ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRदस दिन बाद फिर दमघोंटू हुई दिल्ली की हवा, किस इलाके में कितना पॉलूशन, कैसे रहेंगे हालात?

दस दिन बाद फिर दमघोंटू हुई दिल्ली की हवा, किस इलाके में कितना पॉलूशन, कैसे रहेंगे हालात?

Delhi Pollution: दिल्ली में एकबार फिर प्रदूषण बढ़ गया है। दिल्ली का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 300 के पार यानी बेहद खराब श्रेणी में पहुंच गया है। किस इलाके में कितना पॉलूशन जानें...

दस दिन बाद फिर दमघोंटू हुई दिल्ली की हवा, किस इलाके में कितना पॉलूशन, कैसे रहेंगे हालात?
Krishna Singhलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 11 Feb 2024 07:12 PM
ऐप पर पढ़ें

राजधानी दिल्ली की हवा दस दिनों बाद फिर से दमघोंटू हो गई है। रविवार को दिल्ली का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 300 के पार यानी बेहद खराब श्रेणी में पहुंच गया। अगले दो दिनों के बीच भी वायु गुणवत्ता का स्तर कमोबेश ऐसा ही रहने का अनुमान है। दिल्ली के लोगों के इस बार प्रदूषण का सीजन कुछ ज्यादा ही लंबा खिंचता दिख रहा है। राजधानी में आमतौर पर नवंबर से लेकर जनवरी तक के महीने में प्रदूषण का स्तर सामान्य से ज्यादा रहता है और हवा प्रदूषित रहती है। लेकिन, फरवरी की शुरुआत के साथ ही प्रदूषण में कमी आने लगती है। 

तीन दिन में इस तरह बढ़ा प्रदूषण
09 फरवरी---145
10 फरवरी---295
11 फरवरी---313

बारिश के बावजूद नहीं मिल रही राहत
इस बार लोगों को पूरी तरह प्रदूषण से राहत नहीं मिल पा रही है। पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता से 31 जनवरी को दिल्ली व आसपास के इलाके में अच्छी बारिश हुई थी। इसके बाद लगभग सौ दिनों से खराब स्थिति में चल रही दिल्ली की हवा से प्रदूषण काफी हद तक साफ हो गया था और लोगों को राहत मिली थी। लेकिन, अब एक बार फिर से प्रदूषण का स्तर बढ़ता दिख रहा है। 

यहां की हवा सबसे खराब
नेहरू नगर---373
जहांगीरपुरी---357
रोहिणी---356
द्वारका---351
आरके पुरम---351

चौबीस घंटे के भीतर इसमें 18 अंकों की बढ़ोतरी
केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक रविवार को दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक 313 के अंक पर रहा। इस स्तर की हवा को बेहद खराब श्रेणी में रखा जाता है। एक दिन पहले शनिवार को यह सूचकांक 295 के अंक पर रहा था। यानी चौबीस घंटे के भीतर इसमें 18 अंकों की बढ़ोतरी हुई है।

प्रदूषक कणों का स्तर सामान्य से ढाई गुना ज्यादा
मानकों के मुताबिक, हवा में पीएम 10 का स्तर 100 से और पीएम 2.5 का स्तर 60 से कम होने पर ही उसे स्वास्थ्यकारी माना जाता है। लेकिन, सीपीसीबी के मुताबिक रविवार की शाम पांच बजे दिल्ली-एनसीआर की हवा में पीएम 10 का स्तर 244 और पीएम 2.5 का स्तर 139 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर पर रहा। यानी हवा में प्रदूषक कणों का स्तर सामान्य से लगभग ढाई गुना ज्यादा है। 

राहत के संकेत नहीं
वायु गुणवत्ता पूर्व चेतावनी प्रणाली के मुताबिक, अगले दो दिनों के दौरान हवा की रफ्तार आमतौर पर दस किलोमीटर प्रति घंटे से कम रहेगी। इसके चलते प्रदूषक कणों का बिखराव धीमा होगा और दिल्ली के लोगों को बेहद खराब हवा में सांस लेनी पड़ेगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें