ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRपानी के बाद दिल्ली में बिजली संकट ने किया परेशान, सचिवालय सहित कई क्षेत्रों की बत्ती गुल; क्या रहा कारण

पानी के बाद दिल्ली में बिजली संकट ने किया परेशान, सचिवालय सहित कई क्षेत्रों की बत्ती गुल; क्या रहा कारण

दिल्ली में पानी के बाद मंगलवार को जल संकट ने लोगों को परेशान किया। सचिवालय सहित कई क्षेत्रों में लोग पसीना-पसीना हो गए। दिल्ली के कई इलाकों में डेढ़ घंटे से अधिक समय तक बिजली गुल रही।

पानी के बाद दिल्ली में बिजली संकट ने किया परेशान, सचिवालय सहित कई क्षेत्रों की बत्ती गुल; क्या रहा कारण
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 12 Jun 2024 05:53 AM
ऐप पर पढ़ें

राजधानी दिल्ली में पड़ रही भीषण गर्मी के बीच पानी की कमी से जूझ रहे दिल्लीवालों को मंगलवार दोपहर बिजली संकट का भी सामना करना पड़ा। इससे सचिवालय सहित कई क्षेत्रों में लोग पसीना-पसीना हो गए। दरअसल, उत्तर प्रदेश के मंडोला में पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के सब स्टेशन में आग लगने के कारण 400 केवीए की लाइन में बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई। इस वजह से दिल्ली के कई इलाकों में डेढ़ घंटे से अधिक समय तक बिजली गुल रही।

इन इलाकों में हुई परेशानी 

बिजली कंपनियों के मुताबिक पावर ग्रिड से आपूर्ति प्रभावित होने के बाद दिल्ली सचिवालय सहित पूर्वी, मध्य दिल्ली, दक्षिणी दिल्ली और उत्तरी दिल्ली के कुछ इलाकों में बिजली कटौती हुई। इस वजह से लोगों को दोपहर के समय भीषण गर्मी से जूझना पड़ा।

दोपहर दो बजे बिजली कटौती हुई 

ऊर्जा मंत्री आतिशी ने बताया कि दोपहर 2.11 बजे बिजली कटी। कटौती पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के मंडोला में स्थित ग्रिड में आग लगने के कारण हुई है। वहां से दिल्ली को कुल 1200 मेगावाट बिजली मिलती है। उन्होंने बताया कि यह चिंता का विषय है कि बिजली कटौती नेशनल पावर ग्रिड की विफलता के कारण हुई है।

एक घंटे में बहाल हुई आपूर्ति

बिजली वितरण कंपनी के एक अधिकारी ने कहा, 'उत्तरी दिल्ली के सिविल लाइंस, मॉडल टाउन, कश्मीरी गेट, गुलाबी बाग, शक्ति नगर और विजय नगर जैसे इलाकों में बिजली आपूर्ति बाधित रही। हालांकि, एक घंटे के भीतर आपूर्ति बहाल कर दी गई।' उन्होंने बताया कि उपराज्यपाल आवास और मुख्यमंत्री आवास की बिजली आपूर्ति भी कुछ समय के लिए प्रभावित रही। मंडोला सब-स्टेशन से दिल्ली को 1200 मेगावाट बिजली मिलती है इसलिए उसमें आग लगने से दिल्ली के कई इलाकों में बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई।

ऊर्जा मंत्री के सामने मुद्दा उठाया जाएगा

आतिशी ने कहा कि भविष्य में दिल्ली में इतनी लंबी बिजली कटौती न हो इसके लिए मैंने नवनियुक्त केंद्रीय ऊर्जा मंत्री मनोहर लाल खट्टर और पीजीसीआईएल के अध्यक्ष से मिलने का समय मांगा है। देश की राजधानी में नेशनल ग्रिड की वजह से इस तरह पावर इंफ्रास्ट्रक्चर के फेल होने के परिणाम बेहद गंभीर हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने हमेशा 24 घंटे 7 दिन बिजली देने का प्रयास किया है। हमने आठ हजार मेगावाट बिजली की मांग भी पूरी की है। ऊर्जा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि करीब चार बजे मंडोला से बिजली आपूर्ति फिर शुरू कर दी गई।