ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRलोकसभा चुनाव 2024 में हार के बाद मंथन-चिंतन में जुटी AAP, पार्षदों संग समीक्षा बैठक कर मांगे सुझाव

लोकसभा चुनाव 2024 में हार के बाद मंथन-चिंतन में जुटी AAP, पार्षदों संग समीक्षा बैठक कर मांगे सुझाव

एमसीडी प्रभारी व विधायक दुर्गेश पाठक ने बताया कि लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद पहली बार पार्षदों के साथ बैठक हुई है। इसमें 'आप' के वरिष्ठ नेताओं के अलावा मेयर व डिप्टी मेयर भी मौजूद रहे।

लोकसभा चुनाव 2024 में हार के बाद मंथन-चिंतन में जुटी AAP, पार्षदों संग समीक्षा बैठक कर मांगे सुझाव
Praveen Sharmaनई दिल्ली। हिन्दुस्तानSun, 09 Jun 2024 05:28 AM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव 2024 के नतीजों को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) में बैठकों का दौरा जारी है। 'आप' नेताओं ने शनिवार को दिल्ली के पार्षदों के साथ बैठक की। इस दौरान आगे की रणनीति और अन्य मामलों को लेकर सुझाव मांगे गए। 'आप' प्रदेश संयोजक गोपाल राय के आवास पर हुई बैठक में वार्ड स्तर पर चुनाव नतीजों को लेकर चर्चा और आगे की रणनीति पर बातचीत हुई। इस दौरान 'आप' के राष्ट्रीय संगठन मंत्री व राज्यसभा सांसद संदीप पाठक, 'आप' के प्रदेश संयोजक गोपाल राय समेत अन्य वरिष्ठ नेता मौजूद रहे।

बैठक के बाद एमसीडी प्रभारी व विधायक दुर्गेश पाठक ने बताया कि लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद पहली बार पार्षदों के साथ बैठक हुई है। इसमें 'आप' के वरिष्ठ नेताओं के अलावा मेयर व डिप्टी मेयर भी मौजूद रहे। बैठक में चुनाव नतीजों को लेकर चर्चा की गई। देश की जनता ने जो जनादेश दिया है उससे भाजपा का घमंड टूटा है। भाजपा शासित केंद्र सरकार बीते दस साल से दिल्लीवालों के साथ अन्याय कर रही है। चाहे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जेल भेजना हो या फिर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद अध्यादेश लाकर दिल्ली सरकार के अधिकार छीनने का मामला हो।

उन्होंने कहा कि अब जनता ने जिस तरह से जनादेश दिया है उससे साफ है कि वह भाजपा को सत्ता से हटाना चाहती थी। जनादेश के बाद उम्मीद है कि भाजपा को सबक मिलेगा और केंद्र सरकार दिल्ली सरकार के अधिकारों को वापस करेगी।

वार्ड स्तर के रिपोर्ट कार्ड पर भी चर्चा हुई

बैठक में भविष्य को लेकर फैसले के सवाल पर कहा कि वार्ड स्तर के रिपोर्ट कार्ड पर भी चर्चा हुई है। साथ ही संगठन को मजबूत करने के लिए, कमियों को चिह्नित करने को लेकर उनसे सुझाव मांगे गए। साथ ही यह तय किया है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जब तक जेल में हैं हमारा संघर्ष जारी रहेगा। वर्तमान में अधिकारों को लेकर जो लड़ाई चल रही है, उसे जनता के साथ मिलकर लड़ेंगे।