ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRहमें पानी दिलवा दीजिए; दिल्ली में जल संकट पर AAP सरकार दौड़ी SC; क्या-क्या कहा

हमें पानी दिलवा दीजिए; दिल्ली में जल संकट पर AAP सरकार दौड़ी SC; क्या-क्या कहा

दिल्ली में जल संकट को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। केजरीवाल की सरकार ने सर्वोच्च अदालत से मामले में दखल देने और पड़ोसी राज्यों से पानी दिलाने की मांग की।

हमें पानी दिलवा दीजिए; दिल्ली में जल संकट पर AAP सरकार दौड़ी SC; क्या-क्या कहा
Sudhir Jhaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 31 May 2024 11:59 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली में जल संकट को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। अरविंद केजरीवाल की सरकार ने सर्वोच्च अदालत से मामले में दखल देने की गुजारिश करते हुए कहा है कि पड़ोसी राज्यों को अधिक पानी छोड़ने का निर्देश दिया जाए। दिल्ली में पिछले कुछ दिनों से पानी की भारी किल्लत है और दिल्ली सरकार का आरोप है कि यमुना में हरियाणा ने पानी की आपूर्ति कम कर दी है, जिसकी वजह से संकट उत्पन्न हुआ है।

आम आदमी पार्टी की सरकार ने देश की सबसे बड़ी अदालत से कहा है कि हीटवेव की स्थिति की वजह से शहर में पानी की मांग बहुत बढ़ गई है। पड़ोसी राज्य हरियाणा, उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश को एक महीने तक यमुना में अतिरिक्त पानी छोड़ने का निर्देश दिया जाए। सरकार ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में पानी की आवश्यकता पूरी करने के लिए काम करना सबकी जिम्मेदारी है।

इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी हरियाणा के भाजपा सरकार से एक महीने तक ज्यादा पानी भेजने की मांग की। वहीं, दिल्ली सरकार की मंत्री ने आरोप लगाया कि हरियाणा सरकार ने जानबूझकर दिल्ली की तरफ आने वाले पानी में कमी कर दी है। इस बीच भारतीय जनता पार्टी ने जल संकट के लिए केजरीवाल सरकार के कुप्रबंधन को जिम्मेदार ठहराया है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा ने केजरीवाल सरकार पर बरसते हुए कहा कि लिकेज की वजह से संकट है। उन्होंने कहा, 'मैं आंकड़ों में साबित कर सकता हूं कि हरियाणा दिल्ली को 1049 क्यूसेक पानी दे रहा है। लेकिन यह लोग पानी के बर्बादी के नाम पर दो हजार रुपये का जुर्माना लगाकार टैंकर माफियाओं को बढ़ावा दे रहे हैं। दिल्ली में करीब 53 फीसदी तक पानी इसलिए बर्बाद होता है। क्योंकि पानी की पाइप लाइन को रखरखाव ठीक नहीं है। दिल्ली में काफी जगहों पर पानी की लिकेज हो रही है लेकिन उस पर कोई काम नहीं होता है।'

भाजपा नेता बांसुरी स्वराज ने कहा दिल्ली सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए कहा, 'आम आदमी पार्टी की सरकार ने बनावटी संकट पैदा किया है। वह जल बोर्ड जो 2013 में 600 करोड़ के मुनाफे में था, वह 73 हजार करोड़ के घाटे में हैं। जवाब दे केजरीवाल सरकार। यह वह सरकार है जो वचन देती थी मुफ्त पानी का आज बूंद-बूंद के लिए दिल्ली तरस रही है।'

राजधानी में भीषण गर्मी के बीच लोगों को पानी किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। शहर के कुछ हिस्सों में तापमान 50 डिग्री सेल्सियस के आसपास बना हुआ है तो लोगों को पीने के पानी के लिए भी संघर्ष करना पड़ रहा है। कई इलाकों में दिन में एक बार तो कई इलाकों में 48 घंटे में एक बार ही पानी की आपूर्ति हो रही है। कई इलाके सिर्फ टैंकर पर निर्भर हैं। पानी की बर्बादी पर सरकार ने 2 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाने का ऐलान कर दिया है।