ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRझुनझुना मंत्रालय देने के बाद अब घटक दलों को तोड़ने की शुरुआत, BJP पर बरसे संजय सिंह

झुनझुना मंत्रालय देने के बाद अब घटक दलों को तोड़ने की शुरुआत, BJP पर बरसे संजय सिंह

संजय सिंह ने कहा कि मंत्रालय के बंटवारे के बाद इसकी शुरुआत हुई है। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा ने 10 साल में देश के अंदर जोड़-तोड़ करके, विधायकों और सांसदों की खरीद फरोख्त करके पार्टियों को तोड़ा है।

झुनझुना मंत्रालय देने के बाद अब घटक दलों को तोड़ने की शुरुआत, BJP पर बरसे संजय सिंह
Nishant Nandanवार्ता,नई दिल्लीTue, 11 Jun 2024 05:40 PM
ऐप पर पढ़ें

आम आदमी पार्टी (आप) के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक दलों को मंत्रिमंडल में सम्मान न देकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने साफ संकेत दे दिया है कि उसने अपने घटक दलों को समाप्त करना शुरू कर दिया है। संजय सिंह ने मंगलवार को कहा कि इंडिया समूह के दलों को जिस बात की आशंका थी वो सच साबित होने जा रहा है। इस सरकार में राजग के घटक दलों को गृह, रक्षा, वित्त, विदेश, वाणिज्य, रेल, सड़क, कृषि, शिक्षा, स्वास्थ्य, दूर-संचार में से कोई मंत्रालय नहीं मिला। उन्हें हाथ में केवल मंत्रालय के तौर पर झुनझुना थमा दिया गया। 

भाजपा ने साफ तौर पर पहला संकेत दे दिया है कि उसकी अपने घटक दलों को अपमानित करने और धीर-धीरे उनकी ताकत समाप्त करने की जो प्रवृत्ति और कार्य शैली है, मंत्रालय के बंटवारे के बाद इसकी शुरुआत हो गई है। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा ने 10 साल में देश के अंदर जोड़-तोड़ करके, विधायकों और सांसदों की खरीद फरोख्त करके पार्टियों को तोड़ा है। राजग के घटक दलों को ये झुनझुना मंत्रालय देने के बाद अब इनका अगला चरण इन पार्टियों को खत्म करना होगा।

आप नेता ने कहा कि अगर गलती से भी भाजपा का स्पीकर बन गया तो उसके तीन बड़े खतरे हैं। बाबा साहब अंबेडकर द्वारा लिखे गए संविधान की धज्जियां उडाई जायेगी। राजग के घटक दल तेलुगू देशम पार्टी (तेदपा), जनता दल-यूनाईटेड (जद-यू), जनता दल-सेक्युलर (जद-एस) और राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) इन सभी छोटी से लेकर बड़ी पार्टियों को तोड़-तोड़कर भाजपा के साथ मिलाया जाएगा। कोई भी सांसद अगर सरकार के मनमाने बिल के खिलाफ आवाज उठाएगा तो उसे मार्शल के द्वारा बाहर निकाल दिया जाएगा।

संजय सिंह ने कहा कि तेदपा, जद-यू जैसे दलों से अनुरोध करूंगा कि कम से कम लोकसभा अध्यक्ष अपना बनाइए। यह आपकी पार्टियों के हित में है। यह बाबा साहब अंबेडकर के संविधान, भारत के लोकतंत्र और देश के संसदीय परंपराओं के हित में है कि लोकसभा अध्यक्ष तेदपा का होना चाहिए।