ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRअरविंद केजरीवाल और हेमंत सोरेन की याचिका पर कल 'सुप्रीम' सुनवाई, दोनों की एक ही शिकायत

अरविंद केजरीवाल और हेमंत सोरेन की याचिका पर कल 'सुप्रीम' सुनवाई, दोनों की एक ही शिकायत

अरविंद केजरीवाल और हेमंत सोरेन की एक ही शिकायत है, दोनों ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की गिरफ्तारी को अवैध बताते हुए उसे चुनौती दिया है। सोरेन ने झारखंड हाई कोर्ट पर देरी का आरोप भी लगाया है।

अरविंद केजरीवाल और हेमंत सोरेन की याचिका पर कल 'सुप्रीम' सुनवाई, दोनों की एक ही शिकायत
Devesh Mishraलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 28 Apr 2024 10:39 AM
ऐप पर पढ़ें

जेल में बंद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और झारखंड के पूर्व सीएम हेमंत सोरेन की याचिका पर कल (29 अप्रैल) को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी। दोनों दिग्गज नेताओं की याचिकाओं पर जस्टिस संजीव खन्ना और दीपांकर दत्ता की बेंच सुनवाई करेगी। दरअसल, केजरीवाल और सोरेन की एक ही शिकायत है, दोनों ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की गिरफ्तारी को अवैध बताते हुए उसे चुनौती दिया है। हेमंत सोरेन ने झारखंड हाई कोर्ट पर देरी का आरोप भी लगाया है तो वहीं केजरीवाल ने दिल्ली हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती दिया है। आइए दोनों नेताओं का केस डिटेल में समझते हैं...

हेमंत सोरेन की क्या शिकायत
हेमंत सोरेन 24 अप्रैल को देश की सबसे बड़ी अदालत में पहुंचे। उन्होंने अपनी याचिका में झारखंड हाई कोर्ट पर फैसला सुनाने में देरी करने का आरोप लगाया। सोरेन के वकील कपिल सिब्बल ने बताया कि ईडी की गिरफ्तारी वाले मामले में हाई कोर्ट ने 28 फरवरी को फैसला सुरक्षित रख लिया लेकिन अभी तक उसे सुनाया नहीं गया। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से तत्काल सुनवाई की मांग की थी। बता दें कि गिरफ्तारी के दिन भी हेमंत सोरेन सुप्रीम कोर्ट पहुंचे थे, उन्होंने ईडी की गिरफ्तारी को अवैध और राजनीति से प्रेरित बताया था, लेकिन उच्चतम न्यायालय ने उन्हें हाई कोर्ट जाने को कहा। हाई कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई के बाद अपना फैसला सुरक्षित रखा है। 

केजरीवाल पर भी कल 'सुप्रीम' सुनवाई
कथित शराब घोटाला में ईडी ने 21 मार्च को 'आप' सुप्रीमो को गिरफ्तार किया था। ईडी की गिरफ्तारी के बाद सीएम केजरीवाल सुप्रीम कोर्ट जाने का फैसला किए। हालांकि बाद में उन्होंने हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। दिल्ली उच्च न्यायालय में उनकी याचिका 9 अप्रैल को खारिज हो गई। इसके बाद तिहाड़ जेल में बंद केजरीवाल सबसे बड़ी अदालत में हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देने के लिए पहुंचे। 'लाइव लॉ' की रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों की याचिकाओं पर सोमवार (29 अप्रैल) को सुनवाई होगी। केजरीवाल और सोरेन की याचिकाएं जस्टिस संजीव खन्ना और दीपांकर दत्ता की बेंच के समझ सूचीबद्ध हैं।

चाचा के अंतिम संस्कार में जाने के लिए नहीं मिली बेल
जमीन घोटाला मामले में जेल में बंद हेमंत सोरेन को ईडी कोर्ट ने प्रोविजनल बेल (औपबंधिक जमानत) देने से इनकार कर दिया है। हेमंत ने अपने चाचा राजाराम सोरेन के अंतिम संस्कार समेत श्राद्ध कर्म में शामिल होने के लिए शनिवार को 13 दिन की औपबंधिक जमानत की अर्जी दी थी। याचिका पर सुनवाई ईडी के विशेष न्यायाधीश राजीव रंजन की अदालत में हुई। सुनवाई के दौरान ईडी के वकील ने औपबंधिक जमानत किन परिस्थितियों में दी जा सकती है, इस पर बहस की और याचिका का विरोध किया। वहीं हेमंत सोरेन के वकील ने अंत्येष्टि और श्राद्ध कर्म में शामिल होने के लिए औपबंधिक जमानत देने का अनुरोध किया। दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने याचिका खारिज कर दी। मालूम हो कि बड़गाईं अंचल की 8.86 एकड़ जमीन से जुड़े घोटाला मामले में हेमंत सोरेन को ईडी ने 31 जनवरी को गिरफ्तार किया था। तब से वे होटवार जेल में हैं। बता दें कि शिबू सोरेन के बड़े भाई और हेमंत सोरेन के चाचा राजाराम सोरेन का शनिवार को निधन हो गया। इससे पहले हेमंत सोरेन की ओर से विधानसभा सत्र में शामिल होने की याचिका भी दी गई थी, जिसे अदालत ने खारिज कर दिया था।