ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRजम्मू के बाद दिल्ली में क्यों मंडरा रहा आतंकी हमले का खतरा, हाई अलर्ट पर पुलिस, मंदिर से लेकर मॉल तक निगरानी

जम्मू के बाद दिल्ली में क्यों मंडरा रहा आतंकी हमले का खतरा, हाई अलर्ट पर पुलिस, मंदिर से लेकर मॉल तक निगरानी

जम्मू-कश्मीर के रियासी जिले में रविवार को आतंकवादियों ने तीर्थयात्रियों को ले जा रही बस पर गोलीबारी की, जिसमें 10 लोग मारे गए और 40 घायल हो गए। लगभग 53 सीट वाली बस शिव खोड़ी मंदिर से कटरा जा रही थी।

जम्मू के बाद दिल्ली में क्यों मंडरा रहा आतंकी हमले का खतरा, हाई अलर्ट पर पुलिस, मंदिर से लेकर मॉल तक निगरानी
Aditi Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 11 Jun 2024 12:00 PM
ऐप पर पढ़ें

जम्मू-कश्मीर के रियासी जिले में रविवार को हुए आतंकी हमले ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है। यह हमला श्रद्धालुओं की बस पर हुआ था जिसमें 10 लोगों की मौत हो गई थी। अब इस हमले के बाद दिल्ली में भी हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।  जानकारी के मुताबिक खूफिया एजेंसियों की तरफ से संकेत दिए गए हैं कि आतंकी दिल्ली में भी बड़ी वारदात करने की कोशिश कर सकते हैं।  ऐसे में दिल्ली पुलिस को निगरानी बढ़ाने के आदेश दिए गए हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक एक वरिष्ठ खुफिया अधिकारी ने कहा कि दिल्ली में पुलिस को पूजा स्थलों और मॉल और बाजारों के आसपास तैनाती बढ़ाने के लिए कहा जा रहा है। उन्होंने कहा कि आतंकवादआने वाले दिनों में केंद्र में एक बार फिर एनडीए सरकार के आने के विरोध में एक और हमले का प्रयास कर सकते हैं।  अधिकारी ने कहा कि यह हमला शपथ ग्रहण वाले दिन हुआ। ऐसे में अब दिल्ली के लिए भी खतरा बढ़ गया लेकिन हम आने  वाले समय इस तरह के किसी भी हमले से निपटने के लिए लगातार उपाय कर रहा हैं। 

बता दें,  जम्मू-कश्मीर के रियासी जिले में रविवार को आतंकवादियों ने तीर्थयात्रियों को ले जा रही बस पर गोलीबारी की, जिसमें 10 लोग मारे गए और 40 घायल हो गए। लगभग 53 सीट वाली बस शिव खोड़ी मंदिर से कटरा जा रही थी, तभी गोलीबारी की वजह से बस सड़क से उतर गई और पोनी क्षेत्र के तेरयथ गांव के पास गहरी खाई में जा गिरी।

एक अधिकारी ने बताया कि गोरखपुर से 17 लोग तीर्थयात्रा पर निकले थे, जिनमें से इस हमले में चार घायल हो गए। अधिकारी ने बताया कि घायलों में दो पुर्दिलपुर काली मंदिर गली के निवासी हैं, जबकि अन्य दो कुड़ाघाट क्षेत्र के भैरोपुर के हैं। गोरखपुर में आपदा प्रबंधन कार्यालय के जिला आपदा विशेषज्ञ गौतम गुप्ता ने बताया कि घायलों का इलाज जारी है और उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है।

अधिकारियों को रविवार रात को आतंकवादी हमले में गोरखपुर के लोगों के घायल होने की जानकारी मिली और उन्होंने तुरंत उनके परिवारों से संपर्क कर उन्हें सहायता प्रदान की। घायल तीर्थयात्रियों की पहचान गायत्री देवी, राजेश, रुकसोना देवी और सोनी देवी के रूप में हुई है। इससे पहले पुलिस उपायुक्त (रियासी) विशेष पाल महाजन ने बताया कि बस के चालक और परिचालक समेत सभी नौ मृतकों की पहचान कर ली गयी।

उन्होंने बताया कि बस चालक विजय कुमार दसानू राजबाग का रहने वाला था जबकि परिचालक अरुण कुमार कटरा के कान्देरा गांव का रहने वाला था। दोनों ही रियासी जिले के रहने वाले थे। पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस आतंकवादी हमले में जान गंवाने वाले अन्य लोगों में राजेंद्र प्रसाद पांडे साहनी, ममता साहनी, पूजा साहनी और उसका दो वर्षीय बेटा टीटू साहनी शामिल हैं, चारों राजस्थान के जयपुर के रहने वाले थे।