ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRनोएडा में जिला प्रशासन का बड़ा ऐक्शन, 5 बिल्डरों के ऑफिस सील; क्या थी वजह

नोएडा में जिला प्रशासन का बड़ा ऐक्शन, 5 बिल्डरों के ऑफिस सील; क्या थी वजह

नोएडा जिला प्रशासन ने शहर के बिल्डरों पर नकेल कसना शुरू कर दिया है। इस दौरान प्रशासन ने शहर के पांच बिल्डरों के ऑफिस सील कर दिए। आइये जानते हैं राजस्व विभाग द्वारा ये कार्रवाई क्यों की गई है।

नोएडा में जिला प्रशासन का बड़ा ऐक्शन, 5 बिल्डरों के ऑफिस सील; क्या थी वजह
big action by district administration in noida offices of 5 builders sealed what was the reason
Mohammad Azamभाषा,नोएडाWed, 19 Jun 2024 11:09 AM
ऐप पर पढ़ें

नोएडा जिला प्रशासन ने शहर के पांच बिल्डरों पर बड़ी कार्रवाई की है। नोएडा की राजस्व टीम ने उत्तर प्रदेश भूसंपदा विनियामक प्राधिकरण (यूपी रेरा) के रिकवरी सर्टिफिकेट (आरसी) का पैसा जमा नहीं करने वाले पांच बिल्डर के ऑफिस को मंगलवार को सील कर दिया है। इनमें ग्रीनवे और ओरिस इन्फ्रास्ट्रक्चर, इम्पीरिया स्ट्रक्चर्स, सॉलिटेयर रियल इन्फ्रा, सिक्सा इन्फ्रास्ट्रक्चर और सनवर्ड सिटी बिल्डर शामिल हैं। इन सभी बिल्डरों के ऑफिस पर यूपी रेरा की आरसी का 67.69 करोड़ रुपये बकाया है।   इस दौरान प्रशासन ने चेतावनी जारी कर दी है। प्रशासन का कहना है कि बिना अनुमति कार्यालय खोलने पर कानूनी कार्रवाई होगी।

इस बारे में जानकारी देते हुए नोएडा के उप जिलाधिकारी चारुल यादव ने बताया कि यूपी रेरा के आदेशों के तहत बिल्डर खरीदारों का पैसा नहीं लौटा रहे हैं। उन्होंने बताया कि इसके अलावा कुछ अन्य मामलों में आदेश का पालन नहीं करने पर भी यूपी रेरा बिल्डर के खिलाफ आरसी जारी कर रहा है। इसके बाद प्रशासन की राजस्व टीम वसूली कर रही है, लेकिन लोकसभा चुनाव के कारण आरसी पर वसूली नहीं हो पा रही थी। अब राजस्व टीमों ने वसूली शुरू कर दी है। इसी क्रम में मंगलवार को नोएडा के पांच कार्यालयों को सील कर दिया गया है।

मिली जानकारी के अनुसार, नोएडा जिला प्रशासन ने मंगलवार को सदर तहसील की टीम ने पांच बिल्डर के कार्यालय को सील किया। यमुना प्राधिकरण के सेक्टर-22 डी स्थित सनवर्ल्ड सिटी के कार्यालय को सील किया गया है। बिल्डर पर यूपी रेरा की आरसी का 5.36 करोड़ रुपये बकाया है। वहीं, नोएडा सेक्टर-143बी स्थित सिक्का इन्फ्रास्ट्रक्चर पर 25.50 करोड़, ग्रीनवे व ओरिस इन्फ्रास्ट्रक्चर पर 22.67 करोड़, जेपी स्पोटर्स सिटी स्थित इम्पीरिया स्ट्रक्चर्स पर 11.16 करोड़ और सॉलिटेयर रियल इन्फ्रा पर तीन करोड़ रुपये बकाया है। इन बिल्डरों ने बकाया जमा नहीं किया जिसकी वजह से उनके कार्यालय को सील किया गया है।