ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRDelhi Heat : दिल्ली में जानलेवा गर्मी से 25 और लोगों की मौत, श्मशानों में बढ़े शव; एक हफ्ते में 500 अंतिम संस्कार

Delhi Heat : दिल्ली में जानलेवा गर्मी से 25 और लोगों की मौत, श्मशानों में बढ़े शव; एक हफ्ते में 500 अंतिम संस्कार

भीषण गर्मी के बीच राजधानी में काफी संख्या में लोगों की मौत हो रही है। इस कारण निगम बोध घाट के साथ-साथ दूसरे श्मशान घाटों पर भी अंतिम संस्कार के लिए शव की संख्या बढ़ गई है।

Delhi Heat : दिल्ली में जानलेवा गर्मी से 25 और लोगों की मौत, श्मशानों में बढ़े शव; एक हफ्ते में 500 अंतिम संस्कार
Praveen Sharmaनई दिल्ली। हिन्दुस्तानFri, 21 Jun 2024 05:29 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली में गर्मी की चपेट में आने से मौत के मामले थम नहीं रहे हैं। वहीं, श्मशान घाटों पर पहले के मुकाबले अंतिम संस्कारों की संख्या बढ़ने लगी है। राजधानी के अलग-अलग अस्पतालों में बीते 24 घंटे में 25 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। सफदरजंग अस्पताल में बीते 24 घंटे में 33 मरीजों को भर्ती किया गया, जबकि इलाज के लिए भर्ती 13 मरीजों ने दम तोड़ दिया। अस्पताल में 16 जून से अब तक 62 मरीज भर्ती और 24 की मौत हो चुकी है। वार्ड में 45 मरीज भर्ती और 28 की हालत गंभीर है।

डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल के मेडिसिन विभाग में प्रोफेसर डॉ. अजय चौहान ने बताया कि बुधवार सुबह नौ बजे से लेकर गुरुवार सुबह नौ बजे तक अस्पताल में लू को लेकर 26 मरीज इलाज के लिए भर्ती हुए, जबकि सात मरीजों की मौत हो गई। इधर, लेडी हार्डिंग अस्पताल में गुरुवार को एक मौत हुई है।

दिल्ली में आंधी और बूंदाबांदी से गर्मी का गुरूर टूटा, जानें अगले 2 दिन कैसा रहेगा मौसम

सूत्रों के अनुसार, लोक नायक अस्पताल में गुरुवार को लू लगने से चार लोगों की मौत हो गई। अस्तपताल में सात मरीज वेंटिलेटर पर हैं। बता दें कि अस्पतालों में मरीज तेज बुखार सहित बेहोशी की हालत में इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। इसमें अस्पतालों से रेफर होकर आने वाले मरीज भी शामिल हैं।

एक हफ्ते में 500 अंतिम संस्कार

भीषण गर्मी के बीच राजधानी में काफी संख्या में लोगों की मौत हो रही है। इस कारण निगम बोध घाट के साथ-साथ दूसरे श्मशान घाटों पर भी अंतिम संस्कार के लिए शव की संख्या बढ़ गई है। एक हफ्ते के अंदर निगम बोध घाट पर 500 से अधिक शवों का अंतिम संस्कार किया जा चुका है। 19 जून को 142 शवों का अंतिम संस्कार किया गया, वहीं 21 जून को दोपहर 12 बजे तक 30 शवों का अंतिम संस्कार किया गया था।

घाट के महाप्रबंधक सुमन कुमार गुप्ता ने बताया कि पिछले एक हफ्ते से औसतन 60 शव अंतिम संस्कार के लिए आ रहे थे। मगर, सबसे ज्यादा 142 शव एक दिन में बुधवार को अंतिम संस्कार के लिए लाए गए। इसने कोरोना काल की याद दिला दी। अंतिम संस्कार करने के लिए 10 अतिरिक्त लोगों की संख्या बढ़ाई गई है। क्योंकि गर्मी से यहां काम करने वाले लोग भी थक रहे हैं। उधर, लोधी कॉलोनी के आर्य समाज शवदाह गृह पर 18 जून को 18 शवों का अंतिम संस्कार किया गया। पंडित रामलाल ने बताया कि पिछले एक सप्ताह में करीब 80 शवों का अंतिम संस्कार किया गया।

कैट्स एंबुलेंस को हाई अलर्ट पर रहने के निर्देश

दिल्ली में भीषण गर्मी को देखते हुए अस्पतालों से लेकर कैट्स एंबुलेंस को अतिरिक्त सावधानी बरतने को लेकर ‘स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग की ओर से दिशानिर्देश जारी किए गए हैं। इसमें एंबुलेंस को हाई अलर्ट पर रखने से लेकर अस्पतालों में इमरजेंसी सेवा का संचालन 24 घंटे करने सहित कई दूसरे निर्देश शामिल हैं। इस संबंध में विभाग की ओर से सर्कुलर जारी किया गया है।

विभाग की ओर से अस्पतालों को कहा गया है कि लू की चपेट में आने वाले मरीजों को भर्ती करने और इलाज में कोई देरी नहीं होनी चाहिए, जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों की जिंदगी को बचाया जा सके। सभी जिलों के मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को कहा गया है कि कोई मरीज डिस्पेंसरी में इलाज के लिए आता है तो उसे तुरंत इलाज दिया जाए और एंबुलेंस की मदद से नजदीकी अस्पताल में शिफ्ट कराया जाए।

शेल्टर होम के बाहर एंबुलेंस तैनात होगी : विभाग ने कैट्स एबुलेंस को भी निर्देश दिए हैं कि मरीज को भर्ती कराने को लेकर आने वाली कॉल पर तुरंत सक्रियता दिखाएं। मरीज को नजदीकी अस्पताल में शिफ्ट करें। कैट्स विभाग की सभी एबुलेंस दिन और रात में हाई अलर्ट पर रहेंगी। इधर, दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने मदन मोहन मालवीय अस्पताल का निरीक्षण कर मरीजों का हाल जाना।

वरिष्ठ डॉक्टर तैनात होंगे

सर्कुलर के अनुसार, सभी अस्पतालों के चिकित्सा अधीक्षक/चिकित्सा निदेशकों को इमरजेंसी का 24 घंटे संचालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। लू की चपेट में आने वाले मरीजों की देखरेख के लिए अस्पताल की इमरजेंसी में एक वरिष्ठ डॉक्टर अनिवार्य तौर पर उपस्थित होगा।