ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRऐसा कभी नहीं हुआ, HC की जमानत पर रोक अभूतपूर्व; केजरीवाल के वकील सिंघवी की कोर्ट में क्या दलीलें

ऐसा कभी नहीं हुआ, HC की जमानत पर रोक अभूतपूर्व; केजरीवाल के वकील सिंघवी की कोर्ट में क्या दलीलें

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल हाईकोर्ट ओर से सोमवार को वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट के 10 मई के उस आदेश का भी जिक्र किया जिसके तहत सीएम को जमानत दी गई थी।

ऐसा कभी नहीं हुआ, HC की जमानत पर रोक अभूतपूर्व; केजरीवाल के वकील सिंघवी की कोर्ट में क्या दलीलें
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 25 Jun 2024 06:23 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान सोमवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट के 10 मई के उस आदेश का भी जिक्र किया, जिसके तहत केजरीवाल को अंतरिम जमानत दी गई थी। सिंघवी ने पीठ से कहा कि उस फैसले में शीर्ष अदालत ने कहा था कि केजरीवाल के भागने का खतरा नहीं है और उनका कोई आपराधिक इतिहास नहीं है।

रिहाई पर रोक अभूतपूर्व 

वरिष्ठ अधिवक्ता सिंघवी ने कहा कि हाईकोर्ट ने मुख्यमंत्री केजरीवाल को विशेष अदालत द्वारा दी गई जमानत के बाद जिस तरह से उनकी रिहाई पर रोक लगाई गई, वह अभूतपूर्व है। उन्होंने कहा कि ऐसा कभी नहीं हुआ। सिंघवी ने पीठ से कहा कि ‘इस अदालत को हाईकोर्ट के आदेश पर उसी तरह से रोक लगानी चाहिए, जिस तरह हाईकोर्ट ने ईडी के आग्रह पर विशेष अदालत के आदेश पर रोक लगा दी थी। सिंघवी ने कहा कि यदि हाईकोर्ट बिना आदेश और फाइल के मामले में रोक लगाने के लिए अंतरिम आदेश पारित कर सकता है तो सुप्रीम कोर्ट क्यों नहीं कर सकता? उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट भी अंतरिम आदेश पारित कर सकता है।

यह था मामला 

विशेष अदालत ने 20 जून को मुख्यमंत्री केजरीवाल को जमानत दे दी थी। इसके अगले दिन, उच्च न्यायालय ने ईडी की अपील पर विचार करते हुए, मुख्यमंत्री केजरीवाल की रिहाई पर रोक लगा दी और कहा कि इस मामले में अगले कुछ दिनों में फैसला देंगे।

स्थगन आदेश उसी दिन सुनाया जाता है 

जस्टिस मिश्रा ने कहा कि स्थगन आदेश सामान्यत: उसी दिन सुनाया जाता है और इसे सुरक्षित नहीं रखा जाता। उन्होंने यह भी कहा कि यह असामान्य है, ऐसे में शीर्ष अदालत इस मुद्दे पर स्पष्ट स्थिति से अवगत होने के लिए हाईकोर्ट द्वारा आदेश पारित किए जाने का इंतजार करना चाहेगा। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि केजरीवाल का पक्ष रख रहे वरिष्ठ अधिवक्ता सिंघवी से कहा कि इस स्तर पर कोई भी आदेश पारित करना, पूर्वाग्रह से ग्रसित होना होगा।

Advertisement