ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRकेजरीवाल की गैर-मौजूदगी में AAP का बड़ा कदम, इस राज्य में भंग कर दी यूनिट, क्या वजह?

केजरीवाल की गैर-मौजूदगी में AAP का बड़ा कदम, इस राज्य में भंग कर दी यूनिट, क्या वजह?

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के जेल में रहने के बीच बीच आम आदमी पार्टी ने एक बड़ा फैसला लिया है। आम आदमी पार्टी ने एक राज्य में अपनी यूनिट को भंग कर दिया है। पढ़ें यह रिपोर्ट...

केजरीवाल की गैर-मौजूदगी में AAP का बड़ा कदम, इस राज्य में भंग कर दी यूनिट, क्या वजह?
Krishna Singhलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 24 Jun 2024 10:18 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गैर-मौजूदगी के बीच आम आदमी पार्टी ने एक बड़ा फैसला लिया है। आम आदमी पार्टी ने असम की अपनी मौजूदा इकाई को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया है। AAP की ओर से जारी एक लेटर पैड में कहा गया है कि आम आदमी पार्टी असम राज्य में मौजूदा संगठन को तत्काल प्रभाव से भंग करती है। जब तक नए संगठनात्मक ढांचे का ऐलान नहीं हो जाता तब तक प्रदेश अध्यक्ष, प्रदेश सचिव और प्रदेश कोषाध्यक्ष अपने पदों पर बने रहेंगे।

आम आदमी पार्टी के उत्तर पूर्वी राज्यों के इंचार्ज राजेश शर्मा की ओर से जारी किए गए लेटर में कहा गया है कि AAP ने पार्टी संगठन के पुनर्गठन के लिए नेताओं की एक कार्यसमिति गठित की है। कार्यसमिति के नेताओं में डॉ. भाबेन चौधरी (संयोजक), मनोज धनोवर (सह-संयोजक), राजीव सैकिया, मामून इमदादुल हक चौधरी, ऋषिराज कौंडिन्य, अनुरूपा डेकाराजा शामिल हैं। 

AAP की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि असम में आने वाले चुनावों को देखते हुए पार्टी को मजबूत करने की जरूरत है। इसके लिए आम आदमी पार्टी असम की मौजूदा यूनिट को भंग करने का फैसला लिया गया है। गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी की ओर से यह फैसला ऐसे वक्त में लिया गया है जब पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल जेल में हैं। 

इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने कथित शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जमानत देने के निचली अदालत के फैसले पर हाईकोर्ट की ओर से अंतरिम रोक लगाने के खिलाफ याचिका पर सुनवाई के लिए 26 जून की तारीख तय की है। न्यायमूर्ति मनोज मिश्रा और न्यायमूर्ति एसवीएन भट्टी की अवकाशकालीन पीठ ने कहा कि वह केजरीवाल की याचिका पर फैसला देने से पहले हाईकोर्ट के आदेश का इंतजार करना चाहेगी।