ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRआसान नहीं केजरीवाल की राह, जेल से बाहर आकर नई मुश्किल

आसान नहीं केजरीवाल की राह, जेल से बाहर आकर नई मुश्किल

अरविंद केजरीवाल पिछले 60 दिनों से जेल में हैं। ऐसे में कई याजनाएं हैं जो उनके आदेश ना मिल पाने के चलते अटकी हुई हैं। इसके अलावा दिल्ली में जल संकट भी अपने चरम पर है।

आसान नहीं केजरीवाल की राह, जेल से बाहर आकर नई मुश्किल
Aditi Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 21 Jun 2024 11:32 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार अरविंद केजरीवाव को कोर्ट ने जमानत दे दी है। उन्हें यह एक लाख के निजी मुचलके पर दी गई है। केजरीवाल की कानूनी टीम में शामिल वकील ऋषि कुमार ने कहा कि जमानत की प्रक्रिया शुक्रवार सुबह पूरी कर ली जाएगी और मुख्यमंत्री दोपहर तक जेल से बाहर आ जाएंगे। हालांकि ईडी  ने केजरीवाल की रिहाई रोकने के लिए हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

 इस बीच ट्रायल कोर्ट के फैसले से आम आदमी पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं में जश्न का माहौल है। नेताओं का कहना है कि केजरीवाल की रिहाई पार्टी के लिए संजीवनी का काम करेगी लेकिन जेल से बाहर आने के बाद केजरीवाल की राह उतनी आसान नहीं रहने वाली। केजरीवाल की रिहाई ऐसे समय में हो रही है जब पार्टी पहले से कई चुनौतियों का सामना कर रही है। 

लोकसभा चुनाव से पहले केजरीवाल जब जेल 21 दिनों के लिए से बाहर आए तो पार्टी में नया जोश था और लोगों का समर्थन भी था। लेकिन इस बार चीजें थोड़ी अलग हैं। लोकसभा चुनाव नतीजों से कार्यकर्ता पहले से ही निराश हैं, इसके अलावा पार्टी प जल संकट जैसी कई समस्याओं से जूझ रही है। ऐसे में सीएम केजरीवाल को जेल से बाहर आते ही एक नहीं बल्कि कई चुनौतियां का सामना करना होगा। 

जल संकट के बीच विधानसभा चुनाव पर फोकस

केजरीवाल के जेल से बाहर निकलने के बाद सबसे बड़ी चुनौती है विधानसभा चुनाव। लोकसभा चुनावों में आप ने कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ा लेकिन इसका कुछ खास असर नहीं हुआ।  गठबंधन के बावजूद पार्टी एक भी सीट पर जीत हासिल करने में कामयाब नहीं हुई।  ऐसे में अब अगले साल होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनावों में फोकस करना पार्टी के लिए बहुत जरूरी है। हालांकि यह उतना आसान नहीं होने वाला। दिल्ली में इस वक्त जल संकट अपने चरम पर है। एक तरफ कांग्रेस और बीजेपी आम आदमी पार्टी पर पानी को लेकर भ्रष्टाचार करने का आरोप लगा रहे हैं तो वहीं लोगों का धैर्य भी जवाब देता नजर आ रहा है।  ऐसे में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले केजरीवाल के लिए  पानी की समस्या को दूर कर इस पर हो रही राजनीति से निपटना बड़ी चुनौती होगी।

महिलाओं के हर महीने 1000 रुपए देने का वादा

दिल्ली सरकार ने अपने बजट में महिलाओं को हर महीने 1000 रुपए दिए जाने की घोषमा की थी। लेकिन इससे पहले कि इस योजना पर काम शुरू हो पाता, अरविंद केजरीवाल जेल चले गए और योजना आगे नहीं बढ़ पाई। केजरीवाल की जमानत की खबर सुन लोगों की उम्मीदें फिर एक बार बढ़ गई है। ऐसे में केजरीवाल के लिए जल्द से जल्द इस योजना को शुरू कर अपने वादे को पूरा करना चुनौती होगा। 

इसी तरह कई और योजनाएं भी केजरीवाल के जेल जाने के चलते आगे नहीं बढ़ पाई हैं।  ऐसे कई मामले थे जिनमें केजरीवाल की ओर से आदेश जारी किया जाना और सरकार को दिशा प्रदान करने के लिए उनकी मौजूदगी जरूरी थी। कई मामलों में उपराज्यपाल को मंजूरी के लिए भेजी जाने वाली फाइलें भी बिना केजरीवाल के दिशा निर्देश के नहीं भेजी जा सकती थीं।  ऐसे में अब केजरीवाल को जेल से बाहर आकर इन सभी अटके कामों को जल्द से जल्द पूरा करना बड़ी चुनौती होगी। 

इन योजनाओं पर शुरू होगा काम

सीएम केजरीवाल के जेल जाने के चलते जिन योजनाओं पर काम आगे नहीं बढ़ सका और अब जिनके आगे बढ़ने की उम्मीद हैं वो हैं-

फूड ट्रक पॉल्सी
सिटी लॉजिस्टिक्स नीति
महिला सम्मान निधि योजना
दिल्ली इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम डिजाइन,
मेयर चुनाव के लिए पीठासीन अधिकारी की नियुक्ति
जल बिल निपटान योजना
मुख्यमंत्री दिल्ली स्ट्रीट लाइट योजना
ई व्हीकल पॉलिसी
मोहल्ला बस सर्विस