DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फरीदाबाद : कांत एंक्लेव में 20 मकान जल्द गिराए जाएंगे, जानें कारण

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अमल करते हुए टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग एक अप्रैल से कांत एंक्लेव में अवैध रूप से बनी इमारतों को तोड़ना शुरू कर देगा। इस बाबत मंगलवार को कांत एंक्लेव में विभाग की तरफ से पब्लिक नोटिस चिपका दिए गए। सीनियर टाउन प्लानर की तरफ से यह नोटिस जारी किए गए हैं। जिसको लेकर स्थानीय लोगों में बैचेनी बढ़ गई है।

20 इमारतों के मालिकों ने नहीं दिया था शपथ पत्र: कांत एंक्लेव को लेकर आए सुप्रीम कोर्ट के आदेश में प्रभावित लोगों को आदेश दिए गए थे कि उनको 31 जुलाई तक मकान खाली करने होंगे। इसके लिए उनको टाउन एंड कंट्री प्लानिग विभाग में एक शपथ पत्र देना होगा। जो शपथ पत्र नहीं देंगे उनके मकान 31 मार्च के बाद कभी भी तोड़ दिए जाएंगे। जिला योजनाकार रेणूका का कहना है कि कांत एंक्लेव में 20 ऐसे निर्माण हैं, जिनको लेकर किसी ने शपथ पत्र नहीं दिए। 

इनको व्यक्तिगत रूप से पहले नोटिस जारी किए जा चुके हैं और अब इस मामले में आखिरी कागजी कार्रवाई करते हुए मंगलवार को पब्लिक नोटिस जारी कर दिए हैं। उन्होंने कहा कि 31 मार्च के बाद अब संबंधित मकानों को तोड़ने के लिए एंक्लेव में कभी भी तोड़फोड़ शुरू कर दी जाएगी।

मंडलायुक्त ने मंथन किया

कांत एंक्लेव में होने वाली तोड़फोड़ को लेकर मंगलवार को फरीदाबाद मंडलायुक्त जी. अनुपमा की अध्यक्षता में एक बैठक भी हुई। जिसमें तोड़फोड़ के लिए ड्यूटी मजिस्ट्रेट और पुलिस बल तैनात करने पर चर्चा हुई।

''अरावली के काफी वन क्षेत्र में निर्माण हुआ है। मकानों से लेकर शिक्षण संस्थान तक बने हुए हैं। सेक्टरों सहित सरकार के कई प्रोजेक्ट वन आरक्षित क्षेत्र में आते हैं, लेकिन सरकार वहां कार्रवाई नहीं कर रही है। *हमारी मांग है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशों को शहर में सभी जगहों पर सख्ती से लागू किया जाए।'' -एमबी आनंद, सेवानिवृत्त बिग्रेडियर, कांत एंक्लेव 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:20 houses will be demolished soon in Kant Enclave at Faridabad