का आमंत्रण मिला था। एक जिम्मेदार राजनीतिक दल होने के नाते कांग्रेस की तरफ से हमने इस बैठक में भाग लिया। मैं समझता हूं कि दिल्ली के लोगों को राहत देने के के मामले में किसी भी राजनीतिक दल को कोताही नहीं बरतनी चाहिए। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें