ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRकेजरीवाल झुके और कांग्रेस भी हटी पीछे; '7-39' वाली डील की इनसाइड स्टोरी

केजरीवाल झुके और कांग्रेस भी हटी पीछे; '7-39' वाली डील की इनसाइड स्टोरी

कई दौर की बैठकों और रायशुमारी के बाद आप और कांग्रेस के बीच इस पूरी डील को 7-39 के फॉर्मूले पर लॉक कर दिया गया है। यानी कुल 7 सीटों पर आम आदमी पार्टी तो 39 पर कांग्रेस चुनाव लड़ेगी। 

केजरीवाल झुके और कांग्रेस भी हटी पीछे; '7-39' वाली डील की इनसाइड स्टोरी
Aditi Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 24 Feb 2024 03:40 PM
ऐप पर पढ़ें

बीजेपी को टक्कर देने के लिए आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ने पांच राज्यों में मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ने का फैसला किया है। सीट शेयरिंग की घोषणा भी कर दी गई है। पंजाब को छोड़कर दोनों ही दल दिल्ली, गुजरात, गोवा, चंडीगढ़ और हरियाणा में मिलकर चुनाव लड़ेंगे। कई दौर की बैठकों और रायशुमारी के बाद इस पूरी डील को 7-39 के फॉर्मूले पर लॉक कर दिया गया है। यानी कुल 7 सीटों पर आम आदमी पार्टी तो 39 पर कांग्रेस चुनाव लड़ेगी। 

इस डील को तय करने में दोनों ही पार्टियां काफी लचीला रुख अपनाती नजर आई। दिल्ली में कांगेस  को एक के बजाय तीन सीटें देकर और चंडीगढ़- गोवा में अपनी उम्मीदवारी वापस लेकर जहां आप अपने स्टैंड से दो कदम पीछे हटी तो वहीं गुजरात की भरूच सीट केजरीवाल के हवाले कर कांग्रेस ने भी बड़ा दिल दिखाया। मकसद केवल एक था किसी भी हालत में इस गठबंधन को कामयाब करना। आइए जानते हैं इस पूरी डील की इनसाइड स्टोरी क्या है।

दिल्ली में 4-3 के फॉर्मूले पर बनी बात

दिल्ली में आम आदमी पार्टी चार और कांग्रेस तीन सीटों पर चुनाव लड़ेगी। 'आप' दक्षिणी दिल्ली, पश्चिमी दिल्ली, पूर्वी दिल्ली और नयी दिल्ली लोकसभा सीट पर उम्मीदवार उतारेगी, जबकि कांग्रेस चांदनी चौक, उत्तर पश्चिम दिल्ली और उत्तर पूर्वी दिल्ली सीट पर चुनाव लड़ेगी। पहले 'आप' ने कांग्रेस को दिल्ली में आम केवल एक सीट की पेशकश की थी। आम आदमी पार्टी ने कहा था कि वैसे तो कांग्रेस एक सीट के भी लायक नहीं है लेकिन गठबंधन के धर्म को ध्यान में रखते हुए एक सीट दे सकते हैं। हालांकि अब इसी स्टैंड से पीछ हटते हुए पार्टी ने दिल्ली में 4-3 के फॉर्मूले पर मुहर लगा दी है। फिलहाल यहां की सभी सात सीटें बीजेपी के पास हैं। पिछले दो बार के लोकसभा चुनावों से बीजेपी ने ही यहां अपना कब्जा जमाया हुआ है जबकि 2009 में कांग्रेस ने सभी सीटों पर जीत हासिल की थी। ऐसे में इस बार आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के गठबंधन मुकाबला दिलचस्प नजर आ रहा है। 

केजरीवाल को मिली गुजरात की भरूच सीट

गुजरात में लोकसभा की कुल 26 सीटें है। यहां अधिकतर सीटों पर कांग्रेस चुनाव लड़ेगी लेकिन भरूच की जंग आम आदमी पार्टी ने जीत ली है। यहां 26 में से 24 पर कांग्रेस और 2 पर आम आदमी पार्टी चुनाव लड़ने का फैसला किया है।  इस दौरान भरूच सीट को लेकर दोनों पार्टियों के बीच काफी खींचतान हुई। दरअसल आम आदमी पार्टी ने पहले ही भरूच और भावनगर में अपने उम्मीदवार का ऐलान  कर दिया था। 'आप' उम्मीदवार ने भरूच में चुनाव प्रचार भी शुरू कर दिया लेकिन ये सीट गांधी परिवार के करीबी रहे कांग्रेस नेता अहमद पटेल की मानी जाती रही है। इस बार यहां से उनकी बेटी मुमताज की दावेदारी तय मानी जा रही थी लेकिन केजरीवाल  इस सीट पर अड़े रहे। इस दौरान खबर ये भी थी कि राहुल गांधी भी भरूच सीट छोड़े जाने से नाराज हैं लेकिन आखिर में ये सीट केजरीवाल के हाथ ही लगी। भरूच सीट मिलने के बाद आम आदमी पार्टी जो पहले गुजरात में 8 सीटों की मांग कर रही थी, बाद में दो सीटों पर राजी हो गई। 

हरियाणा में 'आप' को केवल एक सीट, चंडीगढ़ में हटी पीछे

हरियाणा में कुल 10 लोकसभा सीटें है और फिलहाल सभी बीजेपी के पास हैं। यहां से कांग्रेस 9 सीटों पर चुनाव लड़ेगी जबकि आप कुरुक्षेत्र में अपना उम्मीदवार उतारेगी। इसके अलावा चंडीगढ़ मे भी आम आदमी पार्टी पीछे हटती नजर आई है। पहले पार्टी ने यहां से उम्मीदवार उतारने का ऐलान कर दिया था लेकिन अब वह केवल कांग्रेस का समर्थन करेगी और इस सीट से कांग्रेस उम्मीदवार चुनाव में उतरेगा। 

गोवा में भी कांग्रेस लड़ेगी चुनाव

चंडीगढ़ की तरह गोवा में भी आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस को समर्थन देने का फैसला किया है और दोनों सीटों पर कांग्रेस ही अपना उम्मीदवार उतारेगी। कुछ दिनों पहले यहां की एक सीट पर आप ने अपने उम्मीदवार का ऐलान कर दिया था लेकिन कांग्रेस के साथ हुई चर्चा के बाद पार्टी उम्मीदवारी वापस लेने का ऐलान किया है। 

पंजाब में होगी टक्कर

दोनों ही पार्टियों के बीच पंजाब को लेकर कोई सहमति नहीं बन पाई है। ऐसे में यहां दोनों दल एक दूसरे के आमने सामने होंगे और सभी सीटों पर अपने-अपने उम्मीदवार उतारेंगे। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मुकुल वासनिक ने कहा कि पंजाब के हालात अलग है इसलिए वहां कोई सहमति नहीं बन पाई है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें