ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRस्वाती मालीवाल से मारपीट मामले में बिभव कुमार को राहत नहीं, कोर्ट ने 5 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा

स्वाती मालीवाल से मारपीट मामले में बिभव कुमार को राहत नहीं, कोर्ट ने 5 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा

दिल्ली पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने के बाद बिभव कुमार के वकीलों ने कोर्ट में जो अग्रिम जमानत याचिका लगाई थी, वो सुनवाई के दौरान उनकी गिरफ्तारी होने से शून्य रह गई। अब वकील नई याचिका लगाएंगे.

स्वाती मालीवाल से मारपीट मामले में बिभव कुमार को राहत नहीं, कोर्ट ने 5 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा
Sourabh JainANI,नई दिल्लीSun, 19 May 2024 01:13 AM
ऐप पर पढ़ें

राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल के साथ हुई कथित मारपीट के मामले में गिरफ्तार सीएम केजरीवाल के पीए बिभव कुमार को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने 5 दिन की हिरासत में दिल्ली पुलिस को सौंप दिया है। कोर्ट के फैसले के बाद बिभव कुमार के वकील एडवोकेट ऋषिकेश कुमार ने बताया, 'पुलिस ने 7 दिनों की रिमांड मांगी थी, जिसमें से 5 दिनों की रिमांड दे दी गई। उन्हें 23 मई को फिर से पेश किया जाएगा। जांच के दौरान उन्हें अपने वकील और परिवार के सदस्यों से भी मिलने की अनुमति भी रहेगी। अगर मेडिकल आधार पर किसी दवा की जरूरत होगी, तो वह भी उन्हें उपलब्ध कराई जाएगी।'

सुनवाई के दौरान पुलिस ने अदालत को बताया कि आरोपी ने महत्वपूर्ण सबूत नष्ट कर दिए हैं, साथ ही कहा कि आरोपी को हिरासत में लेकर यह भी पता लगाना है कि उसने किस वजह से महिला सांसद के साथ मारपीट की थी। वहीं बिभव कुमार के वकील ने अदालत को बताया कि मालीवाल अपनी मर्जी से मुख्यमंत्री आवास पहुंची थीं और वहां आने से पहले उन्होंने अपॉइंटमेंट भी नहीं लिया था और ना ही आने के उद्देश्य के बारे में किसी को बताया। बिभव के वकील ने कहा कि दिल्ली पुलिस तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश कर रही है।

'DVR के बदले बिना फुटेज की पेन ड्राइव दी, पासवर्ड भी नहीं बता रहा'

दिल्ली पुलिस की ओर से पेश अतिरिक्त लोक अभियोजक अतुल श्रीवास्तव ने बिभव कुमार की हिरासत पर बहस करते हुए कहा हमने DVR मांगा, वह पेन ड्राइव में दिया गया... फुटेज खाली पाया गया। पुलिस को आईफोन दे दिया गया है, लेकिन अब आरोपी पासवर्ड नहीं बता रहा है। फोन को फॉर्मेट कर दिया गया है। श्रीवास्तव ने बताया कि आरोपी बिभव कुमार आज भी घटनास्थल पर मौजूद था।

बिभव के वकील बोले- ड्राइंग रूम में कोई CCTV नहीं

उधर बचाव पक्ष के वकील राजीव मोहन ने कहा- रिकॉर्ड पर किसी भी मेडिकल दस्तावेज, यहां तक कि MLC का भी कोई उल्लेख नहीं है... ड्राइंग रूम में कोई CCTV नहीं है। CCTV डेटा केवल मुख्य द्वार से आवासीय क्षेत्र तक हो सकता है...क्या मुझे (बिभव) अपने फोन का पासवर्ड देने के लिए मजबूर किया जा सकता है? आरोपी को पासवर्ड देने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता। आगे मोहन ने कहा कि आरोपी को आज शाम 4.15 बजे जल्दबाजी में गिरफ्तार कर लिया गया क्योंकि उसने अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी।

मालीवाल बोलीं- वो लंबा हिस्सा वीडियो का एडिट कर दिया

उधर स्वाती मालीवाल ने DVR और बिना फुटेज वाली पेन ड्राइव मिलने की जानकारी देने वाले समाचार एजेंसी के ट्वीट पर जवाब देते हुए लिखा, 'पहले मुझे बेरहमी से बिभव ने पीटा। थप्पड़ और लातें मारी। जब मैंने खुद को छुड़ा कर 112 पर कॉल किया, तो बाहर जाकर सिक्योरिटी बुलाई और वीडियो बनाने लगा। मैं सिक्योरिटी को चीख-चीख करके बता रही थी कि मुझे बहुत बेरहमी से बिभव ने पीटा है। वो पूरा लंबा हिस्सा वीडियो का एडिट कर दिया गया।'

बिभव को नहीं मिली कोर्ट से राहत

इससे पहले दिल्ली पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए बिभव कुमार को शनिवार को कोर्ट से राहत नहीं मिल सकी। हिरासत में लिए जाने के बाद उनके वकीलों ने दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में जो अग्रिम जमानत याचिका लगाई थी। लेकिन फैसला आने से पहले ही उन्हें गिरफ्तार किए जाने की वजह से अग्रिम जमानत याचिका अर्थहीन रह गई।

स्वाति ने सीएम हाउस में लगाया था मारपीट का आरोप

AAP सांसद स्वाति मालीवाल ने बिभव कुमार पर 13 मई सोमवार को उनके साथ सीएम हाउस में मारपीट करने का आरोप लगाया था। स्वाति की शिकायत पर दिल्ली पुलिस ने गुरुवार को इस संबंध में आरोपी बिभव कुमार के खिलाफ नामजद FIR दर्ज की थी। इसके बाद से ही दिल्ली पुलिस की कई टीमें बिभव कुमार को तलाश कर रही थीं। दिल्ली पुलिस की FIR के मुताबिक, बिभव कुमार ने कथित तौर पर स्वाति मालीवाल को कई बार लात और थप्पड़ मारे थे। स्वाति मालीवाल ने बिभव पर जान से मारने की धमकी देने का भी आरोप लगाया है। दिल्ली पुलिस ने बिभव को शनिवार को सीएम आवास से ही गिरफ्तार किया था।

पुलिस ने शुक्रवार को रीक्रिएट किया सीन

इस मामले में गुरुवार को शिकायत दर्ज होने के बाद शुक्रवार को पुलिस स्वाति मालीवाल को लेकर मुख्यमंत्री आवास पहुंची थी, जहां उन्होंने मालीवाल से कथित वारदात वाले दिन की जानकारी लेते हुए उस दिन का सीन रीक्रिएट किया था। साथ ही कौन कहां खड़ा था इस बारे में भी पूछताछ की थी। इस मामले को लेकर सबूत जमा करने के लिए पुलिस टीम अपने साथ फोरेंसिक विशेषज्ञों को भी साथ लेकर सीएम हाउस पहुंची थी। 

बिभव ने भी की मालीवाल के खिलाफ शिकायत

AAP सांसद द्वारा FIR कराने के बाद शुक्रवार को केजरीवाल के सहयोगी बिभव कुमार ने भी स्वाति मालीवाल के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई और आरोप लगाया कि मालीवाल ने 13 मई को मुख्यमंत्री आवास की सुरक्षा में सेंध लगाकर अनधिकृत प्रवेश और वहां हंगामा किया था। पार्टी ने कहा कि जब कुमार ने मालीवाल को रोकने की कोशिश की तो AAP सांसद ने उन्हें गालियां देने के साथ ही झूठे केस में फंसाने की धमकी दीं थीं। इस मामले में कुमार ने सिविल लाइंस पुलिस थाने के SHO को एक ई-मेल के माध्यम से भेजी शिकायत में कहा कि अब मालीवाल झूठे आरोप लगाकर उन्हें फंसाने की कोशिश कर रही हैं।

गिरफ्तारी से पहले भेजा था एक मेल

बिभव ने अपनी गिरफ्तारी से पहले दिल्ली पुलिस को एक मेल भेजा था। जिसमें उन्होंने कहा कि वह जांच में पहले से ही सहयोग कर रहे हैं, जबकि उन्हें पुलिस से कोई नोटिस नहीं मिला है। बिभव ने मेल में लिखा, 'मुझे मीडिया के माध्यम से यह ज्ञात हुआ है कि सिविल लाइन्स थाने में एक मामला दर्ज किया गया है, जिसमें मुझे आरोपी के रूप में नामजद किया गया है। जबकि मुझे अब तक कोई नोटिस नहीं मिला है, फिर भी मैं स्पष्ट रूप से यह बयान देता हूं कि मैं जांच में सहयोग करने को तैयार हूं और मामले के जांच अधिकारी द्वारा जब भी मुझे बुलाया जाता है, मैं जांच में शामिल होने के लिये तैयार हूं।'