ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRअनशन के दूसरे दिन आतिशी के स्वास्थ्य में गिरावट, जलसंकट पर कल LG से मिलेंगे AAP नेता

अनशन के दूसरे दिन आतिशी के स्वास्थ्य में गिरावट, जलसंकट पर कल LG से मिलेंगे AAP नेता

आम आदमी पार्टी ने एलजी को लिख पत्र में बताया कि दिल्ली में हरियाणा से रोजाना 100 एमजीडी पानी कम आ रहा है। इस वजह से दिल्ली के 28 लाख से ज्यादा लोगों को अपने हक का पानी नहीं मिल पा रहा है।

अनशन के दूसरे दिन आतिशी के स्वास्थ्य में गिरावट, जलसंकट पर कल LG से मिलेंगे AAP नेता
aap wrote a letter to delhi lg regarding the shortage of water in the national capital
Sourabh Jainलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीSat, 22 Jun 2024 08:55 PM
ऐप पर पढ़ें

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में गहराते जलसंकट को लेकर आम आदमी पार्टी (AAP) ने दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने शहर में हो रही पानी की कमी को लेकर अपना पक्ष रखते हुए इसके समाधान के लिए उनसे मिलने की बात कही है। पत्र में बताया गया है कि पार्टी के सांसद, विधायक और नेता इस मामले को लेकर बातचीत करने के लिए उनसे रविवार सुबह 11 बजे मिलने जाएंगे। यह चिट्ठी आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव पंकज गुप्ता की तरफ से लिखी गई है। उधर जलसंकट को लेकर अनशन पर बैठीं आतिशी के स्वास्थ्य में शनिवार को गिरावट दर्ज की गई है। उनके ब्लड प्रेशर, शुगर और वजन में कमी आई है।

आतिशी के स्वास्थ्य में आई गिरावट

उधर अनिश्चितकालीन अनशन के दूसरे दिन जल मंत्री आतिशी के स्वास्थ्य में गिरावट दर्ज की गई है। इस दौरान उनके ब्लड प्रेशर, शुगर और वजन में कमी आई है। इस बात की जानकारी आम आदमी पार्टी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर दी। इस बारे में पार्टी ने लिखा, 'दिल्लीवालों को उनके हक का पानी दिलाने के लिए दिल्ली की जल मंत्री आतिशी ने अपनी जान दांव पर लगा दी है। आज अनिश्चितकालीन अनशन के दूसरे दिन आतिशी जी के स्वास्थ्य में गिरावट आई है। लेकिन दिल्लीवालों को उनके हक का पानी दिलाने तक आतिशी जी के हौसले बुलंद हैं। चाहे कितने कष्ट सहने पड़ें, दिल्ली के हक का पानी मिलने तक अनशन जारी रहेगा।'

कल एलजी से मिलने जाएंगे AAP नेता

AAP के राष्ट्रीय सचिव पंकज गुप्ता ने अपने पत्र में उपराज्यपाल को संबोधित करते हुए लिखा है, 'महोदय जैसा कि आपको ज्ञात है कि पिछले कुछ दिनों से दिल्ली जल संकट का सामना कर रही है। हरियाणा सरकार द्वारा दिल्ली के हिस्से का पूरा पानी नहीं छोड़ने की वजह से यह जल संकट बढ़ा है। उस पर हीट वेव ने दिल्ली में पानी की मांग को और बढ़ा दिया है। ऐसे में हरियाणा सरकार द्वारा दिल्ली के हक का पूरा पानी नहीं छोड़े जाने के कारण जल संकट और गहरा गया है।'

'दिल्ली में प्रतिदिन करीब 1005 मिलियन गैलन (एमजीडी) पानी की सप्लाई होती है। चूंकि दिल्ली अपनी पानी की जरूरतें पूरी करने के लिए पूरी तरह से पड़ोसी राज्यों पर निर्भर है। 1005 एमजीडी पानी में से दिल्ली को हरियाणा से 613 एमजीडी पानी मिलना चाहिए, लेकिन हरियाणा से 513 एमजीडी से भी कम पानी मिल रहा है। दिल्ली में हरियाणा से रोज़ाना 100 एमजीडी पानी कम आ रहा है। इस वजह से दिल्ली के 28 लाख से ज्यादा लोगों को अपने हक का पानी नहीं मिल पा रहा है और दिल्ली में पानी के लिए त्राहि-त्राहि मची हुई है।'

'दिल्ली की जलमंत्री आतिशी ने पानी के लिए केंद्र और हरियाणा सरकार के साथ-साथ हिमाचल सरकार से बात कीं। हिमाचल पानी देने को तैयार है, लेकिन वह पानी हरियाणा से होकर दिल्ली आना है। इसके लिए हरियाणा सरकार ने मना कर दिया। इसके बाद दिल्ली सरकार सुप्रीम कोर्ट गई। दिल्ली सरकार के अफसरों ने हरियाणा सरकार बात की, जलमंत्री ने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखीं, लेकिन इन सब के बाद भी हरियाणा ने दिल्ली को पानी नहीं दिया।'

'दिल्लीवालों को अपने हक का पूरा पानी नहीं मिलने से आहत जलमंत्री आतिशी 21 जून 2024 से जंगपुरा के भोगल में अनिश्चितकालीन अनशन 'पानी सत्याग्रह' कर रही हैं। अतः पानी के मुद्दे को लेकर आम आदमी पार्टी के तमाम सांसद, विधायक और वरिष्ठ नेता कल सुबह 11 बजे आपसे मिलने आ रहे है। चूंकि दिल्ली में पानी का गंभीर संकट है और दिल्लीवालों को अपने हक का पानी मिलना चाहिए। लिहाजा, इस गंभीर मुद्दे पर चर्चा करने के लिए हम आपसे मिलने आ रहे हैं। हमें पूरी उम्मीद है के कल हम साथ बैठ कर इस समस्या का हल निकाल लेंगे।'

सक्सेना ने AAP को ठहराया जिम्मेदार

आम आदमी पार्टी ने यह कदम सक्सेना के शनिवार को दिए उस बयान के बाद उठाया है, जिसमें उन्होंने शहर में व्याप्त जल संकट के लिए AAP सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। सक्सेना ने जल संकट पर अपने बयान में कहा कि पिछले कुछ हफ्तों में दिल्ली के मंत्रियों का तीखा भाषण विभिन्न स्तरों पर परेशान करने वाला और संदिग्ध रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि 'दिल्ली के राजनीतिक नेताओं ने राजनीतिक लाभ प्राप्त करने के उद्देश्य से पड़ोसी राज्यों पर आरोप लगाने के लिए संकट को अवसर में बदल दिया है। इस विवादास्पद स्थिति ने दिल्ली के लोगों की समस्याओं को और बढ़ा दिया है और पानी की कमी से जूझ रहे पड़ोसी राज्यों को नाराज कर दिया है।' एलजी ने कहा, '10 साल तक सत्ता में रहने के बाद भी AAP सरकार ने जल उपचार क्षमता में एक लीटर भी वृद्धि नहीं की, जो उसे अपनी पूर्ववर्ती शीला दीक्षित सरकार से विरासत में मिली थी। उन्होंने दिल्ली आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि पाइपलाइनों का आपूर्ति और वितरण नेटवर्क पुराना और लीक हो रहा है, दिल्ली में 54 प्रतिशत पानी का हिसाब नहीं है, जिसमें से 40 प्रतिशत बर्बाद हो जाता है।'