ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRदिल्ली में पानी के बिल माफ स्कीम पर रार, केजरीवाल ने बुलाई सभी दलों की बैठक; कैसे निकलेगा समाधान 

दिल्ली में पानी के बिल माफ स्कीम पर रार, केजरीवाल ने बुलाई सभी दलों की बैठक; कैसे निकलेगा समाधान 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पानी के बिल माफ स्कीम को लेकर सभी दलो की एक बैठक बुलाई है। यह बैठक सीएम आवास पर आज शाम को चार बजे होगी। केजरिवाल ने अफसरों पर योजना को रोकने का आरोप लगाया है।

दिल्ली में पानी के बिल माफ स्कीम पर रार, केजरीवाल ने बुलाई सभी दलों की बैठक; कैसे निकलेगा समाधान 
Sneha Baluniलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 22 Feb 2024 08:52 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार और अधिकारियों के बीच इन दिनों पानी बिल माफ योजना को लेकर तकरार चल रही है। सरकार का आरोप है कि अधिकारी दिल्ली जल बोर्ड की वन टाइम सैटलमेंट स्कीम को रोक रहे हैं। इसे लेकर विधानसभा में भी काफी हंगामा हुआ। अब मुख्यमंत्री केजरीवाल ने राष्ट्रीय राजधानी में बढ़े हुए पानी के बिलों के समाधान के लिए 'वन टाइम सैटलमेंट' योजना को लागू करने के लिए सभी दलों की बैठक बुलाई है। आज शाम चार बजे सीएम आवास पर यह बैठक होगी। इसकी जानकारी दिल्ली सरकार के अधिकारी ने दी।

अधिकारी रोक रहे योजना

दिल्ली विधानसभा ने सोमवार को एक प्रस्ताव पारित कर उपराज्यपाल (एलजी) वीके सक्सेना से दिल्ली जल बोर्ड की 'वन टाइम सैटलमेंट योजना' शुरू करने का आग्रह किया। जिससका फायदा दिल्ली में 10 लाख से अधिक कस्टमर्स को मिलेगा। आप विधायक राजेंद्र पाल गौतम द्वारा पेश किए गए प्रस्ताव पर सदन में बोलते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अधिकारी बकाया पानी बिलों के लिए'वन टाइम सैटलमेंट योजना' लाने की आम आदमी पार्टी (आप) सरकार की योजना में बाधा डाल रहे हैं। उन्होंने घोषणा की कि यदि योजना शीघ्र लागू नहीं की गई तो आप शहर में इसे लेकर बड़ा आंदोलन करेगी।

प्रस्ताव में गौतम ने कहा कि प्रमुख सचिव, शहरी विकास और प्रमुख सचिव, वित्त सचिव ने मंत्रियों के लिखित आदेश के बावजूद योजना को लागू करने से इनकार कर दिया है। प्रस्ताव में एलजी सक्सेना से अधिकारियों को योजना को लागू करने का निर्देश देने का आग्रह किया गया है। संशोधित जीएनसीटीडी अधिनियम के तहत, दिल्ली में नौकरशाह उपराज्यपाल को रिपोर्ट करते हैं। इस मामले पर सदन में अपने भाषण में केजरीवाल ने कहा कि अधिकारियों ने कहा है कि उन्हें धमकियों मिल रही हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें