DA Image
20 अक्तूबर, 2020|1:23|IST

अगली स्टोरी

दिल्ली में इस बार 25% लोगों में मिले एंटीबॉडी, चौथा सिरो सर्वे 15 दिन में होगा शुरू : सत्येंद्र जैन

sero survey  file photo   ht

राजधानी दिल्ली में सितंबर माह में कोरोना संक्रमण को लेकर हुए तीसरे सिरो सर्वे में 25.1 फीसदी लोगों में ही COVID-19 से लड़ने वाली एंटीबॉडी मिली हैं, पिछले सर्वे में यह आंकड़ा 28.7 प्रतिशत था। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने गुरुवार को बताया कि राजधानी में 15 दिनों के भीतर अगला सिरो सर्वे शुरू हो जाएगा।  

जानकारी के अनुसार, दिल्ली में 1 से 7 सितंबर तक तीसरा सिरो सर्वे किया गया था। इसमें दिल्ली के सभी 11 जिलों से कुल 17 हजार से ज्यादा नमूने लिए गए थे। सर्वे के जरिये यह पता लगाया जाता है कि इस समय कितने फीसदी लोगों में संक्रमण के खिलाफ एंटीबॉडी बन चुकी है। इससे दिल्ली में कोरोना की स्थिति का विस्तारपूर्वक विश्लेषण किया जा सकेगा।

दिल्ली में इस बार 25% लोगों में मिली कोरोना की एंटीबॉडी 

घट गई एंटीबॉडी वाले लोगों की हिस्सेदारी

दिल्ली में इससे पहले अगस्त में सिरो सर्वे किया गया था। इस दौरान राजधानी में 29 फीसदी लोगों में कोरोना के खिलाफ लड़ने वाले एंटीबॉडी मिली थीं। इसका मतलब है कि ये लोग कोरोना से संक्रमित हुए थे और इनमें कोरोना से लड़ने के लिए प्रतिरोधक क्षमता भी विकसित हुई। इससे पहले जुलाई में हुए सिरो सर्वे में 22.86 फीसदी लोगों में कोरोना से लड़ने वाले एंटीबॉडी मिली थे। इन सभी सर्वे में उन्हीं नियमों का पालन किया गया है, जो नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) की तरफ से किए गए सर्वे में किया गया था।

हार्ड इम्यूनिटी बहुत दूर की बात : विशेषज्ञ

एम्स के प्रोफेसर नवल विक्रम का कहना है कि लोगों में एंटीबॉडी हमेशा नहीं रहते। उन्होंने कहा कि सम्भव है लोगों में एंटीबॉडी बनने के बाद कम हो गए हों। उन्होंने कहा कि हालिया सर्वे के नतीजों को देखकर लगता है हार्ड इम्यूनिटी अभी बहुत दूर है। इसके सहारे कोरोना को नहीं हराया जा सकता। उन्होंने कहा कि जब तक वैक्सीन नहीं आ जाती है लोगों को लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करते रहना चाहिए।

कम होने लगते हैं एंटीबॉडी

प्रो. विक्रम का कहना है कि अभी तक एंटीबॉडी बनने यानी शरीर में कोरोना के खिलाफ कब तक लड़ने की क्षमता विकसित हुई है इस पर कई शोध हुए हैं। कुछ शोध के मुताबिक 70 से 90 दिनों तक शरीर में कोरोना से लड़ने वाले एंटीबॉडी बचे हो सकते हैं। उन्होंने एक अन्य शोध के हवाले से कहा कि एंटीबॉडीज 50 से 60 दिनों में आधे हो जाते हैं। मुंबई एक एक अस्पताल में हुए एक शोध के मुताबिक, कोरोना से ठीक हुए 34 लोगों पर हुए शोध में पाया गए कि एंटीबॉडी 45 से 50 दिनों में ही कम होने लगती हैं।  तीन सप्ताह पहले कोरोना संक्रमित पाए गए 90% लोगों के शरीर में एंटीबॉडीज पाई गई। वहीं पांच प्ताह पहले संक्रमित पाए गए 38.5 फीसदी लोगों के शरीर में एंटीबॉडीज पाई गई।

दिल्ली में 2 लाख 80 हजार के पास पहुंची COVID-19 संक्रमितों की संख्या

(न्यूज एजेंसी एएनआई के इनपुट के साथ)

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Antibodies found in 25 percent of people in September at Delhi fourth Sero survey will start in 15 days: Satyendar Jain