DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  आंदोलनकारी किसान केंद्र में सत्ता परिवर्तन नहीं, अपने मुद्दों का समाधान चाहते हैं : राकेश टिकैत

एनसीआरआंदोलनकारी किसान केंद्र में सत्ता परिवर्तन नहीं, अपने मुद्दों का समाधान चाहते हैं : राकेश टिकैत

नई दिल्ली। एजेंसियां Published By: Praveen Sharma
Wed, 10 Feb 2021 08:38 PM
आंदोलनकारी किसान केंद्र में सत्ता परिवर्तन नहीं, अपने मुद्दों का समाधान चाहते हैं : राकेश टिकैत

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने बुधवार को कहा कि आंदोलनकारी किसान केंद्र में कोई सत्ता परिवर्तन नहीं, बल्कि अपनी समस्याओं का समाधान चाहते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि किसान नेता आंदोलन के प्रसार के लिए देश के विभिन्न हिस्सों का दौरा करेंगे।

टिकैत ने सिंघु बॉर्डर पर किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन तब तक जारी रहेगा, जब तक कि केंद्र किसानों के मुद्दों का समाधान नहीं कर देता।

उन्होंने स्पष्ट किया कि केंद्र में सत्ता परिवर्तन का हमारा कोई उद्देश्य नहीं है। सरकार को अपना काम करना चाहिए। हम कृषि कानूनों को निरस्त कराना और एमएसपी पर कानून चाहते हैं। टिकैत ने यह भी कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा की एकता अक्षुण्ण है और सरकार को किसी भ्रम में नहीं रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि देशभर में बड़ी बैठकों का आयोजन कर और 40 लाख ट्रैक्टरों को शामिल कर आंदोलन को विस्तारित किया जाएगा। टिकैत ने कहा कि किसान नेता आंदोलन के प्रसार के लिए विभिन्न राज्यों का दौरा करेंगे।

आज संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में ये फैसले लिए गए 

12 फरवरी से राजस्थान के भी सभी रोड टोल प्लाजा को टोल मुक्त करवाया जाएगा।

14 फरवरी को पुलवामा हमले में शहीद जवानों के बलिदान को याद करते हुए देशभर में कैंडल मार्च व मशाल जुलूस व अन्य कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

16 फरवरी को किसान मसीहा सर छोटूराम की जयंती के दिन देशभर में किसान एकजुटता दिखाएंगे।

18 फरवरी को दोपहर 12 से शाम 4 बजे तक देशभर में रेल रोको कार्यक्रम किया जाएगा। 

सिरसा में 22 को किसान महापंचायत, टिकैत करेंगे संबोधित

हरियाणा के सिरसा में आगामी 22 फरवरी को किसान महापंचायत का आयोजन किया जाएगा, जिसे भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत संबोधित करेंगे।

गांव चौटाला निवासी किसान नेता प्रदीप गोदारा ने यह जानकारी देते हुए बताया कि केंद्र सरकार की ओर से लागू किए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन की कड़ी में गांव चौटाला से ग्रामीण मंगलवार को टिकैत से मिले थे और उनसे सिरसा में किसान महापंचायत करने का आग्रह किया था। गोदारा ने बताया कि टिकैत ने प्रस्ताव स्वीकार कर लिया है और महापंचायत 22 फरवरी को होगी। उन्होंने कहा कि महापंचायत में हरियाणा के अलावा पंजाब व राजस्थान से भी किसानों के शिरकत करने की संभावना है। 

ये भी पढ़ें : चक्का जाम के बाद देशभर में 18 को रेल रोकेंगे किसान, जानें आगे का प्लान

संबंधित खबरें