ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRसरकारी अस्पतालों में एजेंट, आयुष्मान कार्ड से इलाज का लालच; दिल्ली में फर्जी डॉक्टर्स ऐसे चला रहे थे रैकेट

सरकारी अस्पतालों में एजेंट, आयुष्मान कार्ड से इलाज का लालच; दिल्ली में फर्जी डॉक्टर्स ऐसे चला रहे थे रैकेट

ग्रेटर कैलाश में फर्जी डॉक्टर के एक रैकेट का भंडोफोड़ हुआ है। जांच में पता चला है कि डॉ. नीरज अग्रवाल ने दिल्ली के कई सरकारी अस्पतालों में अपने एजेंट रखे हुए थे जो उन्हें उनके अस्पताल भेजते थे।

सरकारी अस्पतालों में एजेंट, आयुष्मान कार्ड से इलाज का लालच; दिल्ली में फर्जी डॉक्टर्स ऐसे चला रहे थे रैकेट
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 17 Nov 2023 11:20 AM
ऐप पर पढ़ें

ग्रेटर कैलाश पार्ट-1 में अग्रवाल मेडिकल सेंटर के संचालक डॉ. नीरज अग्रवाल ने दिल्ली के कई सरकारी अस्पतालों में अपने एजेंट रखे हुए थे। यह एजेंट सरकारी अस्पतालों में आने वाले मरीजों को अग्रवाल मेडिकल सेंटर में उपचार के लिए भेजते थे। इसके बदले डॉ. नीरज अग्रवाल इन एजेंटों को मरीज के हिसाब से कमीशन देता था।

डॉ. नीरज आयुष्मान कार्ड से उपचार का लालच देकर यहां मरीजों को बुलाता था। इसके चलते मेडिकल सेंटर में ज्यादा मरीज आते थे। पुलिस जांच में सामने आया है कि अग्रवाल मेडिकल सेंटर के संचालक डॉ. नीरज कुमार ने दिल्ली के करीब एक दर्जन से ज्यादा अस्पतालों में अपने एजेंट रखे हुए थे। यह एजेंट सरकारी अस्पतालों में आने वाले मरीजों को डॉ. नीरज के पास भेजते थे और इसके बदले डॉ. नीरज उन्हें अच्छा कमीशन दिया करता था। 

अपनी पत्नी सुधा के उपचार के लिए डॉ. नीरज के पास आए राहुल कुमार ने बताया कि उनकी पत्नी को पथरी की समस्या है और उनका आपॅरेशन होना था। इसके लिए वह अस्पताल के चक्कर लगा रहे थे। सफदरजंग अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में काम करने वाले एक कर्मचारी ने राहुल को अग्रवाल मेडिकल सेंटर भेजा। राहुल को बताया कि आयुष्मान कार्ड की मदद से उनकी पत्नी की फ्री सर्जरी की जाएगी। सफदरजंग अस्पताल के कर्मचारी ने उससे 5 हजार रुपये भी लिए थे।

आरोपियों को पुलिस हिरासत में भेजा गया

ग्रेटर कैलाश इलाके के एक अस्पताल से तीन फर्जी डॉक्टरों समेत चार लोगों को पुलिस ने गुरुवार को साकेत कोर्ट में पेश किया। अश्विनी पंवार की अदालत ने डॉक्टर जसप्रीत, नीरज अग्रवाल, पूजा अग्रवाल और टेक्नीशियन महेंद्र को पांच दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया।

मशीन से करते थे सर्जरी

आरोपी मशीन की मदद से लोगों की सर्जरी करते थे। महेन्द्र को मशीन ऑपरेट करनी आती थी, लेकिन पुलिस को यह मशीन अग्रवाल मेडिकल सेंटर से बरामद नहीं हुई है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें