DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

95 साल की सास को बहू ने कर रखा था कैद, छोड़ने के लिए पति के सामने रखी ये शर्त

बहू द्वारा घर में कैद कर रखी गई 95 साल की वृद्ध महिला

अपनी बहू द्वारा कैद कर रखी गई एक 95 वर्षीय महिला को दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्लू) ने शुक्रवार को सकुशल छुड़ा लिया। बहू द्वारा सास को घर में कैद किए जाने की शिकायत खुद उस आरोपी महिला के पति ने की थी, जिसके बाद इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया। हालांकि, मां को पत्नी की कैद से छुड़ाने के लिए उसे फिर कभी उस घर में नहीं आने का लिखित आश्वासन भी देना पड़ा।   

जानकारी के अनुसार, डीसीडब्लू हेल्पलाइन पर कॉल कर एक व्यक्ति शिकायत की थी कि उसकी मां को उसकी पत्नी और ससुराल वालों द्वारा कैद कर यातना दी जा रही हैं। शिकायतकर्ता ने यह भी बताया कि उसकी मां पूरी तरह से बिस्तर पर पड़ी है। व्यक्ति ने बताया कि जब से उसकी शादी हुई है तब से उसके और उसकी पत्नी के बीच वैवाहिक विवाद चल रहा है और उन्होंने पिछले तीन महीनों से अपनी मां को नहीं देखा है।

एेसे आया मां को बचाने का आइडिया

शिकायतकर्ता ने बताया किया कि जब भी वह अपनी मां से मिलने की कोशिश करता है तो इसके लिए उसे पुलिस से मदद लेनी पड़ती है क्योंकि उसकी पत्नी उसे घर में नहीं घुसने देती है। उसने कहा कि जब उसने वह खबर में पढ़ी थी कि डीसीडब्ल्यू ने 50 साल की एक महिला को बचाया था, जिसे दो साल तक उसके भाई ने कैद किया था, तब से उसमें उम्मीद जगी थी।

पति के सामने रखी ये शर्त  

न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, उस व्यक्ति की याचिका पर कार्रवाई करते हुए डीसीडब्ल्यू टीम उस स्थान पर गई जहां वृद्ध महिला को कैद करके रखा गया था, लेकिन शुरुआत में उसकी पत्नी ने डीसीडब्ल्यू टीम को घर में दाखिल नहीं होने दिया। हालांकि, समझाने के बाद, डीसीडब्ल्यू टीम को केवल इस शर्त पर घर में दाखिल होने की इजाजत दी कि उसके पति को एक लिखित बयान देना होगा कि घर से अपनी मां को ले जाने के बाद वह फिर कभी घर में वापस नहीं आएगा।

इसके बाद शिकायतकर्ता पति ने पत्नी की शर्तों पर सहमति जताते हुए उसे लिखित आश्वासन देकर अपनी मां को उसकी कैद से सकुशल मुक्त करा लिया। 

हालत देख हैरान रह गई डीसीडब्ल्यू टीम 

जब डीसीडब्ल्यू की टीम और पुलिस उस कमरे में दाखिल हुई जहां वृद्घ महिला को रखा गया था, तो वह उसकी हालत को देखकर हैरान रह गए। वह वृद्ध महिला बहुत बीमार लग रही थी और उसे बेहद पतले कपड़े के टुकड़े से ढंककर रखा गया था और बिस्तर के पास रखी बाल्टी में उसका खुद को थूक और मल पड़ा हुआ था। यह देख डीसीडब्ल्यू टीम ने तुरंत एम्बुलेंस को बुलाया और उस महिला को अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने बताया कि उसे गंभीर संक्रमण है और तुरंत इलाज किए जाने की जरूरत है। वह बूढ़ी औरत अभी भी अस्पताल में है और उसका बेटा उसकी देखभाल कर रहा है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:95-year-old woman held captive by daughter-in-law rescued in Delhi