ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRफर्जी वीजा पर इस्तांबुल भेजा, डिपोर्ट होकर वापस पहुंचे IGI; कबूतरबाजी में तीन गिरफ्तार, ऐसे बिछाया था जाल

फर्जी वीजा पर इस्तांबुल भेजा, डिपोर्ट होकर वापस पहुंचे IGI; कबूतरबाजी में तीन गिरफ्तार, ऐसे बिछाया था जाल

दिल्ली पुलिस ने कबूतरबाजी के मामले में वकील सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने एक यात्री को नवंबर 2022 में गुयाना का फर्जी वीजा देकर इस्तांबुल भेजा था। जहां से डिपोर्ट किया गया।

फर्जी वीजा पर इस्तांबुल भेजा, डिपोर्ट होकर वापस पहुंचे IGI; कबूतरबाजी में तीन गिरफ्तार, ऐसे बिछाया था जाल
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 07 Feb 2024 01:00 PM
ऐप पर पढ़ें

इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट (आईजीआई) में एयरपोर्ट पुलिस ने कबूतरबाजी के एक मामले में तीन दिनों के भीतर तीन एजेंट गिरफ्तार किए हैं। इनमें ट्रेवल एजेंसी चलाने वाला शख्स और एक अधिवक्ता शामिल है। पुलिस ने बीते रविवार को उदित मोगा, सोमवार को सागर डबास और  मंगलवार को केवल सिंह को गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने एक यात्री को नवंबर 2022 में गुयाना का फर्जी वीजा देकर इस्तांबुल भेज दिया था।
   
डीसीपी उषा रंगनानी के अनुसार 19 नवंबर 2022 को गुरमीत सिंह, साहिल कुमार और विक्रम सिंह को इस्तांबुल से डिपोर्ट कर आईजीआई एयरपोर्ट भेजा गया था। उनके दस्तावेजों से पता चला कि एयरपोर्ट से गुरप्रीत सिंह 7 नवंबर को जबकि जयपुर एयरपोर्ट से साहिल कुमार (16 नवंबर) और विक्रम सिंह (14 नवंबर) बाकू (अजरबैजान) गए थे। वहां से तीनों 18 नवंबर को इस्तानबुल पहुंचे। जहां फर्जी वीजा होने के चलते उन्हें प्रवेश नहीं मिला। इस बाबत मामला दर्ज कर एयरपोर्ट पुलिस ने तीनों यात्रियों को गिरफ्तार कर लिया था।

साहिल ने पुलिस को बताया की केवल सिंह, मोगा सिंह और सागर डबास ने उसे गुयाना का फर्जी वीजा दिया है। 20 लाख रुपये में उनका सौदा तय हुआ था। उसने दो लाख रुपये पहले दिए थे जबकि बकाया राशि वहां पहुंचने के बाद देनी थी। इनकी गिरफ्तारी के बाद से यह एजेंट लगातार फरार चल रहे थे। टेक्निकल सर्विलांस की मदद से पुलिस को पता चला कि उदित मोगा दिल्ली में ही छिपा हुआ है। इस जानकारी पर एसएचओ विजेन्द्र राणा की देखरेख में एसआई सरोज की टीम ने छापा मारकर उसे गिरफ्तार कर लिया।

ऐसे शुरू किया कबूतरबाजी का धंधा

आरोपी ने पुलिस को बताया कि वह महिपालपुर में ट्रेवल एजेंसी चलाता है। वह पहले टिकट एवं मनी एक्सचेंज का काम करता था। इस दौरान उसकी दोस्ती केवल सिंह और सागर डबास से हुई। तीनों मिलकर लोगों को विदेश भेजने के नाम पर कबूतरबाजी करने लगे। उसकी निशानदेही पर पुलिस ने लाडपुर गांव से सागर डबास को गिरफ्तार कर लिया। उसने बताया कि वह पेशे से अधिवक्ता है। इसके बाद पुलिस ने केवल सिंह को गिरफ्तार कर लिया।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें