ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRमुख्य सचिव का चरित्र हनन, भ्रष्टाचार के आरोप आधारहीन; CM ने दिए जांच के आदेश तो बोले अफसर

मुख्य सचिव का चरित्र हनन, भ्रष्टाचार के आरोप आधारहीन; CM ने दिए जांच के आदेश तो बोले अफसर

अरविंद केजरीवाल ने निगरानी मंत्री को निर्देश दिया था कि वो दिल्ली के मुख्य सचिव नरेश कुमार और द्वारका एक्सप्रेसवे के जमीन का एक टुकड़ा अधिग्रहण करने वाले मालिक के बीच कनेक्शन की जांच करवाएं।

मुख्य सचिव का चरित्र हनन, भ्रष्टाचार के आरोप आधारहीन; CM ने दिए जांच के आदेश तो बोले अफसर
Nishant Nandanएएनआई,नई दिल्लीMon, 13 Nov 2023 08:35 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के मुख्य सचिव नरेश कुमार और द्वारका एक्सप्रेसवे के लिए अधिग्रहित किए गए जमीन के मालिक के बीच कोई कनेक्शन नहीं है। यह कहना है कि दिल्ली के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी (रेवेन्यू) अश्वनी कुमार का। उन्होंने सोमवार को कहा कि दिल्ली के मुख्य सचिव नरेश कुमार और द्वारका एक्सप्रेसवे के लिए अधिग्रहित की गई जमीन के मालिकों के बीच कनेक्शन का आरोप झूठे और आधारहीन हैं।' एक संवाददाता सम्मेलन में दिल्ली के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी ने कहा कि मुख्य सचिव का चरित्र हनन किया जा रहा है उनपर लगे भ्रष्टाचार के आरोप झूठे हैं।

अश्वनी कुमार ने कहा, 'यह प्रेस कॉन्फ्रेंस इसलिए किया गया है क्योंकि कई भ्रांतियां और झूठ फैलाए जा रहे हैं। यह जरूरी है कि जो तथ्य रिकॉर्ड में हैं उन्हें सामने लाया जाए ताकि सच लोगों तक पहुंच सके। मुख्य सचिव के खिलाफ लगाए गए आरोप आधारहीन हैं औऱ उनका चरित्र हनन किया जा रहा है।' उन्होंने आगे कहा कि कॉन्ट्रैक्ट देने में नरेश कुमार की कोई भूमिका नहीं है। अश्वनी कुमार ने कहा, 'कॉन्ट्रैक्ट देने में मुख्य सचिव की कोई भूमिका नहीं थी और ना ही उन्होंने कोई ऐक्शन लिया था।'

इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने निगरानी मंत्री को निर्देश दिया था कि वो दिल्ली के मुख्य सचिव नरेश कुमार और द्वारका एक्सप्रेसवे के जमीन का एक टुकड़ा अधिग्रहण करने वाले मालिक के बीच कनेक्शन की मिली शिकायत की एक विस्तृत जांच करवाएं। केजरीवाल के निर्देश पर मंत्री आतिशी ने निदेशक डायरेक्टर और डिविजनल कमिश्नर को खत लिख मुख्य सचिव नरेश कुमार पर भ्रष्टाचार के लगे आरोपों की जांच करने को लेकर लिखा था। 

इससे पहले दिल्ली हाई कोर्ट ने जिलाधिकारी हेमंत कुमार द्वारा दिए गए 300 करोड़ रुपये से ज्यादा के मुआवजे को निरस्त कर दिया गया था। यह पैसे द्वारका एक्सप्रेसवे के लिए बनमोली गांव में अधिग्रहित किए गए जमीन के मुआवजे के तौर पर दिए गए थे। हेमंत कुमार को उनके पद से सस्पेंड भी किया गया था। 

साल 2013 बैच के आईएएस अधिकारी हेमंत कुमार ने साउथवेस्ट दिल्ली के डीएम रहने के दौरान National Highways Authority of India (NHAI)द्वारा अधिग्रहित किए गए 19-एकड़ जमीन के मुआवजे को 41.5 से बढ़ाकर 353.8 रुपये किया था। अदालत ने इस बात पर गौर किया था इस दौरान नियमों का उल्लंघन किया गया था।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें