ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRपानी पर गुमराह कर रहीं आतिशी, राजनिवास के अधिकारी बोले- टैंकर माफिया कर रहे चोरी

पानी पर गुमराह कर रहीं आतिशी, राजनिवास के अधिकारी बोले- टैंकर माफिया कर रहे चोरी

Delhi Water Crisis: राजनिवास के अधिकारियों ने मंत्री आतिशी पर दिल्ली की जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि लोगों को पानी उपलब्ध कराने में दिल्ली सरकार विफल रही है।

पानी पर गुमराह कर रहीं आतिशी, राजनिवास के अधिकारी बोले- टैंकर माफिया कर रहे चोरी
Krishna Singhहिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 11 Jun 2024 11:04 PM
ऐप पर पढ़ें

राजधानी में पानी की किल्लत को लेकर चल रहे आरोप-प्रत्यारोप में राजनिवास अधिकारियों ने मंत्री आतिशी पर दिल्ली की जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि लोगों को पानी उपलब्ध कराने में दिल्ली सरकार विफल रही है। इस मामले में झूठ बोला जा रहा है, जबकि मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही है।

राजनिवास सूत्रों का कहना है कि आतिशी ने खुद स्वीकार किया है कि एक प्लांट को छोड़कर अन्य सभी प्लांट से क्षमता से अधिक पानी शोधित हो रहा है। ये प्लांट भी मुनक नहर से ही पानी ले रहे हैं। वजीराबाद जलशोधन संयंत्र वजीराबाद बैराज के पीछे जलाशय से पानी उठाता है। यह जलाशय अपनी क्षमता का 96 फीसदी गाद से भरा हुआ है और पिछले 10 वर्षों से गाद नहीं निकाली गई है। हरियाणा सरकार मुनक नहर की मरम्मत करती है, लेकिन यह काम दिल्ली सरकार की मांग और भुगतान पर किया जाता है।

राजनिवास सूत्रों ने कहा- दिल्ली सरकार ने कभी भी न तो नहर की लाइनिंग की जानकारी जुटाई और न ही उसकी मरम्मत के लिए कहा। दिल्ली में आने वाले पानी को संभालने की जिम्मेदारी दिल्ली सरकार और जल बोर्ड की है। टैंकर द्वारा नहर से पानी चुराया जा रहा है, लेकिन जल बोर्ड ने दिल्ली पुलिस में एफआईआर तो दूर, कभी शिकायत भी दर्ज नहीं कराई है। वह अगर शिकायत करेंगे तो उपराज्यपाल खुद सख्त कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे।

वहीं जल मंत्री आतिशी का कहना है कि दिल्ली में जल संकट गहराने लगा है। हरियाणा सरकार द्वारा पानी नहीं छोड़े जाने से जल संयंत्रों में आपूर्ति 50 एमजीडी तक घट गई है। दिल्ली के लिए हरियाणा को 1050 क्यूसेक पानी छोड़ना चाहिए, लेकिन वह 950 क्यूसेक से कम पानी छोड़ रहा है। हरियाणा सरकार की ओर से कम पानी छोड़े जाने के आरोपों को खारिज करने पर आतिशी ने कहा कि खुद हरियाणा सरकार ने कोर्ट में यह माना है कि वह कम पानी छोड़ रहे हैं।

दिल्ली सचिवालय में मंगलवार को पत्रकारवार्ता में आतिशी ने कहा कि हरियाणा सरकार का पर्दाफाश हो चुका है। सुप्रीम कोर्ट में दायर हरियाणा के शपथपत्र से साफ हो गया है कि वह झूठ बोल रहा है। शपथ पत्र के आंकड़ों के आधार पर कहा कि हरियाणा सरकार दिल्ली के हिस्से का पानी रोक रही है। उन्होंने कहा कि 1 से 22 मई तक मुनक नहर (सीएलसी व डीएसबी) में कुल 1049 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा था, मगर दिल्ली में लोकसभा चुनाव में मतदान से पहले यह 91 क्यूसेक तक पानी कम कर दिया गया।

जलमंत्री मंत्री ने कहा कि उसके बाद से लगातार पानी कम थोड़ा जा रहा है। दिल्ली में पड़ रही भीषण गर्मी के बाद भी 7 से 10 जून के बीच मुनक नहर से 1050 क्यूसेक के बजाय सिर्फ 985 क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। गर्मी के चलते पानी की मांग बढ़ गई है, लेकिन फिर भी पानी कम छोड़ा जा रहा है। चाहे वजीराबाद बैराज हो या मुनक नहर, हरियाणा सरकार को जितना पानी दिल्ली के लिए छोड़ना चाहिए, वो नहीं छोड़ रही है। नतीजतन, जल संयंत्र पूरी क्षमता से काम नहीं कर पा रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट में रखेंगे आंकड़े
हिमाचल प्रदेश से मिलने वाले पानी के सवाल पर आतिशी ने कहा कि वह हरियाणा से होकर आना था, मगर जिस रास्ते से आना है तो हरियाणा सरकार ने वहां फ्लो मीटर नहीं लगाया है, जिससे हरियाणा का कहना है कि हमें कैसा पता चलेगा कि कितना पानी छोड़ा है। इसलिए वह पानी भी नहीं मिल पा रहा है। आतिशी ने कहा कि इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में रखेंगे। हरियाणा सरकार के आंकड़े को भी रखेंगे कि वह कैसे दिल्ली के हिस्से का पानी रोक रही है।

अवैध टैंकरों को पुलिस से पकड़वाएं एलजी
हरियाणा सरकार से पानी छोड़ने को लेकर चल रहे विवाद पर जल मंत्री आतिशी ने पलटवार किया है। उन्होंने एलजी द्वारा मुनक नहर में पानी की कमी को लेकर दिए गए बयान पर कहा कि उन्हें दिल्लीवालों के प्रति जिम्मेदार होना चाहिए। एलजी दिल्लीवालों के प्रति जवाबदेह हैं, ना कि भाजपा के लिए। उन्होंने कहा कि अगर अवैध टैंकरों से पानी की चोरी हो रही है तो पुलिस उनकी है, कार्रवाई क्यों नहीं करते हैं।