ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRमुझे तो लगा था कि 6-7 महीने नहीं निकल पाऊंगा; बेल को चमत्कार बता बोले केजरीवाल

मुझे तो लगा था कि 6-7 महीने नहीं निकल पाऊंगा; बेल को चमत्कार बता बोले केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल जेल से बाहर आते ही चुनाव प्रचार में लग गए हैं। इसी कड़ी में आज उन्होंने सभी निगम पार्षदों से बात की और मुश्किल की घड़ी में एकजुट रहने के लिए उनकी तारीफ की।

मुझे तो लगा था कि 6-7 महीने नहीं निकल पाऊंगा; बेल को चमत्कार बता बोले केजरीवाल
Aditi Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 13 May 2024 02:06 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जेल से बाहर आने के बाद आज निगम पार्षदों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि इन्हें लगा था कि केजरीवाल को जेल भेजकर पार्टी को तोड़ देंगे लेकिन जो हुआ वो इसके ठीक विपरीत था। इस दौरान उन्होंने ये भी कहा कि उन्हे इस बात की उम्मीद नहीं थी कि वह इतनी जल्दी बाहर आ पाएंगे। उन्होंने अपनी बेल को चमत्कार बताया। 

केजरीवाल ने कहा,  BJP वालों ने मुझे यह सोचकर जेल भेजा था कि इससे आम आदमी पार्टी के विधायकों, पार्षदों और कार्यकर्ताओं को तोड़ देंगे। दिल्ली और MCD में सरकार गिरा देंगे। इसकी मंशा नाकाम हो गई और इससे हमारी पार्टी और भी संगठित और मजबूत हो गई। AAP केवल एक पार्टी ही नहीं बल्कि एक परिवार और विचार है, जिसे तोड़ना असम्भव है।

केजरीवाल ने गीता में भगवान कृष्ण के दिए उपदेश का जिक्र किया और कहा, भगवान आपको दिखाई नहीं देते लेकिन आपको लगता है कि कुछ तो है कि अचानक सबकुछ ठीक होने लग गया। उन्होंने कहा, किसी को उम्मीद नहीं थी कि वह बाहर आएंगे लेकिन चमत्कार हो गया। उन्होंने कहा, जब मुझे गिरफ्तार किया गया तो लगा कि अब 6-7 महीने तक बाहर नहीं आ पाऊंगा। मैे इसके लिए मानसिक तौर पर तैयार भी था लेकिन चमत्कार हो गया। केजरीवाल ने इस दौरान यह भी दावा किया कि जेल में उन्हें अपमानित करने का प्रयास किया गया और उनकी सेल में लगे दो सीसीटीवी कैमरों के फुटेज पर 13 अधिकारियों ने नजर रखी। 

केजरीवाल ने कहा, इन्होंने मुझे जेल के अंदर अपमानित करके, बेइज्जत करके और मेरी दवा रोककर तोड़ने का प्रयास किया।  इन्होंने मेरी इंसुलिन रोक दी। लेकिन जब आपने आवाज उठाई तब जाकर इन्होंने मुझे इंसुलिन दी। इन्होंने मुझे मेरी धर्मपत्नी से मिलने को रोक दिया। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान जी से मुझे ऐसे मिलवाया, जैसे हम अपराधी हों। मेरे सेल में दो-दो CCTV लगाकर रखे थे, जिसे 13 अफसर लगातार देखते थे। इसके साथ ही प्रधानमंत्री भी मुझे देख रहे थे।