DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ड्रग्स तस्करी जैसे गंभीर आरोप के बाद जेल प्रशासन और पुलिस आमने-सामने

गुरुग्राम जेल (फोटो : हिन्दुस्तान )

भोंडसी जिला जेल के अधीक्षक के आरोपों के बाद गुरुग्राम पुलिस भी मुखर हो गई है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि जेल प्रशासन द्वारा यह कहना गलत है कि गुरुग्राम पुलिस ड्रग्स की तस्कारी कराती है। लेकिन शिकायत मिलने के बाद जांच कराई जा रही है। 

'गुरुग्राम जेल में हरियाणा पुलिस कराती है मोबाइल और ड्रग्स की तस्करी'

गुरुग्राम पुलिस ने जेल में ड्रग्स की तस्करी और मोबाइल भेजने के आरोपों पर जांच बैठा दी है। शुक्रवार को गुरुग्राम पुलिस ने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से भी इसकी जानकारी दी। गुरुग्राम पुलिस ने ट्विटर पर लिखा कि भोंडसी जेल में उम्र कैद की सजा काट रहे एक कैदी की तबीयत बिगड़ जाने के कारण उसकी मौत हो गई थी। इस मामले में लिखे गए पत्र की जांच गुरुग्राम पुलिस के एक एसीपी रैंक के अधिकारी द्वारा की जा रही है। गौरतलब है कि प्रदेश की मॉडर्न जेल भोंडसी जिला जेल में बीते मंगलवार की शाम को सजायाफ्ता कैदी अखिलेश उर्फ मिथुन (25) की तबियत बिगड़ने के बाद मौत हो गई थी। पोस्टमार्टम में कैदी के पेट से ड्रग्स के पैकेट बरामद किए गए थे। कैदी तक ड्रग्स पहुंचने के सवाल पर जेलर से कहा था कि हरियाणा पुलिस ने डग्स की तस्करी कराती है। उन्होंने इस संबंध में गुरुग्राम पुलिस को पत्र लिया है।  

गुरुग्राम जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे कैदी की मौत, पेट में भरा था ड्रग्स

एसीपी को सौंपी जांच : गुरुग्राम पुलिस के प्रवक्ता सुभाष बोकन ने ‘हिन्दुस्तान' को बताया कि जेल अधीक्षक जय किशन छिल्लर का पत्र मिलने के बाद इसकी जांच एसीपी क्राइम-द्वितीय रणवीर सिंह को सौंपी गई है। वह एक निश्चित समय सीमा में जांच पूरी करके पुलिस कमिश्नर के के राव को रिपोर्ट सौंपेंगे। जेल अधीक्षक ने कहा था कि हरियाणा पुलिस के जवान ही जेल के अंदर मोबाइल एवं ड्रग्स आदि की तस्करी कराते हैं। उन्होंने इस घटना का संदर्भ लेते हुए पुलिस उपायुक्त मुख्यालय को पत्र भी लिखा था। ‘हिन्दुस्तान' ने शुक्रवार के अंक में विस्तार से खबर प्रकाशित की थी। इसके बाद जांच कराने का निर्णय लिया गया।  

कठघरे में भोंडसी जेल प्रशासन

नौ महीने में पांच कैदियों की मौत और 12 महीने में 100 से ज्यादा मोबाइल बैरकों से बरामद होने के बाद भोंडसी जेल प्रशासन कठघरे में आ गया है, जबकि यह जेल हरियाणा प्रदेश की सबसे आधुनिक जेलों में शामिल है। 22 सितंबर को इसी जेल से फिल्मी अंदाज में बलात्कार में आरोपित कैदी भी भाग निकला था। इतना ही नहीं 15 जून को उज्बेकिस्तान की रहने वाली एक विदेशी महिला की मौत हो गई थी। इन सब वजहों के चलते जेल प्रशासन में सवालों के घेरे में है। 

पेट में कैसे पहुंचे ड्रग्स पैकेट

पुलिस की जांच में इस बात का पता लगाया जाएगा कि आखिर कैदी के पेट में ड्रग्स के पैकेट के कैसे पहुंचे? तो वहीं दूसरी ओर पोस्टमार्टम में लिए विसरा की रिपोर्ट में मौत का असली वजह का पता चलेगा। ऐसा पहली बार है जब जेल प्रशासन ने मुखर होकर पुलिस पर आरोप लगाए हैं। 

गुरुग्राम : दरोगा ने सीनियर महिला एसआई से किया दुष्कर्म, MMS भी बनाया

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bhondsi jail administration and Gurugram police come face-to-face over drugs smuggling