ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRराज्यसभा से निलंबन मामले में विशेषाधिकार समिति के समक्ष पेश हो सकते हैं राघव चड्ढा, मिले संकेत

राज्यसभा से निलंबन मामले में विशेषाधिकार समिति के समक्ष पेश हो सकते हैं राघव चड्ढा, मिले संकेत

राज्य सभा से अनिश्चितकालीन निलंबन को चुनौती देने वाले आम आदमी पार्टी के निलंबित सांसद राघव चड्ढा (AAP lawmaker Raghav Chadha) विशेषाधिकार समिति के समक्ष उपस्थित हो सकते हैं। ऐसे संकेत मिले हैं।

राज्यसभा से निलंबन मामले में विशेषाधिकार समिति के समक्ष पेश हो सकते हैं राघव चड्ढा, मिले संकेत
Krishna Singhभाषा,नई दिल्लीFri, 24 Nov 2023 11:24 PM
ऐप पर पढ़ें

सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सभा से अनिश्चितकालीन निलंबन को चुनौती देने वाले आम आदमी पार्टी (आप) के निलंबित सांसद राघव चड्ढा की याचिका पर सुनवाई शुक्रवार को टाल दी। इससे पहले, सर्वोच्च न्यायालय को सूचित किया गया कि इस मसले पर कुछ डेवलपमेंट हुआ है। राज्यसभा सचिवालय की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता द्वारा यह बताये जाने पर कि विषय पर चर्चा जारी है, प्रधान न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति जेबी पारदीवाला एवं न्यायमूर्ति मनोज मिश्रा की पीठ ने विषय की सुनवाई एक दिसंबर के लिए सूचीबद्ध कर दी।

तुषार मेहता ने कहा- सर्वोच्च न्यायालय के सुझाव के अनुसार, कुछ चर्चाएं हुई हैं और अब वह (राघव चड्ढा) विशेषाधिकार समिति के समक्ष उपस्थित हो सकते हैं। विषय को एक दिसंबर को लिया जा सकता है, तब तक कुछ घटनाक्रम होंगे। राघव चड्ढा की ओर से पेश हुए अधिवक्ता शादान फरासत ने कहा कि शीतकालीन सत्र के लिए सदन को प्रश्न भेजने की समय सीमा जल्द ही समाप्त होने वाली है इसलिए विषय को 29 नवंबर के लिए सूचीबद्ध किया जा सकता है।

न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने फरासत से कहा- कभी-कभी शांत रहना और भाव को समझना बेहतर होता है। पीठ ने विषय की सुनवाई एक दिसंबर के लिए निर्धारित कर दी। शीर्ष न्यायालय ने तीन नवंबर को चड्ढा को राज्यसभा के सभापति जगदीप धनखड़ से मिलने और प्रवर समिति विवाद को लेकर बिनाशर्त माफी मांगने को कहा था। साथ ही, यह भी कहा था कि धनखड़ इस पर सहानुभूतिपूर्वक विचार कर सकते हैं।

राघव चड्ढा (AAP lawmaker Raghav Chadha) 11 अगस्त से निलंबित हैं क्योंकि कुछ सांसदों ने उन पर आरोप लगाया था कि उन्होंने उनकी सहमति के बगैर एक प्रस्ताव में उनका नाम जोड़ दिया। इन सांसदों में ज्यादातर भाजपा के हैं। प्रस्ताव के जरिये विवादास्पद दिल्ली सेवाएं विधेयक की पड़ताल के लिए एक प्रवर समिति गठित करने की मांग की गई थी। यह आरोप लगाया गया था कि राज्यसभा सदस्य चड्ढा ने दिल्ली सेवाएं विधेयक प्रवर समिति के पास भेजने के लिए एक प्रस्ताव पेश किया।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें