ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRकेजरीवाल ने कहा- बदनाम करने के लिए किया गया गिरफ्तार, ED बोली- घोटाला तो हुआ; फैसला सुरक्षित

केजरीवाल ने कहा- बदनाम करने के लिए किया गया गिरफ्तार, ED बोली- घोटाला तो हुआ; फैसला सुरक्षित

ईडी ने मंगलवार को हाई कोर्ट से कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल 'शराब घोटाले' के 'सरगना' और 'षडयंत्रकारी' हैं। ईडी ने कहा कि अपराध से प्राप्त आय की मुख्य लाभार्थी आम आदमी पार्टी है।

केजरीवाल ने कहा- बदनाम करने के लिए किया गया गिरफ्तार, ED बोली- घोटाला तो हुआ; फैसला सुरक्षित
Sudhir Jhaहेमलता कौशिक,नई दिल्लीWed, 03 Apr 2024 05:02 PM
ऐप पर पढ़ें

अरविंद केजरीवाल को राहत मिलेगी या उनकी मुश्किलें जारी रहेंगी? इसका फैसला करने को दिल्ली हाई कोर्ट में बुधवार को लंबी बहस हुई। अरविंद केजरीवाल की याचिका पर बहस के बाद हाई कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है। केजरीवाल ने कथित शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस अपनी गिरफ्तारी को चुनौती देते हुए हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। एक दिन पहले ही इस केस में आप के राज्यसभा सांसद को सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिली है।  

जस्टिस स्वर्णकांता शर्मा की पीठ के अरविंद केजरीवाल की तरफ से वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पेश हुए तो ईडी का पक्ष एएसजी एसवी राजू रख रहे हैं। सिंघवी ने जहां केजरीवाल को निर्दोष बताते हुए उनकी गिरफ्तारी की टाइमिंग पर सवाल उठाते हुए दावा किया कि चुनाव में हिस्सा लेने से रोकने के लिए ऐसा किया गया है। वहीं,  ईडी ने कहा कि इसमें कोई शक नहीं है कि घोटाला हुआ है। केंद्रीय जांच एजेंसी ने दावा किया कि उसके पास केजरीवाल के खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं। 

एएसजी ने कहा कि यह तथ्य कि धनशोधन का अपराध हुआ है, इसमें कोई संदेह नहीं है। अदालत इस अपराध पर संज्ञान ले चुकी है। संज्ञान अपराध पर होता है, अपराधी पर नहीं। अपराध पर संज्ञान के बाद आरोपियों को लेकर जांच होती है। जोकि इस मामले में भी हो रही है। आरोपियों की जांच को लेकर बाधा उत्पन्न नहीं की जा सकती। एएसजी ने कहा कि आज केजरीवाल का रवैया यह है कि वह एक संत है। लेकिन वास्तव में केजरीवाल ने जो किया है वह बहुत ही चतुराई से किया है। ईडी ने कड़ी मेहनत से सबूत ढूंढे हैं।

राजू ने चुनाव से पहले केजरीवाल की गिरफ्तारी को लेकर उठाए जा रहे सवालों पर भी जवाब दिया। उन्होंने कहा 'सोचिए कि कोई चुनाव से दो दिन पहले हत्या कर देता है। इसका मतलब कि उसे गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है? इसमें बेसिक स्ट्रक्चर (संविधान) आ जाता है। अपराधियों को गिरफ्तार करके जेल में डालना होता है।' एएसजी राजू ने कहा कि आम आदमी जेल जाते हैं लेकिन मैं सीएम हूं तो क्या देश को लूट सकता हूं? पैसे बना सकता हूं और रिश्वत ले सकता हूं।

बार एंड बेंच के मुताबिक बहस के बीच एएसजी राजू ने कहा- हम आम आदमी पार्टी की कुछ प्रॉपर्टी भी जब्त करना चाहते हैं। यदि हम ऐसा करेंगे तो कहा जाएगा कि चुनाव के टाइम पर ये सब किया? यदि हम नहीं करते हैं तो कहा जाता है कि सबूत कहां हैं? इसलिए मैं कुछ दुविधा में हूं। राजू ने कहा, '5 पर्सेंट प्रॉफिट को 12 पर्सेंट क्यों किया गया। यह इसलिए किया गया ताकि 7 पर्सेंट की रिश्वत ली जा सके। घोटाला हुआ है यह बात संदेह से परे है। कितना भी आप शोर मचा लो यह बात तय है कि घोटाला हुआ है। इंडो स्प्रिट को शिकायत के बावजूद लाइसेंस दिया गया। जिन्होंने रिश्वत नहीं दी उन्हें लाइसेंस वापस करने को कहा गया।'

गिरफ्तारी की याचिका का विरोध करते हुए ईडी के वकील एएसजी राजू ने कहा कि याचिकाकर्ता की तरफ से ऐसी दलीलें दी गईं जैसे यह जमानत याचिका गिरफ्तारी को चुनौती देने की नहीं। इस मामले में जहां तक केजरीवाल की बात है जांच अभी शुरुआती दौर में है, जांच अभी पूरी नहीं हुई है। ईडी के वकील ने कहा कि 126 करोड़ की प्रॉपर्टी अटैच की जा चुकी है। हम आप आदमी पार्टी की संपत्ति की भी जांच करना चाहते हैं। 

सिंघवी ने गवाहों और ईडी के बीच 'मैच फिक्स' होने का आरोप लगाते हुए एक बार फिर कोर्ट को बताया कि कैसे इन गवाहों के शुरुआती बयानों में केजरीवाल का नाम नहीं लिया गया था। सिंघवी ने आरोप लगाया कि ईडी ने दबाव डालकर बयान बदलवाए। उन्होंने गवाहों और आरोपियों के बयान बदलने और केजरीवाल का नाम लिए जाने के बाद राहत मिलने का जिक्र किया।

अधिवक्ता सिंघवी ने कहा कि आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद गिरफ्तारी का असली मकसद अपमानित करने व केजरीवाल को चुनाव में शामिल होने से रोकना और अक्षम बनाना है। हाई कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि उनकी गिरफ्तारी के समय से यह सुनिश्चित हो गया कि वह आगामी चुनाव में भाग नहीं ले सकेंगे। 

सिंघवी ने आरोप लगाया कि लोकसभा चुनाव में प्रचार से रोकन के लिए केजरीवाल को गिरफ्तार किया गया है। सिंघवी ने कहा कि केजरीवाल के खिलाफ पीएमएलए की धारा 50 के तहत कोई सामग्री नहीं है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल को  पहली बार 30 अक्टूबर को समन भेजा गया जबकि नौवां समन 16 मार्च को भेजा गया। उन्होंने पूछा कि आखिर गिरफ्तारी की ऐसी क्या अर्जेंसी थी। सिंघवी ने कहा कि पहले और आखिरी समन के बीच छह महीने बीत गए। उन्होंने कहा कि बिना किसी जांच, बयान और सबूत के गिरफ्तार कर लिया गया। केजरीवाल की ओर से सिंघवी ने बताया कि उनके मुवक्किल समन पर इसलिए हाजिर नहीं हुए क्योंकि से अवैध थे। 

ईडी ने मंगलवार को हाई कोर्ट से कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल 'शराब घोटाले' के 'सरगना' और 'षडयंत्रकारी' हैं और इसके पास उपलब्ध सामग्री के आधार पर यह मानने के कारण हैं कि वह मनी लॉन्ड्रिंग के अपराध के दोषी हैं। केजरीवाल की याचिका का विरोध करते हुए ईडी ने आम आदमी पार्टी पर भी आरोप लगाया और कहा कि राजनीतिक दल अपराध की आय का 'प्रमुख लाभार्थी' था। ईडी ने कहा कि केजरीवाल के माध्यम से अपराध किया गया है। 

ईडी ने कहा कि आप ने केजरीवाल के माध्यम से धनशोधन का अपराध किया है और इस तरह यह अपराध पीएमएलए, 2002 की धारा 70 के दायरे में आता है। ईडी ने कहा, 'आम आदमी पार्टी दिल्ली आबकारी घोटाले में अर्जित अपराध की आय की प्रमुख लाभार्थी है। अरविंद केजरीवाल आप की प्रमुख गतिविधियों को नियंत्रित करते हैं। जैसा कि गवाहों के बयान से स्पष्ट होता है कि वह पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से एक हैं और नीति बनाने के निर्णयों में भी शामिल थे।'

अरविंद केजरीवाल को कथित शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस में 21 मार्च को गिरफ्तार किया गया था। 10 दिनों की ईडी रिमांड के बाद केजरीवाल को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया गया था। गिरफ्तारी के तुरंत बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री की ओर से सुप्रीम कोर्ट का भी दरवाजा खटखटाया गया था, लेकिन सुनवाई से पहले याचिका वापस ले ली गई थी। गिरफ्तारी से पहले दिल्ली हाई कोर्ट ने केजरीवाल को राहत देने से इनकार किया था। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें