ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRसिटिंग विधायकों को लोकसभा टिकट, जातिगत समीकरण साधा; AAP ने दिल्ली की 4 सीटों पर किसे उतारा

सिटिंग विधायकों को लोकसभा टिकट, जातिगत समीकरण साधा; AAP ने दिल्ली की 4 सीटों पर किसे उतारा

आम आदमी पार्टी ने दिल्ली की चार लोकसभा सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया है। पार्टी ने अपने मौजूदा तीन विधायकों पर दांव लगाया है। आप ने इसके जरिए क्षेत्रीय समीकरण बैठाने की कोशिश की।

सिटिंग विधायकों को लोकसभा टिकट, जातिगत समीकरण साधा; AAP ने दिल्ली की 4 सीटों पर किसे उतारा
Sneha Baluniहिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 28 Feb 2024 05:34 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली की चार लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ रही आम आदमी पार्टी ने अपने मौजूदा तीन विधायकों पर दांव लगाया है। विधायकों को लोकसभा का टिकट देने पर आप ने भले ही कहा कि जात-पात भरोसा नहीं करती, लेकिन पार्टी ने इसके जरिए क्षेत्रीय समीकरण बैठाने के साथ भाजपा विरोधी मतों को एकजुट करने की कोशिश भी की है। आप द्वारा घोषित किए गए चार उम्मीदवारों में तीन मौजूदा विधायक हैं। 

सोमनाथ भारती मालवीय नगर व सहीराम तुगलकाबाद विधानसभा सीट से तीन बार लगातार विधायक चुने गए हैं। कुलदीप कुमार 2020 में पहली बार विधायक बने थे। उन्होंने दिल्ली में युवा दलित चेहरे के रूप में पहचान बनाई है। चौथा टिकट महाबल मिश्रा को मिला है, जो दो बार सांसद रह चुके हैं। वर्तमान में बेटा विनय कुमार मिश्रा द्वारका से विधायक है। पश्चिमी दिल्ली से वह पांचवीं बार लोकसभा चुनाव लड़ने जा रहे हैं।

खास कारणों से सीटों का चयन 

इंडिया गठबंधन के तहत आम आदमी पार्टी ने कुछ खास कारणों की वजह से सीटों का चयन किया है। नई दिल्ली संसदीय सीट पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का विधानसभा क्षेत्र है। दिल्ली सरकार के दो मंत्री भी इसी लोकसभा क्षेत्र में आते हैं। इसी तरह दक्षिणी दिल्ली में कांग्रेस के पास कोई मजबूत नेता नहीं था तो आम आदमी पार्टी ने यह सीट अपने पास रखी। आतिशी दक्षिणी दिल्ली कोटे से मंत्री भी हैं। 

इसके अलावा पूर्वी दिल्ली आप के पास है। यहां पर पूर्व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का विधानसभा क्षेत्र के अलावा कोंडली, त्रिलोकपुरी जैसी आरक्षित सीटें भी हैं, जहां पर पार्टी मजबूत स्थिति में है। दूसरी ओर, कांग्रेस भी अपने प्रत्याशी उतारने की तैयारी में जुट गई है। गोपनीय रूप से इस ओर तैयारी की जा रही है। हालांकि, दो दिन पहले जब सीटों की घोषणा हुई थी तो कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली ने दावा किया था कि वह पूरी मजबूती से चुनाव लड़ेंगे और एकजुट होकर जीत का झंडा लहराएंगे।

उम्मीदवारों का प्रोफाइल

सामान्य वर्ग की सीट पर दलित चेहरा उतारा
पूर्वी दिल्ली कुलदीप कुमार

इनका राजनीतिक जीवन आम आदमी पार्टी से शुरू हुआ। 34 वर्षीय कुलदीप पहली बार 2017 में आप से पार्षद बने। पूर्वी दिल्ली नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष भी रहे। दलित युवा चेहरे के रूप में उन्होंने पहचान बनाई और पार्टी ने वर्ष 2020 में उन्हें कोंडली आरक्षित सीट से विधानसभा चुनाव में उतारा। वह पहली बार विधायक बने। वर्तमान में वह विधायक होने के साथ संगठन में अहम जिम्मेदारी निभा रहे हैं। चारों उम्मीदवार में यह सबसे छोटे हैं।

केजरीवाल के पैठ वाले क्षेत्र से मिला मौका
नई दिल्ली सोमनाथ भारती

49 वर्षीय सोमनाथ भारती पर तीन बार लगातार मालवीय नगर सीट से विधायक हैं। पहली बार 2013 में मालवीय नगर से विधायक बने। आप की पहली 49 दिन की सरकार में कानून मंत्री भी रहे। उसके बाद लगातार 2015 फिर 2020 में फिर विधायक बने। हालांकि, कुछ पारिवारिक विवादों के बाद दोबारा मंत्री नहीं बन पाए। वर्तमान में जल बोर्ड के उपाध्यक्ष हैं। नई दिल्ली इलाके में ही मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की विधानसभा भी आती है। इस समीकरण का भी ध्यान रखा गया है।

पूर्वांचली मतदाताओं को साधने की कोशिश
पश्चिमी दिल्ली महाबल मिश्रा

70 वर्षीय महाबल मिश्रा दिल्ली की राजनीति का पुराना चेहरा हैं। वह विधायक रहने के साथ 2009 में कांग्रेस से पश्चिमी दिल्ली से सांसद रहे। हालांकि, उसके बाद बेटे विनय कुमार मिश्रा आप में शामिल हो गए, वर्तमान में द्वारका से विधायक हैं। बेटे के बाद 2019 में लोकसभा चुनाव हारने के बाद उनकी भी आप के साथ नजदीकी बढ़ी। अब पार्टी ने उन्हें फिर से पश्चिमी दिल्ली लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में उतारा है। वह इस सीट पर 2009 से लगातार लड़ते आ रहे हैं। यह उनका चौथा लोकसभा चुनाव है।

इस सीट पर गुर्जर बनाम गुर्जर का गणित ध्यान में रखा

यह तुगलकाबाद विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। 65 वर्षीय सहीराम तीन बार से लगातार इस सीट पर जीत रहे हैं। आप ने उन्हें दक्षिणी दिल्ली सीट से उम्मीदवार बनाया है। दक्षिणी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र में कई गांव आते हैं। उनके मतदाताओं को लुभाने के साथ, बाहरी दिल्ली के गांवों पर भी इनका असर पड़ेगा। पूर्वी दिल्ली में गुर्जरों के कई गांव हैं। वहीं, इस लोकसभा क्षेत्र से वर्तमान में भाजपा से रमेश बिधूड़ी सांसद हैं। वे भी तुगलकाबाद गांव सेहैं और गुर्जर समाज से आते हैं। इसलिए इस सीट पर गुर्जर बनाम गुर्जर की स्थिति बन सकती है।

भाजपा बोली- चुनाव पर आप गंभीर नहीं

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा ने कहा कि कांग्रेस के साथ गठबंधन के साथ ही साफ हो गया था कि दिल्ली में आप भाजपा से लड़ने की स्थिति में नहीं है। आप ने जो चार उम्मीदवार घोषित किए हैं, उससे साफ है कि पार्टी लोकसभा चुनाव को लेकर गंभीर नहीं है। दिल्ली के लोग भ्रष्टाचार के मुकाबले में भाजपा के विकास को चुनेंगे। तीन सीटों पर विधायकों को उतारकर आप ने साफ कर दिया है कि उनके पास चुनाव लड़ने के लिए उम्मीदवार नहीं हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें