DA Image
हिंदी न्यूज़ › NCR › सिंगिंग ऐप पर लाइक बढ़ाने का झांसा देकर 90 गायकों से ठगी, 10 करोड़ की धोखाधड़ी का खुलासा
एनसीआर

सिंगिंग ऐप पर लाइक बढ़ाने का झांसा देकर 90 गायकों से ठगी, 10 करोड़ की धोखाधड़ी का खुलासा

नई दिल्ली | वरिष्ठ संवाददाताPublished By: Praveen Sharma
Mon, 20 Sep 2021 09:35 AM
सिंगिंग ऐप पर लाइक बढ़ाने का झांसा देकर 90 गायकों से ठगी, 10 करोड़ की धोखाधड़ी का खुलासा

दिल्ली की उत्तर-पश्चिम जिला साइबर सेल ने स्टार मेकर सिंगिंग ऐप (Star Maker Singing App) पर लाइक बढ़ाने का झांसा देकर 90 गायकों से हुई करीब 10 करोड़ रुपये की ठगी का खुलासा किया है। इस मामले में साइबर सेल ने एक आरोपी को मेघालय के शिलांग से गिरफ्तार किया है। पुलिस अन्य पीड़ितों के बारे में जानकारी जुटा रही है।

गिरफ्तार आरोपी महावीर चार साल से इस तरह ठगी कर रहा था। पुलिस को आरोपी के खिलाफ फिरोजपुर में साढ़े आठ लाख और ऋषिकेश में 24 लाख रुपये की ठगी की शिकायत का भी पता चला है। आरोपी ने बताया कि वह खासकर उभरते हुए गायकों को शिकार बनाता था। 

शालीमार बाग के शख्स को 21 लाख की चपत लगाई : जानकारी के अनुसार, शालीमार बाग इलाके में रहने वाले गायक 50 वर्षीय लोकेश वोहरा ने स्टार मेकर ऐप पर अपना अकाउंट बनाया था, जिस पर वह अपने गाने अपलोड करते थे। ऐप पर ही महावीर प्रसाद शर्मा नाम के शख्स ने उनसे ऑनलाइन संपर्क साधा और दावा किया कि वह स्टार मेकर ऐप पर उनके अपलोड गानों पर लाइक बढ़ाने में उनकी मदद कर सकता है। लोकेश झांसे में आ गए और उसे 21 लाख रुपये दे दिए। महावीर ने 21 लाख लेकर मोबाइल बंद कर लिया।

बैंक खाते से मिला सुराग : पुलिस के अनुसार, सात सितंबर को एफआईआर दर्ज करने के साथ ही साइबर सेल प्रभारी इंस्पेक्टर सुनील शर्मा की देखरेख में एसआई वीरेंद्र की टीम गठित की गई। टीम ने मोबाइल लोकेशन के जरिए आरोपी को शिलांग से गिरफ्तार कर लिया। 

लाइक बढ़ने से होती है कमाई

स्टार मेकर ऐप पर लाइक बढ़ने से गायकों की प्रतिष्ठा बढ़ती है। इसी के साथ लाइक पर उन्हें अंक भी मिलते हैं, जिन्हें बैंक खाते में भुनाया जा सकता है। लाइक के जरिए प्रसिद्धि और कमाई बढ़ाने का भरोसा दिए जाने पर गायक आसानी से जालसाज के झांसे में आ जाते थे। 

जांच में बढ़ सकती है पीड़ितों की संख्या

आरोपी के कब्जे से मिले बैंक खातों की जांच की जा रही है। इसके आधार पर करोड़ों रुपये की लेन-देन की बात सामने आई है। खाते की जांच के आधार पर पीड़ितों से संपर्क किया जाएगा। इसके बाद पीड़ितों की संख्या बढ़ भी सकती है। - ऊषा रंगनानी, डीसीपी

संबंधित खबरें